drishti haldwani

दूसरी बार सत्ता में आते ही मोदी सरकार ने दिया मुस्लिमों को सबसे बड़ा तोहफा

232

चुनाव जीतने के बाद संसद के सेंट्रल हॉल में एनडीए की बैठक में नरेंद्र मोदी ने अल्पसंख्यकों को लेकर बड़ी बात कही थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि पंथ और जाति के आधार पर कोई विकास यात्रा में पीछे नहीं छूटना चाहिए और अब तक अल्पसंख्यकों के साथ जो छल किया गया है उसमें छेद करते हुए सबका विश्वास जीतना है। विश्वास जीतने के लिए मोदी सरकार ने शुरूआत कर दी है। मोदी सरकार ने मुस्लिम विद्यार्थीयों को बड़ा तोहफा दिया है। यह तोहफा पढ़ाई-लिखाई के लिए है।

iimt haldwani

modi4

5 करोड़ विद्यार्थियों को ‘प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति’ देने का एलान

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने अपने मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद अगले पांच साल में 5 करोड़ विद्यार्थियों को ‘प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति’ देने का एलान किया। खास बात ये है कि इसमें से करीब ढ़ाई करोड़ यानी 50 प्रतिशत छात्राएं होंगी। इसका लाभ लेने की प्रक्रिया को सरल और पारदर्शी बना दिया गया है।

नकवी ने कहा कि विकास की गाड़ी को विश्वास के हाईवे पर तेजी से दौड़ाना अगले पांच वर्षों में हमारी प्राथमिकता होगी, ताकि प्रत्येक जरूरतमंद की आंखों में खुशी और उसके जीवन में समृद्धि लाई जा सके। विश्वास के हाईवे पर न कोई स्पीड ब्रेकर आने देंगे और न कोई रोड़ा. इसके लिए हमें चौकस और चौकन्ना रहना होगा।

modi3

‘पढ़ो-बढ़ो’ जागरूकता अभियान

नकवी ने कहा कि ‘3ई’ यानी एजुकेशन, एम्प्लॉयमेंट और एम्पावरमेंट हमारा लक्ष्य है। इसे पूरा करने के लिए हम परिश्रम कर रहे हैं। कार्यक्रम के तहत अगले 5 वर्षों में प्री-मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक एवं मेरिट-कम-मीन्स आदि योजनाओं द्वारा 5 करोड़ विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दी जाएगी, जिनमें 50 प्रतिशत से ज्यादा लड़कियों को शामिल किया जाएगा। इनमें आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग की लड़कियों के लिए 10 लाख से ज्यादा ‘बेगम हजरत महल बालिका छात्रवृत्ति’ भी शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि ‘पढ़ो-बढ़ो’ जागरूकता अभियान के अंतर्गत उन सभी दूरदराज क्षेत्रों में जहां सामाजिक एवं आर्थिक रूप से पिछड़ापन है तथा लोग अपने बच्चों को शैक्षणिक संस्थानों में नहीं भेज पा रहे हैं, उन माता-पिताओं को अपने बच्चों को शैक्षणिक संस्थानों में भेजने हेतु जागरूक एवं प्रोत्साहित किया जाएगा। इसमें विशेष रूप से लड़कियों की शिक्षा पर फोकस किया जाएगा। साथ ही शैक्षणिक संस्थाओं को सुविधा एवं साधन उपलब्ध कराने के लिए प्रभावी काम किया जाएगा।

images (1)

मुस्लिमों को ऐसे मिलेगा रोजगार

नकवी ने कहा कि रोजगार पर भी पांच साल का रोडमैप पेश किया. कहा कि दस्तकारों, शिल्पकारों, कारीगरों को रोजगार से जोडऩे और बाजार मुहैया करवाने के लिए अगले पांच साल में देश में 100 से अधिक ‘हुनर हाट’ का आयोजन होगा. साथ ही उनके स्वदेशी उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री के लिए भी व्यवस्था की जाएगी. पांच साल 25 लाख नौजवानों को रोजगारपरक कौशल उपलब्ध कराया जाएगा और इसके साथ ही ‘सीखो और कमाओ’ ‘नई मंजिल’ ‘गरीब नवाज कौशल विकास’ और ‘उस्ताद’ जैसे रोजगारपरक कौशल विकास कार्यक्रमों को प्रभावकारी बनाया जाएगा।

मोदी ने अपने भाषण में कही थी ये बड़ी बात

चुनाव जीतने के बाद संसद के सेंट्रल हॉल में एनडीए की बैठक में नरेंद्र मोदी ने अल्पसंख्यकों को लेकर बड़ी बात कही थी। जिसमें उन्होंने कहा थी कि यह दुर्भाग्य रहा कि देश के अल्पसंख्यकों के साथ छलावा कर उन्हें भ्रमित और डरा कर रखा गया। कभी भी उनके स्वास्थ्य और शिक्षा जैसे मुद्दों की चिंता नहीं की गई। पीएम मोदी ने कहा था कि पंथ और जाति के आधार पर कोई विकास यात्रा में पीछे नहीं छूटना चाहिए और अब तक अल्पसंख्यकों के साथ जो छल किया गया है उसमें छेद करते हुए सबका विश्वास जीतना है।