हल्द्वानी - जानिए कौन हैं पंकज उपाध्याय जाते-जाते लिख गए नया अध्याय, भू माफियाओं की तोड़ डाली थी कमर 
 

 | 

Uttarakhand PCS Officer Pankaj Kumar Upadhyay - उत्तराखंड में समय-समय पर तमाम अधिकारी आते रहे. अधिकतर नौकरशाह अपनी नौकरी का फर्ज निभाते - निभाते रिटायर्ड तक हो गए, लेकिन धरातल पर जनता की समस्याओं से वह आंख मूदते चले गए. सरकारों ने भी अधिकारियों के कर्तव्य निर्वाहन नहीं करवाए. कारण यही रहा की नैनीताल जिले के हल्द्वानी और तमाम शहरों में भू माफिया पनपते गए। 


लेकिन कुछ ऐसे भी जिद्दी अधिकारी होते हैं, जो अपने काम के प्रति निष्ठावान होते हैं, जो जनता को सहूलियत देने के साथ ही सरकारी संपत्तियों पर जबरन कब्जा कर बैठे माफियाओं पर शिकंजा कस देते हैं. इन दिनों पूरे देश में हल्द्वानी शहर (Haldwani Violence) की चर्चा हो रही है. लिहाजा हल्द्वानी की चर्चायें हो तो नगर निगम के नगर आयुक्त की बात तो जरूर होगी. जी हम बात कर रहे हैं पीसीएस अधिकारी पंकज उपाध्याय (Uttarakhand PCS Officer Pankaj Upadhyay Haldwani) की, इन दिनों देश भर में हल्द्वानी में 8 फ़रवरी को हुई हिंसा के बाद हल्द्वानी नगर निगम और नगर आयुक्त पंकज उपाध्याय की चर्चाएं हैं. चलिए आगे जानते हैं कौन हैं पंकज उपाध्याय ......जो ठाना है वह करके दिखाया है। 


कौन हैं पीसीएस अधिकारी पंकज उपाध्याय -  Who is Municipal Commissioner Haldwani PCS Pankaj Upadhyay?

पंकज उपाध्याय 2005 बैच के PCS अधिकारी हैं, इससे पहले वह जिला विकास प्राधिकरण में सचिव सहित कई जिम्मेदारियां निभा चुके हैं, मौजूदा समय में हल्द्वानी नगर निगम के निवर्तमान नगर आयुक्त हैं. सितम्बर 2021 में पंकज उपाध्याय ने हल्द्वानी नगर निगम की कमान संभालने के बाद हल्द्वानी शहर को अतिक्रमण मुक्त करवाने की ठानी, समय - समय पर शहर में अवैध अतिक्रमण के जाल को वह तोड़ते रहे. अपने कार्यकाल के दौरान उपाध्याय ने 250 से अधिक कार्यवाहियों को अंजाम दिया जिसके जरिये अतिक्रमण कारियों को यह सन्देश देने की कोशिश की गई, की सरकारी ज़मीनों की खुर्द - बुर्द अब किसी भी हालत में सहन नहीं होगी।  


हल्द्वानी शहर में पहली बार ऐसा हुआ की किसी नगर आयुक्त ने लोगों से सरकारी सम्पतियों को नुकसान पहुंचाने पर उन्हीं लोगों से वसूली की, एक बार पंकज उपाध्याय अपनी कार से जा रहे थे तब हीरानगर स्थित एक दुकानदार ने नाली और सड़क को तोड़ दिया था, पंकज उपाध्याय सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने पर आग बबूला हो गए थे उन्होंने उस दुकानदार पर तब 5000 हजार का जुर्माना वसूला लगाया था, और साथ ही नाली और रोड़ भी ठीक करवाई थी. इसके साथ ही हल्द्वानी शहर में नशेड़ियों का आतंक रहता है। शहर में एक बार नशे की हालत में लोगों ने बिजली के पोल में टक्कर मार दी थी इससे नगर निगम के कई बिजली पोल गिर कर पूरी तरह से टूट गए थे जिसके बाद नगर आयुक्त ने उन बिजली के पोलों की सही करवाने के लिए स्थानीय लोगों से ही पैसा वसूला था. नवम्बर 2022 में जब सफाई कर्मचारी हड़ताल पर थे तो तब पंकज उपाध्याय ने खुद ही नगर निगम की कूड़ा गाड़ियों की स्टेयरिंग थाम ली थी वह तब डोर तो डोर कूड़ा कलेक्शन करने चले गए थे। 


शनि बाजार की जमीनों पर लिया कब्ज़ा -
नगर निगम की बड़ी ड्राइव में नगर आयुक्त उपाध्याय ने शनि बाजार की ज़मीनों पर कब्जा लिया था. पंकज उपाध्याय ने साल 2023 में शनि बाजार में कई एकड़ जमीनों पर कब्जा लिया था. तब भी लोगों ने दो महीने तक विरोध प्रदर्शन और कैंडल मार्च निकाले थे. बाजार बंद होने से नगर निगम को लाखों का नुकसान हुआ, खूब प्रदर्शन और हड़ताल हुए थे. कई तरह का दवाब पंकज उपाध्याय के ऊपर डाला गया लेकिन वह झुके नहीं, उक्त भूमि पर कब्जेधारी नैनीताल हाईकोर्ट तक पहुंच गए लेकिन नगर निगम ने हाई कोर्ट में अपना पक्ष रखा. पंकज उपाध्याय ने कहा कि लोगों ने जनहित के उपयोग की चीजों पर कब्जा कर अपने निजी हित में उपयोग कर रहे हैं हाई कोर्ट ने नगर निगम की दलीलों को सही माना और केस जीत गए. आज 19 महीने का नगर निगम ने उसी शनि बाजार का टेंडर किया है और जिसकी धनराशि 53 लाख रुपए है जिससे नगर निगम को काफी मुनाफा हो रहा है।


हल्द्वानी में HPCL कंपनी पर  7.22 करोड़ का जुर्माना - 
बीते साल 2023 के अगस्त महीने में गैस पाइप लाइन बिछाने की आड़ में शहर की तमाम सड़कों को खोदने, सड़क पर ही मलबा फेंकने और सड़कों की बदतर हालत की जिम्मेदारी पर नगर निगम ने एचपीसीएल से 7.22 करोड़ रुपये का जुर्माना वसूला था. सड़कों की सही नहीं करने की दशा में एचपीसीएल की लापरवाही से कई लोगों की जान गई थी. तब नगर आयुक्त ने सड़क बनाने का जिम्मा सरकारी एजेंसी एचपीसीएल से छीन लिया था। 


बैणी सेना से बटोरी वाहवाही - 
नगर आयुक्त उपाध्याय ने अपने कार्यकाल के दौरान हल्द्वानी में सफाई वयस्था के लिए भी अहम कदम उठाये थे. यूजर चार्ज कनेक्शन और स्वच्छता के प्रति जागरूक करने वाली बैणी सेना का चयन किया गया था. यह प्रोजेक्ट हल्द्वानी शहर का स्वच्छता स्तर बढ़ाने, स्वच्छता में जन भागीदारी बढ़ाने, डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन को सुदृढ़ करने, यूजर चार्ज का कलेक्शन बढ़ाने के लिए लागू किया था. नवंबर 2022 से लेकर अब तक यूजर चार्ज की वसूली सफलतापूर्वक की है. पहले महीने में 25 लाख और उसके बाद के महीनों में 30 लाख से ऊपर का यूजर चार्ज वसूला गया है. भारत सरकार और उत्तराखंड सरकार ने बैणी सेना की बहुत तारीफ भी की है। 


टंचिंग ग्राउंड पर कूड़ा निस्तारण के लिए किया था काम - 
गौलापार का टंचिंग ग्राउंड शहर के लिए मुसीबत बना था, दिसंबर 2023 से कूड़े का निस्तारण अब नई कंपनी कर रही है. काम सही न होने से पुरानी कंपनी के साथ नगर निगम को अनुबंध तोड़ना पड़ा था. जब से ये ट्रंचिंग ग्राउंड बना है तब से ही यहां से कूड़ा निस्तारण की समस्या अभी तक सुलझ नहीं पाई है।


भू माफियाओं की तोड़ डाली कमर - नजाकत खां, जैम फैक्टरी में लिया कब्ज़ा - 
हल्द्वानी में नगर आयुक्त रहते हुए पंकज उपाध्याय ने उन जगहों पर हाथ डाले जहां अधिकारी कार्यवाही के नाम पर इन जगहों का नाम सुनकर ही कांपते थे. फरवरी 2024 में नगर निगम ने आयुक्त पंकज उपाध्याय की मौजूदगी में हल्द्वानी के खाली पड़ी 3.34 एकड़ में फैला जैम फैक्टरी की जमीन और भवन को अपने कब्जे में लिया था. अब नगर निगम ने जैम फैक्टरी में अपने वाहनों की पार्किंग बनाई है। 

हल्द्वानी की राजपुरा इलाके के नजूल भूमि के अंतर्गत आने वाले नजाकत खा के बगीचे में नगर निगम ने जनवरी माह में अतिक्रमण हटाया था करीब 2 से 3 एकड़ जमीन पर नगर निगम ने कब्जा लेकर तुरंत तड़बाड़ करवा दिया था. जिसके बाद यहां आवारा पशुओं को रखने के लिए नगर निगम द्वारा अस्थाई गौशाला बनाई गई है।


बहुचर्चित मलिक के बगीचे ने हल्द्वानी लगाया कलंक - 
हल्द्वानी के बहुचर्चित मलिक के बगीचे में अतिक्रमण हटाने के लिए प्रशासन को बड़ी जद्दोजहत करनी पड़ी, मलिक के बगीचे ने हल्द्वानी की पहचान देश दुनियां में करवा दी, लगभग 3 एकड़ भूमि पर अतिक्रमण हटाने के दौरान बतौर नगर आयुक्त पंकज उपाध्याय इस पूरी कार्रवाई को कमान कर रहे थे लेकिन बार-बार अब्दुल मलिक अड़ंगा लगा रहा था, इन सब के बाबजूद पंकज उपाध्याय झुके नहीं, कई बार पंकज उपाध्याय से मलिक को उलझते हुए भी देखा गया। यहां तक की पंकज उपाध्याय ने मलिक के बक्कल उतारते हुए कह दिया की बिना कागज के इस जमीन पर नजर आए तो खड़े भी नहीं होने दूंगा।

 
जब 8 फरवरी 2024 को नगर निगम की टीम पुलिस प्रशासन के साथ मलिक के बगीचे में अवैध मदरसा और नमाज स्थल तोड़ने पहुंचती है तो टीम के ऊपर पथराव और आगजनी हो जाती है. उपद्रवियों ने बनभूलपुरा पुलिस थाना फूंक दिया, इस पूरी घटना ने हल्द्वानी पर एक कलंक तो लगा ही दिया लेकिन पंकज उपाध्याय जैसे अधिकारियों ने यह साबित कर दिया कि अगर ठान लो तो सब कुछ हो सकता है. इस कार्यवाही को अंजाम देने के बाद देश भर से लोग पंकज उपाध्याय हौसलों की तारीफ कर रहे हैं। जाते - जाते एक नया अध्याय लिख गए आगे आने वाले अधिकारियों के लिए भी वह रास्ते खोल गए, उनके द्वारा लिए गए फैसले हल्द्वानी शहर के लिए निकट भविष्य में नजीर बनेंगें. अब सरकार ने भी पंकज उपाध्याय को नया तोहफा देकर उधम सिंह नगर जिले का नया एडीएम बना दिया है।


Tags - हल्द्वानी नगर निगम आयुक्त पंकज उपाध्याय,  New ADM Udham Singh Nagar, पंकज उपाध्याय PCS, हल्द्वानी पंकज उपाध्याय, हल्द्वानी हिंसा 2024, हल्द्वानी नगर निगम, Who is Municipal Commissioner Haldwani PCS Pankaj Upadhyay, Pankaj Kumar Upadhyay PCS Haldwani, हल्द्वानी नगर आयुक्त 2021 - 2024, हल्द्वानी नगर निगम न्यूज़, Haldwani Nagar Nigam, उत्तराखंड PCS अधिकारी पंकज कुमार उपाध्याय कौन हैं,  Who is New ADM Udham Singh Nagar