iimt haldwani

इस खास सीट पर बैलेट पेपर से होंगे लोकसभा चुनाव, मैदान में इस 185 उम्मीदवार, वजह है खास

71

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क। देश इस समय पूरी तरह चुनावी मोड में है और पहले चरण के लिए होने वाले मतदान में अब कुछ ही दिन बचे हैं। लेकिन देश की एक लोकसभा सीट ऐसी भी है जहां इस बार ईवीएम या फिर वीवीपैट से नहीं बल्कि बैलेट पेपर से ही चुनाव होंगे। यह सीट तेलंगाना की निजामाबाद है, जहां पर इस बार पूरे देश से अलग चुनाव होगा।

drishti haldwani

चंद्रशेखर राव की बेटी भी चुनाव मैदान में

दरअसल इस सीट पर 23 सालों बाद लोकसभा के चुनाव बैलेट पेपर से होंगे। इसके पीछे बड़ी ही दिलचस्प वजह सामने आ रही है। इसमें हल्दी किसानों की सरकार से नाराजगी के चलते इस लोकसभा सीट से कुल 185 उम्मीदवार मैदान में हैं। इसमें मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव की बेटी काल्वाकुंतला कविता भी इसी सीट से चुनाव लड़ रही हैं।

chunav1

यह भी पढ़ें- हल्द्वानी-फिर कांग्रेस को बड़े झटके देने में जुटी भाजपा, गिर सकते है ये बड़े विकेट

178 किसान चुनावी मैदान में

जिसके विरोध में 178 हल्दी किसानों ने नामांकन दर्ज कराया है। कहा जा रहा है कि किसान सरकार से खासे नाराज हैं। उनका आरोप है कि सरकार उनकी सुनवाई नहीं कर रही है। इसलिए भाजपा , टीआरएस और वामपंथियों के अलावा किसानों ने भी नामांकन दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि शुरुआत में करीब 1000 किसान चुनाव लडऩा चाह रहे थे, लेकिन काफी खींचतान के बाद 178 किसान मैदान में हैं। निजामाबाद में 15 लाख मतदाता इस बार वोट देंगे।

chunav2

1996 में 245 उम्मीदवारों ने भरा था पर्चा

बता दें कि साल 1996 में भी यहां से 245 उम्मीदवारों ने पर्चा भरा था। उस दौरान भी इसी तरह के हालात बने हुए थे। तेलंगाना चुनाव आयोग ने कहा है कि हमने इस बात का फैसला मुख्य चुनाव आयोग पर छोड़ दिया है।

अधिकतम 64 उम्मीदवारों के लिए होती है ईवीएम

चुनाव अधिकारी आर कुमार ने बताया कि क्योंकि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन ईवीएम का प्रयोग अधिकतम 64 उम्मीदवारों को ही नामांकित कर सकती है, इसलिए उम्मीदवार अधिक होने के कारण आयोग को मतदान के लिए मतपत्रों का इस्तेमाल करना होगा। यहां की 17 लोकसभा सीटों के लिए कुल 443 उम्मीदवार मैदान में हैं।