भीमताल - आदमखोर बाघ ने एक और युवती को बनाया निवाला, आंखिर कब टूटेगी वन विभाग की नींद

 | 

Bhimtal leopard Attack - नैनीताल जिले भीमताल और उसके आसपास के क्षेत्रों में आदमखोर बाघ का लगातार आतंक जारी है। इन दिनों आदमखोर वन्यजीव तेंदुए या बाघ के आतंक से ग्रामीण परेशान हैं और दहशत में हैं।

 

बीते 7 दिसंबर और 9 दिसंबर को आदमखोर वन्य जीव ने कसायल और पिनरों की रहने वाली दो महिलाओं को मौत के घाट उतार दिया था। उसके बाद से लगातार ग्रामीणों में आक्रोश है। वन विभाग लगातार कार्यवाही की बात करता है लेकिन आदमखोर जीव को अब तक ट्रेकुलाइज नहीं किया जा सका है। आदमख़ोर द्वारा लगातार लोगों को निवाला बनाया जा रहा है और वन विभाग चैन की नींद सो रहा है। वन विभाग हाईकोर्ट के निर्देश के बाद भी अभी तक पता नहीं लग पाया कि आदमखोर वन्य जीव बाघ है या तेंदुआ आखिर इसका जिम्मेदार कौन है।
आज वन विभाग की लापरवाही से एक और युवती की जान चली गई, ताड़ा अलचौना निवासी 18 वर्षीय निकिता शर्मा पुत्री बिपिन चंद्र शर्मा को आज मंगलवार को आदमखोर वन्य जीव ने अपना निवाला बना दिया। बताया जा रहा है निकिता घास काटने अन्य महिलाओं के साथ शाम चार बजे के समय पास के ही जंगल में गई थी, उस पर बाघ ने हमला कर दिया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। लिहाजा लगातार तीन मौतों के बाद अब ग्रामीण दहशत में है और लोगों का घरों से बाहर निकलना दुर्लभ हो गया।