देहरादून - बजट से पूंजीपति होंगे मालामाल, आम जनता के लिए है ठनठन गोपाल - यशपाल आर्य

 | 
देहरादून - आज केन्द्र सरकार द्वारा अंतरिम बजट 2024 पेश किया, इस बजट के बाद नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि वित्त मंत्री से उम्मीद थी कि वह इस बजट के माध्यम से देश को बताती -
1. पिछले 10 वर्षों में भाजपा सरकार कितने लोगों को रोज़गार दे पाई है?
2. स्टार्टअप इंडिया, मेक इन इंडिया का क्या हुआ? वह कितना सफल हुआ?
3. क्या सरकार पुरानी पेंशन बहाली की ओर कोई कदम उठाएगी?
यशपाल आर्य ने कहा कि उत्तराखंड के हाथ एक बार फिर खाली रह गये हैं। ग्रीन बोनस पर कोई चर्चा नहीं हुई उन्होंने जोशीमठ आपदा पैकेज को बजट से नदारद बताया। आर्य ने कहा कि दुख की बात है वित्तमंत्री महिला होकर भी महिलाओं की व्यथा को नही समझ पाई!
बढ़ती मंहगाई को लेकर कोई राहत नही मिली है, साथ ही उन्होंने कहा कि किसानों के लिए भी इस बजट में कुछ नही, युवाओं के रोजगार के लिए भी कुछ नही है। वित्त मंत्री ने कहा- महंगाई जायदा नहीं बढ़ी, आमदनी बढ़ी है ये अत्यंत निंदनीय है।
उन्होंने कहा पूंजीपति मित्रों का लाखों करोड़ों रुपए माफ करने और 'कॉरपोरेट टैक्स' में लगातार छूट देने वाली मोदी सरकार..देश के आम लोगों की "जेब काटने" और "झूठे जुमले" सुनाने के अलावा कुछ भी नहीं करती है। 
भाजपा सरकार ने जनविरोधी बजटों का एक दशक पूरा करने का रिकार्ड बनाया है, आर्य ने कटाक्ष कर कहा कि यह भाजपा का जनविरोधी बजट विदाई बजट साबित होगा।