चमोली- इन नियमों के साथ पर्यटक कर सकते है फूलों की घाटी के दीदार, पढ़े क्या है खासियत

Slider

पर्यटक अब उत्तराखंड के चमोली जिले में मौजूद विश्व धरोहर फूलों की घाटी का दीदार कर सकेंगे। इसके लिए कोविड नियमों के तहत उन्हें 72 घंटे पहले की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क के उप वन संरक्षक नंदा बल्लभ शर्मा ने कहा कि फूलों की घाटी एक जून को खोल दी गई है। लेकिन कोरोना के चलते पर्यटकों की आवाजाही बंद थी। अब घाटी को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है।

खिलती है फूलों की 500 प्रजातियां

जानकारी मुताबिक जो भी पर्यटक यहां आएगा उसके पास 72 घंटे की निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट होनी जरूरी है। बता दें कि हिमाच्छादित पर्वतों के बीच स्थित फूलों की घाटी में विभिन्न प्रजाति के लगभग 300 फूल खिले हैं, जो दूर-दूर तक अपनी महक बिखेरते हैं। गोविंदघाट से 16 किलो मीटर की पैदल दूरी तय कर पर्यटक फूलों की घाटी में पहुंचते हैं।

Slider

uttarakhand tourist place phoolo ki ghati

फूलों की घाटी भ्रमण के लिए जुलाई, अगस्त व सितंबर के महीनों को सर्वोत्तम माना जाता है। सितंबर में यहां ब्रह्मकमल खिलते हैं, जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। फूलों की घाटी के वन क्षेत्राधिकारी वृजमोहन भारती ने बताया कि घाटी में फूलों की लगभग 500 प्रजातियां खिलती हैं। मौजूदा समय में यहां करीब 300 फूलों की प्रजाति खिली हुई हैं।

यहाँ भी पढ़े

हल्द्वानी- सुशीला तिवारी अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों की कलाई नहीं रहेगी सूनी, की ये खास व्यवस्था

दुनिया की नई टेक्नोलॉजी को बनायेंगे शिक्षा का आधार, जाने क्यूं है हल्द्वानी ग्राफिक एरा हिल यूनिवर्सिटी खास

देहरादून- उत्तराखंड में IAS और PCS अफसरों के तबादले, जाने किसको मिली कौनसी नई जिम्मेदारी

उत्तराखंड की बड़ी खबरें