जानिए कौन हैं नैनीताल हाईकोर्ट की पहली महिला चीफ जस्टिस रितु बाहरी, पिता, दादा और परदादा भी रहे हैं जज, वकील 
 

 | 

Nainital High Court Chief Justic - नैनीताल स्तिथ उत्तराखंड हाईकोर्ट (Uttarakhand HighCourt Nainital) को पहली महिला चीफ जस्टिस मिल गईं हैं, न्यायमूर्ति सुश्री रितु बाहरी (New Chief Justic Ritu Bahri, Judge Uttarakhand High Court) ने रविवार को उत्तराखंड हाईकोर्ट के 13 वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में कार्यभार ग्रहण कर लिया है, चीफ जस्टिस रितु बाहरी इससे पहले पंजाब- हरियाणा हाईकोर्ट की सीनियर जज रह चुकी हैं। 11 अक्टूबर 1962 को पंजाब के जालंधर में प्रतिष्ठित वकीलों के परिवार जन्मी रितु बाहरी ने अपनी पढ़ाई चंडीगढ़ में ही पूरी की, इसके बाद वर्ष 1985 में उन्होने पंजाब यूनिवर्सिटी से फर्स्ट पोजीशन में कानून की डिग्री हासिल की। साल 1986 में पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में वकालत शुरू की और इसके बाद हरियाणा एडवोकेट जनरल कार्यालय में सेवाएं दीं। 


जस्टिस रितु ने हरियाणा राज्य का प्रतिनिधित्व करते हुए, कई कार्यभार संभाले। साल 1992 से लेकर 2009 तक उन्होंने हरियाणा में सहायक महाधिवक्ता, उप महाधिवक्ता और वरिष्ठ महाधिवक्ता के रूप में जिम्मेदारियां निभाई। सेवा मामले, भूमि अधिग्रहण, कराधान, राजस्व, श्रम सहित कई मामलों को उन्होंने हल किया, 16 अगस्त, 2010 को उन्हें पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट का जज नियुक्त किया गया था। उत्तराखंड हाई कोर्ट में चीफ जस्टिस बनने से पहले रितु पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट की दूसरी सीनियर जज थीं। 

 

पिता, दादा और परदादा भी रहे हैं जज, वकील - 
न्यायिक बैक ग्राउंड से ताल्लुक रखने वाली जस्टिस रितु के परदादा स्वर्गीय करम चंद बाहरी अपने समय में प्रसिद्ध सिविल वकील थे। उनके दादा स्वर्गीय सोम दत्त बाहरी ने भी सिविल पक्ष में कानून का अभ्यास किया था और वह 1952 से 1957 तक पंजाब विधान सभा के सदस्य भी रहे थे। उनके पिता न्यायमूर्ति अमृत लाल बाहरी भी पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में जज रह चुके हैं। आपको बता दें की 26 अक्टूबर 2023 को चीफ जस्टिस विपिन सांघी के रिटायर्ड होने के बाद से हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस का पद रिक्त चल रहा था। सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट की न्यायाधीश रितु बाहरी को उत्तराखंड हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाने की सिफारिश की थी। जिसके बाद राष्ट्रपति ने मंजूरी दी थी। अब जस्टिस रितु ने 13 वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ले ली है। 

 


राज्य बनने के बाद नैनीताल हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश - 

1    अशोक देसाई -                  9 नवंबर 2000 - 31 मार्च 2003           2 साल 142 दिन    
2    सरोश होमी कपाड़िया          5 अगस्त 2003 - 17 दिसंबर 2003     134 दिन    
3    विकास श्रीधर सिरपुरकर      25 जुलाई 2004 - 19 मार्च 2005        237 दिन    
4    सिरिएक जोसेफ                  20 मार्च 2005 - 7 जनवरी 2006         293 दिन    
5    राजीव गुप्ता                       14 जनवरी 2006 - 1 फरवरी 2008        2 साल, 18 दिन    


6    विनोद कुमार गुप्ता              2 फरवरी 2008 - 9 सितंबर 2009       1 वर्ष, 219 दिन    
7    जगदीश सिंह खेहर             29 नवंबर 2009 - 11 अगस्त 2010       255 दिन    
8    बारिन घोष                        12 अगस्त 2010    - 4 जून 2014          3 साल, 296 दिन    

9    कुट्टियिल मैथ्यू जोसेफ         31 जुलाई 2014 - 6 अगस्त 2018         4 साल 6 दिन

10    रमेश रंगनाथन                 2 नवंबर 2018 - 27 जुलाई 2020         1 वर्ष 268 दिन    
11    राघवेंद्र सिंह चौहान           7 जनवरी 2021- 23 दिसंबर 2021        350 दिन    
12    विपिन सांघी                    28 जून 2022    26 अक्टूबर 2023        1 साल, 120 दिन    
13    रितु बाहरी                      4 फरवरी 2024   -  अब तक                     --------------------

राज्य में पहली बार मुख्य सचिव, विधानसभा अध्यक्ष चीफ जस्टिस महिला - 
उत्तराखंड में सर्वोच्च पदों पर महिलाओं को जगह मिलने का यह सिलसिला लगातार जारी है. राज्य में ब्यूरोक्रेसी की बॉस के रूप में जहां राधा रतूड़ी को जगह दी गई है तो वहीं उत्तराखंड में विधानसभा अध्यक्ष के तौर पर भी ऋतु खंडूरी जिम्मेदारी संभाल रही हैं. इस बीच अब उत्तराखंड हाईकोर्ट की मुख्य न्यायाधीश पद पर भी रितु बाहरी ने शपथ ले ली है।