iimt haldwani

हल्द्वानी-JEE Advance परीक्षा में आकाश इंस्टीट्यूट के छात्र ने मारी बाजी, उत्तराखंड में 2nd टॉपर बना जय बिष्ट का IIT में होगा एडमिशन

931

हल्द्वानी- आज आइआइटी रुडक़ी ने जेईई एडवांस का परीक्षा परिणाम घोषित किया है। एक बार फिर आकाश इंस्टीट्यूट ने प्रदेश में बाजी मारी है। आकाश इंस्टीट्यूट के छात्र जय बिष्ट ने प्रदेश में जेईई एडवांस परीक्षा में दूसरा रैंक हासिल कर अपने माता-पिता और आकाश इंस्टीट्यूट का नाम रोशन किया है। जय बिष्ट की इस सफलता से संस्थान में खुशी का माहौल है। आकाश इंस्टीट्यूट के निदेशक भरत गोयल ने बताया कि जय बिष्ट को उत्तराखंड में दूसरी रैंक मिली और देश मेें 653वीं रैक है। उन्होंने बताया कि जय के पिता उमराव सिंह बिष्ट आसाम राइफल में तैनात है, जबकि माता लक्ष्मी देवी गृहणी है। जय बिष्ट करीब 8-9 घंटे पढ़ाई करते है। जय की सफलता में उनकी बहन स्वाति बिष्ट का बड़ा योगदान हैं। वह लोहाघाट कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर तैनात है। उन्होंने परीक्षा के लिए आकाश का उत्साहवर्धन किया और उसे ट्रिप्स दिये।

drishti haldwani

रुडक़ी- JEE Advanced 2019 का परीक्षा परिणाम घोषित, महाराष्ट्र के गुप्ता कार्तिकेय चंद्रेश बने ऑल इंडिया टॉपर

ईआईटी में होगा जय बिष्ट का एडमिशन

गोयल ने बताया कि अब जय बिष्ट का एडमिशन आईआईटी में होगा। उन्होंने जय बिष्ट और उसके परिजनों को उनकी इस सफलता के लिए बधाई दी तथा उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। गौरतलब है कि परीक्षा देने वाले 161319 अभ्यर्थियों में से 38705 अभ्यर्थी सफल हुए हैं। जिसमें छात्रों की संख्या 33349 है, जबकि छात्राओं की संख्या 5356 है।

शैलेन्द्र ने की एम्स मेडिकल परीक्षा पास

गोयल ने बताया कि इसके अलावा संस्थान के छात्र शैलेन्द्र चनियाल ने एम्स मेडिकल क्वालीफाई किया है। जिन्हे 642वीं रैंक हासिल हुई है। संस्थान में दो-दो छात्रों की सफलता से खुशी का माहौल है। इस खुशी में छात्रों ने सडक़ पर जूलूस निकालकर खुशी का इजहार किया गया। एक बार फिर आकाश इंस्टीट्यूट ने देशभर में अपना परचम लहराया है और अपनी पढ़ाई का लोहा मनवाया है।

सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह ने उत्साहवर्धन किया

सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह ने कहा कि उन्हें खुशी है कि यहाँ के बच्चे कई परीक्षाओं को पास कर अपने माँ और पिता का मान बड़ा रहे हैं। सफल विद्यार्थियों को बधाई दी और जो स्टूडेंट परीक्षा में कम रैंक लाए हैं उन्होंने और मेहनत करने की सीख दी है।