हल्द्वानी- बच्चों के इलाज को दर-दर भटकता रहा पिता, एक ही दिन में ऐसे छाया इस परिवार में मातम

Slider

हल्द्वानी में उपचार न मिलने के कारण एक ही परिवार के दो बच्चों की मौत हो गई। मामला हल्द्वानी के गांधीनगर क्षेत्र का है। यहां रहने वाला पप्पू नाम के युवक की हाइडल गेट के पास पंचर की दुकान है। दुकान में होने वाली रोजाना कमाई से ही वह अपने परिवार का पालन पोषण करता है। बताया जा रहा है कि नवमी के दिन पप्पू की बेटी निधि की अचानक तबीयत खराब हो गई, बेटी के सिर में सिर दर्द की शिकायत के बाद उसे बेस अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने निधि को हाथ लगाने से भी मना कर दिया। परिवार द्वारा मन्नतें मांगने के बाद डॉक्टरों ने निधि को एसटीएच भेज दिया, जहां शनिवार रात 11:00 बजे उसकी मौत हो गई।

बेटी के बाद बेटे को भी खोया

अभी पप्पू के परिवार में बच्ची की मौत का मातम चल ही रहा था कि पप्पू के 6 वर्षीय बेटे विवेक की भी अचानक तबीयत खराब होने लगी। परिजन विवेक को रामपुर रोड स्थित एक निजी अस्पताल में ले गए। जहां डॉक्टरों ने उसे निमोनिया का मर्ज बताकर भर्ती तो कर लिया, लेकिन रात 8:00 बजे उसकी ज्यादा तबीयत खराब हो जाने पर उसे दूसरे अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। बाद में परिजन विवेक को एसटीएच ले गए जहां इमरजेंसी सेवाएं बंद पाई गई परेशान पिता पप्पू ने पहले बेटी को खोकर अब बेटे को हर हाल में बचाने के भरसक प्रयास किए।

Slider

haldwani city news

एसटीएच के बाद वह अपने बेटे को एक निजी अस्पताल ले गया वहां फिर डॉक्टरों ने उसे भर्ती कर दिया लेकिन रात 1:00 बजे उन्होंने भी जवाब दे दिया, यहां तक कि अस्पताल ने एंबुलेंस भी नहीं दी, पप्पू अपनी स्कूटी में किसी तरह बच्चे को अपने घर तो ले आया। लेकिन सुबह 5:00 बजे बच्चे ने दम तोड़ दिया। 6 घंटे के भीतर एक ही परिवार के दो मासूम बच्चों की मौत के बाद परिवार के ऊपर मानो दुखों का पहाड़ टूट गया।

यहाँ भी पढ़े

हल्द्वानी- बनभूलपुरा क्षेत्र में DM बंसल की बड़ी कार्यवाई, 5 पॉजिटिव जमाती मिलने के बाद लिया ये फैसला

हल्द्वानी-भ्रामक पोस्टों को भूलकर भी न करें फॉरवर्ड, अब होगी ये कार्यवाही

 

उत्तराखंड की बड़ी खबरें