inspace haldwani
Home योजनाएँ होम स्टे योजना की पंजीकरण प्रक्रिया जाने, कैसे आवेदक को 30 दिन...

होम स्टे योजना की पंजीकरण प्रक्रिया जाने, कैसे आवेदक को 30 दिन में मिलेगी अनुमति

उत्तराखण्ड गृह आवास (होम स्टे) की पंजीकरण प्रक्रिया क्या है।
राज्य भर में पर्यटन व्यवसाय से जुडऩे वाले स्थानीय लोगों के लिए उत्तराखण्ड सरकार की उत्तराखण्ड गृह आवास (होम स्टे योजना) वरदान साबित हो रही है। आज हम इस योजना में पंजीकरण की प्रक्रिया एवं शर्तें, शुल्क कहाँ, कैसे और ध्यान रखने योग्य बातों की जानकारी दे रहे हैं।
होम स्टे योजना में पंजीकरण हेतु प्रक्रिया
1- होम स्टे योजना में पंजीकरण के लिए भवन स्वामी हेतु अपने कक्षों को निर्धारित करने के बाद पांच सौ रूपये पंजीकरण का शुल्क अपने जिले के क्षेत्रिय या फिर जिला पर्यटन विकास अधिकारी के कार्यालय में शुल्क जमा करेंगे।
2- यह शुल्क मुख्य कार्यकारी अधिकारी, उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद देहरादून के नाम बैंक ड्राफ्ट देना होगा।
3- ऐसी आवासीय ईकाईयों को पंजीकृत किया जायेगा जिसमें भवन स्वामी खुद निवास करता हो।
4- होम स्टे मे करीब छह कमरों की व्यवस्था करनी होगी जिसमें प्रत्येक कमरें में टू बैड या फिर एक कमरें में चार बैड से ज्यादा बैड न हो को स्वीकृति दी जायेगी।
5- विभाग द्वारा शौचालय, जल, विद्युत एवं आवश्यक उपकरणों के आधार पर कुल 27 मानकों को तय करने के आधार पर आवास गृह को गोल्ड, सिल्वर और ब्रान्ज कैटेगरी में बांटा जायेगा। इसकी लिस्ट आपको इन्हीं नीचे दिये गये फोटों के आधार पर आवेदक तय कर सकता है।

यह भी पढ़ें-LIC की गारंटी पेंशन स्कीम योजना- 5 लाख जमा कर, आजीवन होगी 8000 रुपए महीने की कमाई

Home Stey
6- आवास गृह या होम स्टे को हमेशा साफ सुथरा व अग्निशमन सुरक्षा उपकरणों से लैस करना होगा
7- होम स्टे की पार्किंग के लिए शहरी क्षेत्रों के मानक जिला विकास प्रधिकरण के द्वारा निर्धारित नक्शा स्वीकृत आधार पर देनी होगी जबकि ग्रामीण क्षेत्र य फिर जिन इलाकों में प्रधिकरण का दायरा नही है उन इलाकों में आवास गृह के मालिक या आवेदक की इच्छा पर पार्किंग निर्धारित है।

यह भी पढ़ें-अगर आपके पास है ये अकाउंट तो कम ब्याज दर मिलेगा कर्ज, जानिए कैसे ?

8- होम स्टे योजना में शौचालय की सफाई तथा जैविक अजैविक कूड़ा का निस्तारण भवन स्वामी को खुद करना होगा।
9- सरकार द्वारा पर्यटन अधिकारी के नेतृत्व वाली समिति होम स्टे का निरीक्षण करेगी और यदि कोई कमी होगी तो उसके निराकरण के लिए पत्र देगी। अगर समिति द्वारा दिये गये निर्देशों पर कमियों को दूर नही किया जायेगा तो आवेदन को निरस्त कर दिया जायेगा।
10 – अच्छी बात रहेगी जिसमें आवेदक को 30 दिन के भीतर क्षेत्रिय या जिला पर्यटन विकास अधिकारी से पंजीकरण या फिर निरस्तीकरण की पूर्ण रिपोर्ट भेजी जायेगी।
साथ ही सरकार की नियमावली में समय समय पर परिर्वतन के आधार पर भवन स्वामी को परिवर्तन करना होगा।

Related News

हल्द्वानी-मात्र 15900 रूपये से करें स्वरोजगार, बिष्ट उद्योग करेंगा आपकी पूरी मदद

हल्द्वानी-बिष्ट उद्योग द्वारा कम से कम पूंजी में मशीनों को तैयार कर उत्तराखंड के बेरोजगारों को आत्मनिर्भर बनाने का पूरा प्रयास किया जा रहा...

उत्तराखंड- प्रदेश में आसान हो जाएगा कीड़ा जड़ी का व्यापार, सीएम त्रिवेंद्र ने किया बड़ा ऐलान

उत्तराखंड में कीड़ा जड़ी का कारोबार करने वालों को अब किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं होगी। दरअसल सरकार इन कारोबारियों के लिए एक...

हल्द्वानी-15900 रूपये में स्वरोजगार शुरू करने का बड़ा मौका, ऐसे करें खुद का कारोबार

हल्द्वानी-अगर आप कोई स्वरोजगार करने का मन बना रहे है। आपकों मशीनों की खरीद के लिए दिल्ली और यूपी के बड़े शहरों में भटकना...

हल्द्वानी- HPMI संस्था के खेती के फार्मूले से किसान होंगे माला माल, ऐसे बन रही है रणनीति

हल्द्वानी - हाइड्रोपोनिक्स सिस्टम आधारित वर्टिकल फार्मिंग के अंतर्गत एच पी एम आई संस्था द्वारा प्रति वर्ग मीटर अधिक उत्पादन के लिए एक पायलट...

त्रिवेन्द्र सरकार की मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, ऐसे शुरू करें मसाला उद्योग

प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के लिए राज्य सरकार लगातार रोजगार मुहैया कराने में जुटी है। इन युवाओं को रोजगार से जोडऩे के लिए त्रिवेन्द्र...

त्रिवेन्द्र सरकार की मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, ऐसे शुरू करें ऊनी हथकरघा उद्योग

प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के लिए राज्य सरकार लगातार रोजगार मुहैया कराने में जुटी है। इन युवाओं को रोजगार से जोडऩे के लिए त्रिवेन्द्र...