केदारनाथ- बुधवार को खुलेंगे बाबा केदारनाथ धाम के कपाट, जाने श्रद्धालुओं को कबसे मिलेंगे दर्शन

Slider

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जारी लॉकडाउन के चलते इस वर्ष बाबा केदार की यात्रा में डोली कार्यक्रम व कपाटोद्घाटन सूक्ष्म रूप से किया जा रहा है। गौरीकुंड तक वाहन से लाने के बाद बाबा केदार की डोली को पैदल ही भीमबली होते हुए केदारनाथ धाम ले जाया गया। बाबा केदार की डोली सोमवार शाम को धाम पहुंची। अब बुधवार को सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर केदारनाथ मंदिर के कपाट मेष लग्न में खोले जाएंगे।

डोली दो दिन धाम में करेगी विश्राम

गौरीकुंड-केदारनाथ पैदल मार्ग पर जमाणियों के कांधों पर सवार डोली चिरबासा, जंगलचट्टी होते हुए सात किमी का सफर तय सुबह साढ़े दस बजे भीमबली पहुंची। यहां पर बाबा केदार की डोली को भीमशिला के समीप रखा गया। अल्प विश्राम के उपरांत पूर्वान्ह 11.30 बजे डोली भीमबली से धाम के लिए आगे बढ़ी और रामबाड़ा, छोटी लिनचोली, बड़ी लिनचोली, छानी कैंप, रुद्रा प्वाइंट होते हुए नौ बर्फ से प्रभावित रास्ते के बीच से अपराह्न तीन बजे अपने धाम केदारनाथ पहुंची, जहां

Slider

kedarnath temple uttarakhand

पर मुख्य पुजारी द्वारा सभी धार्मिक परंपराओं का निर्वहन किया गया। इस दौरान लोगों ने अपने घरों से ही हाथ जोड़कर भगवान केदारनाथ को धाम के लिए विदा किया। सुबह 6.30 बजे बाबा की चल विग्रह डोली ने अपने धाम प्रस्थान किया। अब डोली धाम में दो दिन विश्राम करेगी। केदारनाथ यात्रा के इतिहास में यह पहला मौका है, जब बाबा की चल विग्रह डोली कपाटोद्घाटन से दो दिन पूर्व ही धाम पहुंच गई हो।

दो माह यात्रा का संचालन सूक्ष्म रूप से होगा

देवस्थानम बोर्ड के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि कपाटोद्घाटन समारोह को सूक्ष्म रूप से किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिन लोगों को पास जारी हुए हैं, वे ही डोली के साथ शामिल हैं। अब, डोली मंगलवार तक धाम में ही विश्राम करेगी। जबकि बुधवार केदारनाथ मंदिर के कपाट खोले जाएंगे।

इसके बाद, मुख्य पुजारी समेत मंदिर से जुड़े गिनती के लोग ही धाम में रह सकेंगे। देवस्थानम बोर्ड के कार्याधिकारी ने बताया कि कोरोना संक्रमण के कारण इस वर्ष शुरूआती दो माह यात्रा का संचालन सूक्ष्म रूप से होगा। इस दौरान समिति द्वारा रोस्टर के तहत अपने कर्मचारी धाम में रखे जाएंगे, जिससे पूजा-अर्चना व सायंकालीन आरती की व्यवस्थाओं को नियमित किया जा सके।

यहाँ भी पढ़े

किच्छा- गरीबों की मसीहा बनी सात युवाओं की टीम, ऐसे जरूरतमंदों तक पहुंचा रहे राशन

हल्द्वानी- पाठकों के ईजा-बौज्यू के लिए डीएम का फरमान, जनिये क्यों करना होगा इनको क्वारंटीन

उत्तराखंड की बड़ी खबरें