नैनीताल - जुड़वा भाई आर्मी में एक साथ बने अग्निवीर, तीनों भाई मेडिकल तक साथ हुए थे क्वालीफाई 
 

 | 

नैनीताल - देवभूमि उत्तराखंड के होनहारों से हम आपका हमेशा से ही परिचय करवाते रहते हैं, इन होनहारों ने हमेशा ही अपने बुलंदियों के झंडे गाड़े हैं, उत्तराखंड के युवा आज हर क्षेत्र में अपनी सफलता का परचम लहरा रहे हैं खास तौर पर देश सेवा के मामले में देवभूमि के युवा आज सबसे आगे हैं। आज हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के उन दो जुड़वा होनहारों की, जो इंडियन आर्मी में अग्निवीर (Indian Army Agniveer) बन गए हैं। बचपन से ही साथ उठना, बैठना और साथ ही पढ़ाई करना और उसके बाद साथ ही नौकरी पाना वाकई इन दोनों जुड़वा भाइयों की गजब कहानी है। 


मूल रूप से नैनीताल जिले के ओखलकांडा ब्लॉक के अधौडा गांव के रहने वाले जुड़वा भाई  (Okhalkanda Agniveer Twin Brothers) चतुर महरा (Chatur Mahara) और चंचल महरा (Chanchal Mahara) ने पहले ही प्रयास पर भारतीय सेना में अग्निवीर (Indian Army Twin Brother Agniveer) बन गए हैं, चतुर और चंचल के बड़े भाई नंदन ने बताया की जून 2023 में रानीखेत में अग्निवीर भर्ती हुई, जहां उनके तीनों भाई इस भर्ती में शामिल होने गए थे 
जबकि एक भाई हेम महरा मेडिकल में बाहर हो गया। बता दें कि तीनों भाई एक साथ ही मेडिकल के लिए क्वालीफाई हुए थे।  


लिहाजा चतुर और चंचल बचपन से ही होनहार थे, दोनों की प्रारंभिक शिक्षा गांव के ही सरकारी स्कूल से ही साथ - साथ हुई है। इसके बाद दोनों भाइयों ने माध्यमिक शिक्षा राजकीय इंटर कॉलेज अधौडा से साथ पूरी की। गांव में तैयारी के लिए संसाधनों का आभाव था, इसके बावजूद भी दोनों भाइयों ने हार नहीं मानी और पहाड़ के पथरीले और पगडंडी वाले रास्तों के सहारे ही मेहनत कर अपने पहले ही प्रयास में साथ ही सफलता हासिल कर ली, दोनों जुड़वा भाई एक साथ सभी पायदानों को पार करते हुए सेना के लिए चुने गए हैं। माता-पिता के आशीर्वाद तथा विभिन्न लोगों से प्रेरणा प्राप्त कर इस रैली में सफल हुए इन दोनों भाइयों चतुर और चंचल का कहना है कि सेना भर्ती रैली में परिश्रम के माध्यम से ही स्थान पाया जा सकता है। दोनों भाई बताते हैं कि अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए उन्हें जहां परिवारजनों से प्रेरणा मिली वही गांव के कुछ लोग भी मार्गदर्शक बने। अपने जुनून से दो जुड़वां भाई सेना की वर्दी पहनेंगे अब यह फौज में अपने सुनहरे भविष्य को संवारने के लिए आतुर है। 
 

चतुर और चंचल के पिता चंदन सिंह महरा गांव में ही खेती और किसानी का काम करते हैं। चतुर और चंचल दोनों जुड़वा भाइयों की इस सफलता से परिवार में खुशी का माहौल है। वहीं घर पर बधाई देने वालों भी लगातार का तांता लगा हुआ है। दोनों भाइयों की इस कामयाबी पर राजकीय इंटर कॉलेज अधौडा के शिक्षकों ने भी उन्हें बधाई और शुभकामनायें दी हैं।

Tags : Nainital twin brothers become Agniveer in Army, Okhalkanda Nainital Chatur Mahara Chanchal Mahara agniveer.