Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश नकली कीटनाशक बेचे तो खानी होगी जेल की हवा

नकली कीटनाशक बेचे तो खानी होगी जेल की हवा

प्रतापपुर- नदी के किनारे चल रहा था अवैध कारोबार

संवाददाताा- अनुराग शुक्ला स्थान- प्रतापपुर (नानकमत्ता) पुलिस ने छापा मारकर शराब बनाने वाले उपकरण व अवैध शराब बरामद की पुलिस की छाते की जानकारी मिलते ही...

बरेली की राजनीति के पुरोधा राजेश अग्रवाल को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी के संगठन में मिली अहम् जिम्मेदारी

बात अगर बरेली की राजनीती की हो और राजेश अग्रवाल का नाम न आये ऐसा तो हो ही नहीं सकता , रुहेलखंड में भाजपा...

Mathura: श्रीराम जन्म भूमि के बाद श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला पहुंचा कोर्ट

अयोध्या में श्रीराम लला के मंदिर (Ram Mandir) का निर्माण शुरू हुई हो पाया था कि अब मथुरा में श्री कृष्ण जन्म भूमि (Shri...

Bareilly: कोरोना के रोकथाम के लिए नवनीत सहगल बनाएंगे रणनीति, लिए जाएंगे यह कदम

बरेली में कोरोना वायरस (Corona virus) धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है। अब इसकी रोकथाम के लिए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम और ग्रामोद्योग...

उत्तराखंड से इन राज्यों के लिये चलेंगी 100-100 बसें, सरकार ने की ये घोषणा

उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रोडवेज बसों के अंतरराज्यीय परिवहन को शुक्रवार को अनुमति दे दी है। मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल,...

Modi Govt. Decision :नकली कीटनाशकों से परेशान किसानों को राहत देते हुए केंद्र सरकार (Central Government) ने कीटनाशक प्रबंधन को लेकर नए फैसले किए हैं। इस फैसले के तहत नशीली या खराब गुणवत्ता(Poor Quality) की कीटनाशकों की बिक्री या उत्पादन गैरकानूनी होगी। ऐसा करने वाले को 5 साल तक की जेल और अधिकतम 50 लाख तक का जुर्माना(Penalty) देना होगा। यह बिल (Jail) को सांसद के 2 मार्च से शुरू हो रहे सत्र में पेश किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-किसानों को मिलेगा स्‍मार्टफोन, बरेली में यहां लगेगा किसान सम्‍मान मेला
cabinet meeting

 

Uttarakhand Government

प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक की जानकारी देते हुए केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने बताया कि किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए सरकार ने पहले भी कीटनाशकों के प्रबंधन को लेकर एक बिल संसद में पेश किया था जो कुछ कारणों से पारित नहीं हो पाया। बाद में उसे संसदीय समितियों के पास भेजा गया था। सरकार ने संसदीय समितियों के सुझाव को ध्यान में रखते हुए प्रबंधन के लिए एक नया बिल लाने का फैसला लिया। इस समय में कीटनाशकों के प्रबंधन को लेकर सरकार के पास कोई सख्त कानून नहीं है। वर्ष 1968 का एक कानून है पर इससे नकली कीटनाशक बनाने वाली कंपनियां आसानी से बच निकलती हैं।

इस बिल के तहत अगर कीटनाशक इस्तेमाल करने से फसलों को नुकसान होता है तो इसका मुआवजा उस कंपनी से वसूला जाएगा। इसके लिए एक कोष बनाया जाएगा। ऐसे मामले आने पर किसानों को इसी कोष से मुआवजा दिया जाएगा। इसको लेकर दिए जाने वाले विज्ञापनों के लिए भी एक मानक तय किया जाएगा ताकि किसान किसी भी प्रकार से भ्रमित ना हो।

Related News

प्रतापपुर- नदी के किनारे चल रहा था अवैध कारोबार

संवाददाताा- अनुराग शुक्ला स्थान- प्रतापपुर (नानकमत्ता) पुलिस ने छापा मारकर शराब बनाने वाले उपकरण व अवैध शराब बरामद की पुलिस की छाते की जानकारी मिलते ही...

बरेली की राजनीति के पुरोधा राजेश अग्रवाल को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी के संगठन में मिली अहम् जिम्मेदारी

बात अगर बरेली की राजनीती की हो और राजेश अग्रवाल का नाम न आये ऐसा तो हो ही नहीं सकता , रुहेलखंड में भाजपा...

Mathura: श्रीराम जन्म भूमि के बाद श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला पहुंचा कोर्ट

अयोध्या में श्रीराम लला के मंदिर (Ram Mandir) का निर्माण शुरू हुई हो पाया था कि अब मथुरा में श्री कृष्ण जन्म भूमि (Shri...

Bareilly: कोरोना के रोकथाम के लिए नवनीत सहगल बनाएंगे रणनीति, लिए जाएंगे यह कदम

बरेली में कोरोना वायरस (Corona virus) धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है। अब इसकी रोकथाम के लिए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम और ग्रामोद्योग...

उत्तराखंड से इन राज्यों के लिये चलेंगी 100-100 बसें, सरकार ने की ये घोषणा

उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रोडवेज बसों के अंतरराज्यीय परिवहन को शुक्रवार को अनुमति दे दी है। मुख्यमंत्री ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल,...

SSR Case: सुशांत के वकील ने किया ये बड़ा दावा, फिर रिया चक्रवर्ती के वकील ने दी यह प्रतिक्रिया

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) में एक नया मोड़ आ गया है। सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह (Vikas Singh)...