drishti haldwani

प्रधानमंत्री मोदी ने दी किसानों-कारोबारियों को पेंशन की सौगात, हर महीने मिलेंगे 3000 रुपए, जानिए कैसे मिलेगा लाभ

195

पेंशन की सौगात – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव से पहले देश के कारोबारियों से पेंशन देने का वादा किया था, जिसको सरकार ने सत्ता में आते ही पूरा कर दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने झारखंड की राजधानी रांची से किसानों और छोटे कारोबारियों को पेंशन की सौगात दी है। 12 सितंबर गुरुवार को पीएम मोदी ने देश के किसानों के लिए किसान मानधन योजना और छोटे कारोबारियों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना की शुरुआत की। इसके बाद प्रधानमंत्री ने कुछ किसानों को पेंशन का कार्ड भी सौंपा। इनमें देश के कई राज्यों के किसान शामिल हैं। पीएम मोदी ने रांची के धुर्वा मैदान में आइपैड दबाकर देशभर के किसानों के लिए प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना और व्यापारियों के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना की लांचिंग की। इसमें केंद्र सरकार तीन हजार रुपये का अंशदान देगी।

iimt haldwani

pm1

प्रधानमंत्री किसान मान धन योजना

प्रधानमंत्री ने देशभर के किसानों के लिए यह योजना शुरू की है, जिसमें 18 से 40 वर्ष के उम्र के किसानों का रजिस्ट्रेशन होगा। इसके बाद किसानों को 60 साल की उम्र पूरी होने पर हर महीने 3 हजार रुपये पेंशन दी जाएगी। किसान मान धन योजना के लिए झारखंड में एक लाख से अधिक किसानों ने अपना निबंधन कराया है। किसान मन धन योजना में देशभर के किसानों को पेंशन दी जाएगी। योजना में छोटी जोत वाला और सीमांत किसान जुड़ सकता है, जिसके पास 2 हेक्टेयर तक खेती योग्य जमीन है। योजना को सफल बनाने के लिए कम से कम 20 साल और अधिकतम 42 साल तक 55 रुपये से 200 रुपये तक मासिक अंशदान करना होगा, जो उनकी उम्र पर निर्भर है। किसानों को 60 साल होने के बाद उन्हें 3 हजार रुपये मंथली पेंशन मिलने लगेगी। केंद्रीय कृषि मंत्रालय के अनुसार इसमें करीब 8.36 लाख किसानों ने रजिस्ट्रेशन करा लिया है। पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए किसान को कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

क्या है कारोबारी पेंशन योजना?

  • केंद्रीय कैबिनेट ने छोटे कारोबारियों के लिए नई सामाजिक सुरक्षा योजना शुरू करने को मंजूरी दी है जिसके तहत 60 वर्ष की उम्र के बाद छोटे कारोबारी कम से कम 3,000 रुपए किसानों के हकदार होंगे।
  • योजना का लाभ उन सभी कारोबारियों को मिलेगा जिनका जीएसटी के तहत सालाना टर्नओवर 1.5 करोड़ रुपए से कम है।
  • 60 वर्ष की उम्र पार होने के बाद कारोबारी या उसका परिवार कम से कम 3000 रुपए मासिक पेंशन का हकदार होगा।
  • योजना का लाभ उठाने के लिए 18-40 वर्ष आयु वर्ग के कारोबारियों को इस योजना में खुद को पंजीकृत कराना होगा।
  • योजना का लाभ उठाने के लिए कारोबारी को अपनी तरफ से कुछ अंशदान जमा कराना होगा और सरकार भी अपनी तरफ से उतना ही अंशदान कारोबारी के खाते में जमा कराएगी।
  • कारोबारी को इसके लिए देशभर में फैले 3.25 लाख कॉमन सर्विस केंद्रों के जरिए खुद को पंजीकृत कराना होगा।
  • योजना के तहत 3 साल में देशभर से करीब 5 करोड़ छोटे कारोबारियों को पंजीकृत किया जाएगा।
  • इस पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर (सीएसी) पर जाकर पंजियन करवाना होगा।

pm6

बिना आधार के कराएं रजिस्टे्रशन

अगर कोई व्यक्ति जो कारोबार करता है उसकी उम्र इस समय 18 से 40 वर्ष के बीच में वह व्यक्ति अपने आप को इस योजना में रजिस्टर्ड करा सकता है और जब वह व्यक्ति 60 साल का हो जाएगा तो उसको या उसक परिवार को सरकार की ओर से पेंशन दी जाएगी। यह योजना पूरी तरह से स्व घोषित पद्धति पर आधारित है और इसका लाभ लेने के लिए आधार नंबर और बैंक खाता के अलावा अन्य किसी कागजात की जरूरत नहीं है।

सरकार भी करेगी योगदान

आपको बता दें कि इस योजना में जितना योगदान कारोबारी करेंगे, उतना ही केंद्र सरकार द्वारा योगदान दिया जाएगा। उदाहरण के लिए यदि कोई व्यापारी 30 साल की उम्र में 200 रुपए प्रतिमाह का योगदान करता है, तो केंद्र सरकार भी उसके खाते में हर महीने 200 रुपए का अंशदान देगी।