iimt haldwani

देहरादून- ‘टूरिज्म ऑन व्हील्स’ योजना पर्यटकों की ऐसे बनेगी टूरिस्ट गाईड, परिवहन विभाग ने उठाया ये खास कदम

94

Uttarakhand Tourism, प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए परिवहन विभाग एक खास योजना शुरू करने जा रही है। उत्तराखंड परिवहन निगम की बसें ‘टूरिज्म ऑन व्हील्स’ योजना के तहत अब यात्रियों को पर्यटन स्थलों की जानकारी भी देंगी। राज्य परिवहन निगम की ओर से सूबे के विभिन्न पर्यटन व धार्मिक स्थलों के बारे में आमजन और बाहरी पर्यटकों को विस्तृत जानकारी देने को ‘टूरिज्म ऑन व्हील्स’ को तैयार किया गया है।

amarpali haldwani

बसों का बदलेगा रंग

इस योजना के तहत अब बसों का रंग बदला जाएगा और उन पर प्रदेश के धार्मिक व पर्यटक स्थलों के फोटो प्रसारित किए जाएंगे। जिस डिपो के क्षेत्र में जो-जो पर्यटक व धार्मिक स्थल होंगे, उनका फोटो बसों के बाहर दोनों साइड जानकारी समेत होगा। रोडवेज के नए प्रबंध निदेशक की मानें तो इससे न सिर्फ सूबे में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि बसों में यात्रियों की संख्या भी बढ़ेगी।

uttarakhand tourism

उत्तराखंड को देवभूमि के नाम से जाना जाता है। यहां हिंदुओं की आस्था के प्रतीक चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री भी हैं जबकि सिखों की आस्था के केंद्र हेमकुंठ साहिब भी। पीरान कलियर भी यहां हैं और पर्यटन के लिए औली व फूलों की घाटी समेत मसूरी, नैनीताल, पिथौरागढ़, मुनस्यारी, कार्बेट पार्क भी। यहां हरकी पैड़ी भी है और स्वर्गाश्रम भी। ऐसे तमाम स्थलों को देवभूमि समेटे हुए है। यूनेस्को ने फूलों की घाटी को विश्व विरासत की सूची में दर्ज किया हुआ है।

Uttarakhand Tourism

आपको बता दें कि बड़े पर्यटक व धार्मिकस्थल की जानकारी तो पर्यटकों को रहती है। मगर वे जिस शहर में जाते हैं, वहां क्या खास है अब इसकी जानकारी रोडवेज बसों पर देख सकेंगे। मसलन, देहरादून का प्रमुख पर्यटक स्थल मसूरी है, पर यहां कालसी, चकराता जैसे प्राचीन स्थल भी हैं, यह जानकारी दून डिपो की हर बस पर होगी। प्रदेश में रोडवेज के तीन मंडल देहरादून, टनकपुर और नैनीताल हैं। देहरादून मंडल की बसों पर यहां के पर्यटक और धार्मिक स्थलों जबकि टनकपुर एवं नैनीताल मंडल की बसों में वहां के स्थलों की जानकारी दी जाएगी।

300 नई बसों से होगी शुरुआत

प्रबंध निदेशक रणवीर सिंह चौहान ने बताया कि इस योजना की शुरुआत निगम को शीघ्र मिलने वाली 300 नई बसों से की जाएगी। इनमें 150 बसें पर्वतीय मार्ग और बाकी मैदानी मार्गो पर चलेंगी। इन बसों का रंग अलग थीम पर रंग-बिरंगा होगा। अभी रंग के चयन पर मंथन चल रहा है। ‘टूरिज्म ऑन व्हील्स’ प्रोजेक्ट विशेष रूप से परंपरा से हटकर पर्यटन को बढ़ावा देने में भूमिका निभाएगा। महत्वपूर्ण बात यह है कि टूरिज्म ऑन व्हील्स से होटल और पर्यटन आदि के नंबर भी मिल सकेंगे।