पिथौरागढ़- पलायन के बाद पहाड़ लौटा प्रवीण का ग्राम प्रधान के पद पर कब्जा, ऐसे जीता गांव वालों का दिल

Slider

पिथौरागढ़-पंचायत चुनाव में कई युवाओं के हाथ में गांव की कमान सौंपी है। पिथौरागढ़ जिले में गुजरात से एक युवक लौट आया। उसने गांव की स्थिति देखी तो उससे रहा नहीं गया। उसने गांव रहने और गांव का विकास करने की योजना बनाई। अशिक्षित होने के चलते गांव के लोगों को योजनाओं का सही ज्ञान नही था। गुजरात से लौटे प्रवीण ने अपने प्रयास से 50 लोगों को उज्ज्वला रसोई गैस संयोजन दिलाए। गांव वाले उसके कार्य देख खुश हुए।

हल्द्वानी- नैनीताल ज़िला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए बेला तोलिया बनी बीजेपी की प्रत्याशी , अब ऐसे करेंगी जोड़तोड़

Slider

यह भी पढ़ें-दीपावली 2019, जानिए दिवाली का शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा का विधि विधान

Praveen Tamta

यह भी पढ़ें-धनतेरस 2019- धन त्रयोदशी के दिन करेंगे ये कार्यं, तो हो जाएंगे मालामाल, जानिए धनतेरस की पूजा व विधि-विधान

मूलरूप से लेपार्थी के रहने वाले मोहन टम्टा गुजरात में अग्निशमन विभाग में कार्यरत हैं। उनका बेटा प्रवीण जब गांव आया तो यहां का जीवन यही रहकर गांव के लोगों की सेवा करने की ठानी। इस बार पंचायत चुनाव में प्रवीण ने ग्राम प्रधान की दावेदारी कर डाली। जिसके बाद वह टिकट लाया। कल आये पंचायत चुनाव के परिणाम में प्रवीण को 145 और दूसरे उम्मीदवार कवींद्र सिंह कन्याल को 136 मत हासिल हुए। प्रवीण ने अपना पहला चुनावी रण नौ मतों से जीत लिया। जिसके बाद प्रवीण लेपार्थी के प्रधान बन गये।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें