Prahlad Singh Mehra, Folk Singar Uttarakhand | उम्र, पत्नी, परिवार, Chidren, Biography in Hindi
 

 | 

उत्तराखंड के वरिष्ठ लोक गायक प्रहलाद सिंह मेहरा (Uttarakhand Folk Singar, Prahlad Singh Mehra) का जन्म 04 जनवरी 1971 को पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी तहसील चामी भेंसकोट में एक राजपूत परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम हेम सिंह है वह शिक्षक रह चुके हैं, उनकी माता का नाम लाली देवी है। प्रहलाद मेहरा को बचपन से ही गाने और बजाने का शौक रहा, और इसी शौक को प्रहलाद मेहरा ने व्यवसाय में बदल लिया। वह स्वर सम्राट गोपाल बाबू गोस्वामी और गजेंद्र राणा से प्रभावित होकर वह उत्तराखंड के संगीत जगत में आए। साल 1989 में अल्मोड़ा आकाशवाणी में उन्होंने स्वर परीक्षा पास की वर्तमान में प्रहलाद मेहरा अल्मोड़ा आकाशवाणी में A श्रेणी के गायक हैं। 


उनके कई हिट कुमाऊंनी सांग्स (Kumauni Song) हैं, पहाड़ की चेली ले, दु रवाटा कभे न खाया...(Pahad ki cheli le Singer Prahlad Mehra) ओ हिमा जाग...का छ तेरो जलेबी को डाब, (Ka Chu Tero JALEBI KO DAAB) चंदी बटना दाज्यू, कुर्ती कॉलर मां मेरी मधुली...  (Chandi Batana Dajyu Kurti Kolar Ma) एजा मेरा दानपुरा (Eja Mera Danpura Prahlad Mehra) ने इस सुपर हिट गानों को अपनी आवाज देकर वह उत्तराखंड के लाखों लोगों के दिलों में छा गए हैं। ऐसे सुपरहिट कुमाऊनी गानों में अपनी परफॉर्मेंस देकर वह उत्तराखंड म्यूजिक इंडस्ट्री (Uttarakhandi Music Industry) के एक सीनियर स्टार सिंगर बन गए हैं। 


प्रहलाद मेहरा ने न्यूज टुडे नेटवर्क (News Today Network) से खास बातचीत/ इंटरव्यू  (Exclusive Interview with Prahlad Singh Mehra) ने बताया की उनका बचपन से ही संगीत की ओर रुझान था, वह अपने गांव में ही इन गानों को गुनगुनाते थे। अभी तक वह 150 गानों को अपनी आवाज दे चुके हैं। 

 

(Singar Prahlad Singh Mehra Biography In Hindi - लोकगायक प्रहलाद सिंह मेहरा का जीवन परिचय) 

नाम : प्रहलाद मेहरा 

जन्मतिथि : 04 जनवरी 1971

जन्म स्थान : चामी भेंसकोट, मुनस्यारी पिथौरागढ़  

पिता का नाम :  हेम सिंह 

माता का नाम : लाली देवी 

जीवन साथी : हंसी देवी 

व्यवसाय : उत्तराखंड के वरिष्ठ लोकगायक

प्राथमिक शिक्षा : राजकीय प्राथमिक विद्यालय चामी, भेंसकोट

माध्यमिक शिक्षा : राजकीय इंटर कॉलेज नाचनी, पिथौरागढ़

बच्चे : मनीष मेहरा, नीरज मेहरा, कमल मेहरा 

प्रहलाद मेहरा के पुत्र नीरज मेहरा 2016 में रहे हैं छात्रसंघ अध्यक्ष

निर्दलीय टिकट पर MBPG कॉलेज हल्द्वानी से बने थे अध्यक्ष 

वर्तमान निवास : बिंदुखत्ता संजय नगर, हनुमान मंदिर 

1989 में अल्मोड़ा आकाशवाणी में पास की स्वर परीक्षा

अल्मोड़ा आकाशवाणी में A श्रेणी के गायक है प्रहलाद मेहरा

प्रहलाद मेहरा के पिता मुनस्यारी में थे प्राथमिक शिक्षक 

प्रहलाद मेहरा उत्तराखंडी संस्कृति के हैं ध्वजवाहक 

उत्तराखंड संस्कृति विभाग में हैं पंजीकृत कलाकार, 

150 से अधिक बच्चों को सिखा चुके हैं संगीत 

साल 1991 में विवाह बंधन में बंधे थे प्रहलाद मेहरा 

अभी तक 150 से अधिक गानों को दे चुके हैं आवाज 

दो भाईयों में बडे़ हैं प्रहलाद मेहरा 

उनके छोटे भाई मनोहर सिंह RSS से जुड़े हैं 

देशभर में प्रवासी उत्तराखंडी हैं उनके गानों के दीवाने

देश के बडे़ शहरों में दिए हैं लाइव स्टेज परफॉमेंस

 

Tags : प्रहलाद सिंह मेहरा इंटरव्यू, कुमाऊंनी सिंगर प्रहलाद सिंह मेहरा एक्सक्लूसिव इंटरव्यू, कुमाऊंनी गायक प्रहलाद सिंह मेहरा के नए गाने, लोकगायक प्रहलाद सिंह मेहरा का जीवन परिचय, उत्तराखंडी गायक प्रहलाद मेहरा का जीवन परिचय, प्रहलाद सिंह मेहरा का जन्म कहां हुआ, Singar Prahlad Singh Mehra kumaoni Song, Singar Prahlad Singh Mehra Old Kumaoni Song, Kumauni Singer Prahlad Singh Mehra interview, Uttarakhandi Singar Prahlad Singh Mehra Interview, Singar Prahlad Singh Mehra biography, Prahlad Singh Mehra Full Exclusive Interview, Prahlad Singh Mehra Kumaoni Singar Interview,