हल्द्वानी - जानिए कौन हैं PCS अधिकारी ऋचा सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट रहते शहर को दी नई दिशा, इन मिशनों को दिया अंजाम 
 

 | 

Uttarakhand PCS Officer Richa Singh - हल्द्वानी शहर में समय - समय पर कई प्रशासनिक अधिकारी आते रहे लेकिन कई महिला अधिकारी होती हैं जो अपने किये कामों के बलबूते पर उस शहर और वहां के दिलों पर हमेशा के लिए अमिट छाप छोड़ जाती हैं ,उन्हीं में से एक नाम आता है PCS अधिकारी ऋचा सिंह का, साल 2005 बैच की PCS अधिकारी ऋचा सिंह महिलाओं के लिए रोल मॉडल हैं, दिन हो या रात फिर गर्मी हो या फिर बरसात, हर समय उन्होंने हल्द्वानी शहर और वहां के लोगों के लिए सोचा.....आगे पढ़ें......


PCS ऋचा सिंह बताती हैं की अगर ईश्वर ने जन्म दिया है तो समाज और लोगों के लिए कुछ ना कर पाएं तो यह जीवन व्यर्थ है, लिहाजा PCS ऋचा बचपन से ही समाज की सेवा करना चाहती थी, उनके पिता भी डॉक्टर थे और ऋचा सिंह अपने पिता को समाज सेवा में लगा देख बचपन से ही खुद भी एक सिविल सर्वेंट बनना चाहती थीं वह बताती हैं की एक बार उनके पिता के पास एक लाचार विधवा महिला आईं और उनकी पेंशन लगवानी थी तब ऋचा सिंह ने कहा जब वह बड़ी होंगी तो आपकी पेंशन जरूर लगाएंगी, और यहीं से उनके अंदर समाज सेवा की अलख जागी, कड़ी मेहनत की और आगे चलकर PCS अधिकारी बन गईं। ......आगे पढ़ें.... 


कौन हैं पीसीएस अधिकारी ऋचा सिंह -  Who is Uttarakhand PCS Officer Richa Singh?
साल 2005 बैच की तेज तर्रार PCS अधिकारी ऋचा सिंह को हल्द्वानी की पहली महिला सिटी मजिस्ट्रेट (First Woman City Magistrate Haldwani  Richa Singh) बनने का गौरव प्राप्त हुआ, 15 जून 2021 को उन्होंने हल्द्वानी की पहली महिला सिटी मजिस्ट्रेट का चार्ज संभाला, उससे पहले उन्होंने उत्तरकाशी, देहरादून, टिहरी, उधम सिंह नगर और अल्मोड़ा जिलों में अपनी सेवायें दी हैं, हल्द्वानी की सिटी मजिस्ट्रेट बनने से पहले वह हल्द्वानी से लगते हुए लालकुआं क्षेत्र की SDM भी रह चुकी हैं। ऋचा सिंह ने लगभग ढ़ाई साल से अधिक कार्यकाल में हल्द्वानी शहर को एक नई दिशा देने की कोशिश की है। कोरोना काल में SDM रहते हुए उन्होंने प्रवासी लोगों को घरों तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई थी। 


रामगढ़ आपदा में निभाई अहम भूमिका - 
18 और 19 अक्टूबर 2021 को रामगढ़, धारी में भीषण आपदा आयी पहाड़ों में हुई भारी बारिश आपदा में बदल गई, तब यह आपदा कुमाऊं के लोगों के लिए एक बड़ी तबाही के साथ जख्म लेकर आयी, इसी बीच, बचाव और राहत कार्यों की जिम्मेदारी तब हल्द्वानी की सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह को दी गई थी उन्होंने अपनी यह जिम्मेदारी बखूबी निभाई, गौलापार हेलीपैड से लगातार वह मॉनिटरिंग करती रहीं। तब इस आपदा में बिहार के सात मजदूरों की भी दबकर मौत हो गई थी, इन मजदूरों के शव सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह ने तब हवाई मार्ग से दिल्ली और फिर बिहार तक पहुँचवाए थे। 


हल्द्वानी में जलजमाव को रोकने पर किया काम - 
हर साल हल्द्वानी में जल जमाव की समस्या आम हो चली है, नहरों के ओवरफ्लो होने से हल्द्वानी शहर में लोगों के घरों तक पानी घुस जाता है, ऐसे में राहत और बचाव कार्य ऋचा सिंह, लोगों के बीच रहकर करती रहीं, दिन हो या रात हर समय प्रभावित परिवारों के साथ वह खड़ी नजर दिखीं, जल - जमाव रोकने के लिए भी उन्होंने कई काम किये, शहर की मुख्य नहरों का पाटिशन भी ऋचा सिंह ही कार्यकाल में ही शुरू हुआ, अब आने वाले बरसातों में यह उम्मीद है की शहर का वाटर ड्रेनेज सिस्टम सही हो सकेगा। 


हल्द्वानी कलसिया आपदा में प्रभावितों के साथ डटी रहीं - 
हल्द्वानी में पिछले साल अगस्त 2023 में आयी आपदा में भी ऋचा सिंह ने प्रभावितों के लिए बेहतरीन काम किये, वह लगातार हर क्षण आपदा पीड़ितों के साथ खड़ी रहीं, इतना ही नहीं, राहत और बचाव कार्य में वह रात भर कलसिया प्रभावित लोगों के साथ खड़ी दिखी, उन्होंने प्रभावित परिवारों को रेस्क्यू कर रात में ही सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया, इस दौरान वह लगातार वह राहत और बचाव कार्यों में तत्पर दिखीं। 


HN इंटर कॉलेज के पास अवैध दुकानों को हटवाया - 
हल्द्वानी में अतिक्रमण के खिलाफ अभियान लगातार जारी हैं, जगह - जगह नजूल, वन और राजस्व की भूमि पर लोग काबिज हैं, सिटी मजिस्ट्रेट रहते हुए ऋचा सिंह ने हल्द्वानी में हर विभाग के साथ मिलकर शहर से अतिक्रमण मुक्त कराने की ठानी, उन्होंने दिसंबर 2023 में वन विभाग के साथ मिलकर हल्द्वानी के एच.एन. इंटर कॉलेज के पास 41 दुकानों को ध्वस्त कराया, अब इस जगह पर लगने वाले जाम से तो मुक्ति मिली ही साथ ही अब वहां लोगों को चलने - फिरने में भी सुगमता मिली है।


हल्द्वानी शहर को अतिक्रमण और जाम से मुक्त करवाने के लिए रातों में जगीं - 
समय के साथ हल्द्वानी शहर विस्तारीकरण और बड़ा स्वरूप लेते गया. आए दिन जाम की समस्या आम है. इसको लेकर भी सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह चिंतित रहीं, उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान मुख्य चौराहों सहित मंगल पड़ाव से लेकर रोडवेज बस स्टेशन तक इसी साल जनवरी माह में रात में जगकर अतिक्रमण की कार्यवाहियों को अंजाम दिया। जिससे शहर की ट्रैफिक व्यवस्था पटरी पर लौट सके, जिसमें सरकारी कार्यालय, स्टेडियम और हॉस्पिटल की बाउंड्री वॉल भी तोड़ डाली थी।


पहली बार शहर में पीएम की सफल रैली करवाई - 
सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह के खाते में एक और रिकॉर्ड जुड़ गया, लिहाजा उनके सिटी मजिस्ट्रेट रहते हुए हल्द्वानी शहर में पहली बार किसी प्रधानमंत्री की इतने बड़ी सफल रैली आयोजित हुई, दरअसल साल 2022 में 30 दिसंबर के दिन हल्द्वानी के एम.बी. इंटर कॉलेज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली हुई थी. इस रैली से पहले उन्होंने हल्द्वानी शहर को संवारने में अहम जिम्मेदारियां निभाई थी।


रानीबाग और कलसिया पुलों की मॉनिटरिंग  - 
उत्तराखंड पर्यटन प्रदेश होने के साथ-साथ हल्द्वानी को कुमाऊं का पर्यटन हब माना जाता है, हल्द्वानी से ही होकर पर्यटक कुमाऊं की वादियों में घूमने निकलते हैं, ऐसे में कुमाऊं की मुख्य लाइफ लाइन रानीबाग और कलसिया पुलों पर जाम लगने से स्थानीय लोगों के साथ ही पर्यटकों को भी आवाजाही में काफी दिक्कतें होती थी, सिटी मजिस्ट्रेट रहते हुए ऋचा सिंह ने उच्चाधिकारियों के निर्देश पर समय-समय में इन पुलों की मॉनिटरिंग की थी। अब कलसिया और रानीबाग पुलों से आवागमन आसान हो गया है।


समय - समय पर अवैध गोरखधंधों पर की कार्यवाही - 
हल्द्वानी की सिटी मजिस्ट्रेट रहते हुए ऋचा सिंह ने समय-समय पर शहर में चल रहे अवैध गोरखधंधों पर भी जमकर कार्यवाहियाँ की, जिसमें उन्होंने रेस्टोरेंटों पर अवैध रूप से बिक रही शराब की कई खेपें पकड़ी,साथ ही लोगों की सेहत के साथ कोई खिलवाड़ ना हो इसके लिए खाद्य पदार्थों के समय -समय पर नमूने लिए गए, शहर में झोला छाप डॉक्टरों के खिलाफ भी शिकंजा कसा, कई मेडिकल स्टोरों के खिलाफ भी उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान कार्यवाहियों को अंजाम दिया। ट्रांसपोर्ट नगर में अवैध बॉयलरों पर भी कार्यवाही की। ज्योलिकोट में चल रहे अवैध मदरसा भी सीज किया गया, बाकायदा शहर में चल रही लगभग हर अतिक्रमण ड्राइव के दौरान वह मुस्तैदी से खड़ी रहीं। प्राधिकरण की उपसचिव होने के साथ-साथ उन्होंने हल्द्वानी और गौलापार की कई अवैध कालोनियों पर भी शिकंजा कसा।


हल्द्वानी हिंसा में जान आफत में आने के बाद भी अंतिम समय तक खड़ी रहीं  - 
आठ फ़रवरी को हल्द्वानी में हुई हिंसा आगजनी और पथराव हुआ था, हल्द्वानी शहर की सिटी मजिस्ट्रेट ऋचा सिंह जिन पर भी लोगों ने खूब पत्थर बरसाए । जिसमें ऋचा सिंह भी घायल हुई पर उनकी हिम्मत और जज्बे की आज सभी लोग सराहना कर रहे हैं। करुणा से भरी हुई ऋचा सिंह ने इस हिंसा के बाद अपनी उदारता का परिचय देते हुए उन्हीं लोगो की सहायता की, जिस जगह उन पर पथराव हुआ, सिटी मजिस्ट्रेट ने हिंसा प्रभावित इलाके का लगातार निरीक्षण किया। लोगों को विश्वास में लिया, उनके द्व्रारा बनभूलपुरा इलाके में लगातार पुलिस और प्रशासन द्वारा लोगों को राशन, दूध और मेडिकल सुविधा उपलब्ध करवाई, उन्होंने बनभूलपुरा की बड़ी आबादी को देखते हुए अपना कैंप कार्यालय ही थाने के पास खोल डाला था, जिससे वहां लोगों को परेशानी ना हो।

वाकई हल्द्वानी की सिटी मजिस्ट्रेट रहते हुए PCS ऋचा सिंह से अपनी जिम्मेदारियां बखूबी निर्वाहन की, अब उन्हें शासन ने अपर निदेशक प्रशिक्षण निदेशालय हल्द्वानी की नई जिम्मेदारी दी है, न्यूज़ टुडे नेटवर्क की ओर से PCS अधिकारी ऋचा सिंह को बधाई और शुभकामनाएं। 

 

 

Tags - हल्द्वानी सिटी मजिस्ट्रेट, City Magistrate Haldwani Richa Singh , ऋचा सिंह PCS अधिकारी, हल्द्वानी ऋचा सिंह, हल्द्वानी हिंसा 2024, हल्द्वानी की पहली महिला सिटी मजिस्ट्रेट, Who is City Magistrate PCS Richa Singh, Richa Singh PCS Haldwani, हल्द्वानी सिटी मजिस्ट्रेट 2021 - 2024 ,हल्द्वानी सिटी न्यूज़ ,Haldwani City Development, उत्तराखंड PCS अधिकारी ऋचा सिंह कौन हैं, उत्तराखंड 2005 बैच PCS ऋचा सिंह, हल्द्वानी शहर में ऋचा सिंह के काम, New Additional Director of Training and Employment Haldwani Richa Singh.