Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तराखंड हल्द्वानी- बेलवाल भोग का कारनामा बगैर अनुमति लांच किया इम्युनिटी बूस्टर काढ़ा,...

हल्द्वानी- बेलवाल भोग का कारनामा बगैर अनुमति लांच किया इम्युनिटी बूस्टर काढ़ा, अब होगी कार्यवाही

देखिए किस जुर्म में गिरफ्तार किया गया दो युवकों को

संवाददाता -अनुराग शुक्ला स्थान -सितारगंज वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा चलाए जा रहे नशे के विरुद्ध अभियान के चलते नानकमत्ता पुलिस ने  6 ग्राम अवैध स्मैक के...

जानिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा कहां चलाया गया नगर इकाई सदस्यता अभियान

संवाददाता -अनुराग शुक्ला स्थान- सितारगंज  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद सितारगंज नगर इकाई द्वारा छात्र संघ सचिव व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य देवेश कुमार के नेतृत्व में सदस्यता...

हल्द्वानी- इस दंपती ने बताया “कपल चैलैंज” का असली मतलब, अब हो रही वाहवाही

सोशल मीडिया में इन दिनों कपल चैलेंज ट्रेंड कापी चर्चाओं में है। पिछले 3 से 4 दिनों में करीब 29 लाख लोगो द्वारा इस...

किच्छा: रेलवे ब्रिज से गिरे अध्यापक, फिर क्या हुआ

रुद्रपुर । पुलभट्टा में नदी के ऊपर बने रेलवे ब्रिज के किनारे साइकिल से जा रहे एक अध्यापक की पुल से गिर कर मौत...

देहरादून- किसान बिल के खिलाफ इस बड़े आंदोलन की तैयारी में कांग्रेस, प्रदेश अध्यक्ष ने किया ये ऐलान

कृषि से संबंधित तीन कानूनों के विरोध में उत्तराखंड में राजभवन कूच की तैयारी कांग्रेस ने करीब-करीब पूरी कर ली है। 28 सितंबर यानी...
Uttarakhand Government

देश भर में इम्युनिटी बूस्टर और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए निर्माताओं में काढ़ा बनाने की होड़ लगी हुई है। लेकिन निर्माता अपने मुनाफें के चक्कर में भारत सरकार और उत्तराखण्ड सरकार के नियम और कानून को ठेंगा दिखा रहे हैं। उत्तराखण्ड में इसकी जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है। बाबा रामदेव के बाद अब हल्द्वानी के बेलबाल भोग मसाला कम्पनी ने काढ़ा मसाला बना डाला है। बेलवाल भोग के स्वामी मुकेश बेलवाल ने दावा किया है कि उनके काढ़े से आम जनता की रोग प्रतिरोधक क्षमता और इम्यूनिटी दोनो ही बढ़ जायेगी। ऐसा सुनकर आयुर्वेदिक विभाग के अफसरों का भी सर चकरा गया हैं।


Uttarakhand Government

यह भी पढ़े… उत्तराखंड- 15 अगस्त को इतने कैदी होंगे प्रदेश के 13 जेलों से रिहा, केन्द्र को भेजी सूची

Uttarakhand Government

belwalbhog owner mukesh belwal haldwani news

Uttarakhand Government

देखें क्या बोले मुकेश

बेलवाल भोग काढ़ा मसाला।।इम्यूनिटी बढ़ाने का झूठा दावा।। आयुष मंत्रालय को दिखाया ठेंगा

देश भर में इम्युनिटी बूस्टर और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए निर्माताओं में काढ़ा बनाने की होड़ लगी हुई है। लेकिन निर्माता अपने मुनाफें के चक्कर में भारत सरकार और उत्तराखण्ड सरकार के नियम और कानून को ठेंगा दिखा रहे हैं। उत्तराखण्ड में इसकी जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है। बाबा रामदेव के बाद अब हल्द्वानी के बेलबाल भोग मसाला कम्पनी ने काढ़ा मसाला बना डाला है। बेलवाल भोग के स्वामी मुकेश बेलवाल ने दावा किया है कि उनके काढ़े से आम जनता की रोग प्रतिरोधक क्षमता और इम्यूनिटी दोनो ही बढ़ जायेगी। ऐसा सुनकर आयुर्वेदिक विभाग के अफसरों का भी सर चकरा गया हैं।

Posted by News Today Network on Sunday, August 9, 2020

गोलापार गायत्री फ्लोर मिल के स्वामी मुकेश बेलबाल ने आज अपनी आटा फैक्ट्री में लालकुआ के भाजपा विधायक नवीन दुम्का से काढ़ा मसाला लांच करा डाला है। लांचिंग बहुत शानदार हुई जिसमें स्थानीय लोगों के साथ ही पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रकाश गजरोला, और क्षेत्रीय प्रधान भी मौजूद थे। मुकेश ने कहा कि उन्होंने एक कानपुर के कैमिस्ट को अपने प्रोडक्ट की पूरी जानकारी दी थी जिसके बाद उन्होंने इस काढ़े का निर्माण किया है। इसमें किसी तरह की कोई दिक्कत नही है।

यह भी पढ़े… देहरादून- प्रदेश में बिजली चोरों की अब नहीं खैर, UPCL ने तैयार की ये योजना

MLA Naveen dumka in belwal kaada masla opening

आयुर्वेदिक अधिकारी जांच करेंगे

जिला आयुर्वेदिक अधिकारी एमएस गुंज्याल ने बताया है कि गायत्री फ्लोर मिल ने उनसे काढ़ा मसाला नाम से कोई भी लाइसेंस नही लिया है अगर कोई भी व्यक्ति आयुर्वेदिक मेडिसनल तत्वों को जनता के सामने या मीडिया के सामने लेकर जाते है य फिर प्रचार करते है तो इससे भ्रम की स्थिति पनप जाती है। साथ ही अगर वह आयुर्वेदिक काढ़ा लांच करना चाहते हैं तो उन्हें उनके विभाग में पंजीकरण कराना चाहिए। वह मार्किट में नही बेच सकते हैं। उन्होंने कहा कि इस मामलें की जांच की जायेगी।

फूड सेफ्टी विभाग

वही फूड सेफ्टी अधिकारी कैलाश टम्टा ने बताया है कि मसाला बनाने बाला व्यक्ति मेडिसनल तत्वों के प्रोडक्ट में होने का कोई दावा नही कर सकता है। अगर वह दावा कर रहे हैं तो एक दम गलत है। केवल मसाला नाम से बेच सकते हैं लेकिन उन्होंने कोई दावा नही करना चाहिए।

काढ़ा बनाने में उपयोग किये जाने वाले तत्व

मामला काफी गम्भीर है क्योंकि इन दिनों कोरोना वायरस का प्रकोप काफी तेजी से फैल रहा है और इसीलिए हर कोई कोरोना वायरस के प्रकोप को कम करने के लिए अपने अपने प्रचार में जुटा है। लेकिन झूठा प्रचार करना एकदम गलत है जबकि सरकार ने ऐसे मामलों में लैब्रोटरी टैस्ट की बात पहले ही कह चुकी है।

belwal bhog kaada masla launching

इम्युनिटी बढ़ाने का दावा करने वाले बेलवाल भोग ने इस काढ़े मसांले को गायत्री फ्लोर मील ग्राम लच्छमपुर तरनावार गौलापार, हल्द्वानी जिला नैनीताल में तैयार किया है। इस काढ़े में दालचीनी, काली मिर्च, सूखी अदरक, सूखी तुलसी, गिलोय, मुलेठी, तेज पत्ता, अजवाइन, सेंधा नमक, हल्दी, लाल किशमिश, लंबी मिर्च और लौंग का इस्तेमाल किया गया है।

Uttarakhand Government

Related News

देखिए किस जुर्म में गिरफ्तार किया गया दो युवकों को

संवाददाता -अनुराग शुक्ला स्थान -सितारगंज वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा चलाए जा रहे नशे के विरुद्ध अभियान के चलते नानकमत्ता पुलिस ने  6 ग्राम अवैध स्मैक के...

जानिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा कहां चलाया गया नगर इकाई सदस्यता अभियान

संवाददाता -अनुराग शुक्ला स्थान- सितारगंज  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद सितारगंज नगर इकाई द्वारा छात्र संघ सचिव व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य देवेश कुमार के नेतृत्व में सदस्यता...

हल्द्वानी- इस दंपती ने बताया “कपल चैलैंज” का असली मतलब, अब हो रही वाहवाही

सोशल मीडिया में इन दिनों कपल चैलेंज ट्रेंड कापी चर्चाओं में है। पिछले 3 से 4 दिनों में करीब 29 लाख लोगो द्वारा इस...

किच्छा: रेलवे ब्रिज से गिरे अध्यापक, फिर क्या हुआ

रुद्रपुर । पुलभट्टा में नदी के ऊपर बने रेलवे ब्रिज के किनारे साइकिल से जा रहे एक अध्यापक की पुल से गिर कर मौत...

देहरादून- किसान बिल के खिलाफ इस बड़े आंदोलन की तैयारी में कांग्रेस, प्रदेश अध्यक्ष ने किया ये ऐलान

कृषि से संबंधित तीन कानूनों के विरोध में उत्तराखंड में राजभवन कूच की तैयारी कांग्रेस ने करीब-करीब पूरी कर ली है। 28 सितंबर यानी...

देहरादून- देश के धार्मिक इतिहास को ऐसे सवारेगी उत्तराखंड सरकार, तैयार की ये नई योजना

उत्तराखंड में आने वाले समय में महाभारत, रामायण व सीता सर्किट से धार्मिक पर्यटन के नए रास्ते खोले जाएंगे। प्रदेश सरकार ने इन तीनों...
Uttarakhand Government