Haldwani Violence - तो दंगों के मास्टर माइंड मलिक की संपत्ति होगी कुर्क, हेलमेट से बुलडोजर तक की पाई-पाई होगी वसूल 
 

 | 

Haldwani Riots - उपद्रव का मास्टरमाइंड अब्दुल मलिक की गिरफ्तारी पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ है। पुलिस टीमों ने दिल्ली और बरेली में डेरा डाल रखा है। मोबाइल बंद होने के कारण पुलिस को उसकी लोकेशन नहीं मिल रही है। सर्विलांस टीम उसकी लोकेशन लगातार ट्रेस कर रही है। उत्तराखंड के इतिहास में पहली बार किसी नगर निगम ने ऐसा आदेश जारी किया है कि सरकारी कर्मचारी और सरकारी संपत्ति पर हमला करने से पहले उपद्रवी अब सौ बार सोचेंगे। बीते गुरुवार को बनभूलपुरा में हुए बवाल में हल्द्वानी नगर निगम के वाहनों को उपद्रवियों ने पहले पत्थरों की बौछार से क्षतिग्रस्त किया। इसके बाद कायरता का परिचय देते हुए उनमें आग लगा दी। 


तो मलिक संपत्ति हो सकती है कुर्क - 
मलिक को नगर निगम की ओर से नुकसान की भरपाई के एवज में दिए गए 2.44 करोड़ के नोटिस का जवाब देने के लिए महज तीन दिन का समय दिया गया है। इधर पुलिस उसे तलाश रही है। यदि इस अवधि में वह नोटिस का जवाब नहीं दे पाया और नुकसान की भरपाई नहीं कर पाया तो उसकी संपत्ति कुर्क की जा सकती है।


नगर निगम ने अपने 15 वाहनों के नुकसान का आकलन करने के बाद सोमवार को 2.44 करोड़ रुपये का नोटिस अब्दुल मलिक के नाम तैयार कर लिया। इसमें बोलेरो, बुलडोजर, ट्रैक्टर-ट्राली संग कूड़ा एकत्र करने वाली गाड़ियां भी शामिल है। अब सारा पैसा मलिक से वसूला जाएगा।

फावड़े और गैंती की वसूली भी - 
नगर निगम ने जो सूची तैयार की है उसमें घन, सब्बल, गैंती, फावड़े और हेलमेट भी शामिल हैं। 13 वाहन निगम के खुद के थे, जबकि दो किराये की गाड़ियां क्षतिग्रस्त हुई हैं। वाहन की स्थिति के हिसाब से पैसे जोड़े गए हैं।

सीएम ने कहा था....पाई-पाई वसूली जाएगी - 
बनभूलपुरा की घटना के बाद हर स्थिति पर सरकार नजर रखे हुए हैं। सीएम धामी ने स्पष्ट कहा था कि देवभूमि में ऐसी अराजकता को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सरकारी नुकसान की पाई-पाई वसूली जाएगी। सीएम के निर्देश धरातल पर नजर आना शुरू हो चुके हैं। दूसरी तरफ उपद्रवियों से उन्हीं की भाषा में निपटने का सिलसिला भी जारी है।

क्षतिग्रस्त वाहन निकाले - 
नगर निगम की टीम सोमवार को कर्फ्यूग्रस्त इलाके बनभूलपुरा पहुंची थी, जिसके बाद क्रेन की मदद से गाड़ियों को तंग गलियों से बाहर खींचा गया। इसके बाद बड़े वाहन में लादकर निगम लाया गया। सहायक नगर आयुक्त ने बताया कि कुछ वाहन अभी बचे हैं।

नगर आयुक्त, हल्द्वानी पंकज उपाध्याय ने बताया पूर्व नोटिस के बावजूद अब्दुल मलिक ने नजूल भूमि पर बनाए अवैध निर्माण को नहीं तोड़ा था। टीम आठ फरवरी को कार्रवाई के लिए यहां पहुंची थी। वापसी में मलिक के समर्थकों ने हमला कर वाहनों समेत निगम की अन्य संपत्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया। मामले में प्राथमिकी भी दर्ज हुई है। 15 फरवरी तक 2.44 करोड़ रुपये जमा न करने पर नियमानुसार वसूली की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कर्मचारी हेलमेट से लेकर बुलडोजर तक के नुकसान की रकम वसूली जाएगी।