बुजुर्गों के लिए शुरू होगा नेशनल हेल्पलाइन नंबर, एक कॉल पर मिलेगी मदद

बुजुर्गों का ख्याल रखने के लिए सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है। बुजुर्गों को अपनी सभी छोटी-बड़ी जरूरतों के लिए भटकना पड़ता था। लेकिन सरकार (Government) अब उनके लिए एक नेशनल हेल्पलाइन नंबर (National Helpline Number) शुरू कर रही है जिस पर वे एक कॉल (Call) करके सारी मदद पा सकेंगे। यह नंबर अप्रैल तक जारी कर दिया जाएगा शुरूआत के कुछ महीनों तक यह ट्रायल (Trial) के तौर पर रखा जाएगा।
helpline no.इस योजना से सरकार बुजुर्गों तक सीधे मदद पहुंचाने का कार्य करेगी। बुजुर्गों के लिए काम कर रही सभी एनजीओ (NGO) और सरकारी एजेंसियों (Government Agencies) को कॉल सेंटर (Call Center) से जोड़ा जाएगा। क्योंकि कोई भी कॉल मिलने पर उसे तुरंत उसी क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ या सरकारी एजेंसी को ट्रांसफर (Transfer) किया जा सके। इसके साथ ही उस कार्य को पूरा करने की समय सीमा (Time Limit) भी तय की जाएगी।
elders

यह भी पढ़ें-प्रधानमंत्री सोलर पैनल योजना से जगमगाये घर, सब्सिडी भी ले और बिजली भी बेचे

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय (Ministry of Social Justice and Empowerment) से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि इस क्षेत्र में काम करने वाली आईटी कंपनियों (IT Company) से इसके लिए संपर्क किया गया है। कई कंपनियों ने इस में रुचि दिखाई है। मंत्रालय ने इसे अप्रैल 2020 तक तैयार करने का लक्ष्य दिया है। मंत्रालय के मुताबिक अब तक बुजुर्गों के लिए कोई भी हेल्पलाइन नंबर नहीं था। ऐसे में इस हेल्पलाइन नंबर के शुरू होने से बुजुर्गों को काफी लाभ मिलेगा।

मंत्रालय की ओर से बुजुर्गों के लिए इस हेल्‍पलाइन नंबर के साथ और भी कई योजनाएं चलाई जाएंगी। इसमें राष्ट्रीय वयोश्री योजना (Rashtriya Vayoshri Yojana) भी शामिल है। इस योजना में बुजुर्गों को उनके बुढ़ापे से जुड़े जरूरी उपकरण दिए जाएं जाएंगे। इन उपकरणों में छड़ी, सुनने की मशीन, नकली दांत, चश्मे आदि शामिल हैं। साथ ही सरकार बुजुर्गों की देखरेख के लिए सरकार एक नया विधेयक (Bill) भी ला रही है जो फिलहाल संसद (Parliament) में रूका हुआ है। उम्मीद है कि वह संसद के मौजूदा सत्र (Session) में पारित हो जाएगा।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें