drishti haldwani

फिल्म सूटिंग के बाद ऋषिकेश के इस आश्रम क्यों आते है अभिनेता रजनीकांत? जाने उनका उत्तराखंड कनेक्शन

482

South Superstar Rajinikanth, साउथ फिल्मों के सुपर स्टार रजनीकांत के फैन्स पूरे देश भर में है। हर कोई उनकी एक्टिंग और स्टाईल का दिवाना है। सिनेमाघरों में रजनीकांत की फिल्म लगते ही साउथ के कई राज्यों में छुट्टी घोषित कर दी जाती है। जबकि पूरे भारत में टिकट बुकिंग हाउसफुल हो जाती है। लेकिन बात अगर रजनीकांत की निजी जिंदगी की करे तो वह बड़े सरल स्भाव के है।

iimt haldwani

इसीलिये उनका देवभूमि से एक खास नाता है। बता दें कि सुपरस्टार रजनीकांत इन दिनों उत्तराखंड के ऋषिकेश में है। एक वर्ष बाद वे फिर अपने गुरु स्वामी दयानंद सरस्वती के आश्रम में पहुंचे हैं। एक वर्ष पूर्व वह अपनी फिल्म रोबोट की शूटिंग पूरी करने के बाद यहां पहुंचे थे। यह फिल्म सुपरहिट हुई थी। रजनीकांत ने ऋषिकेश प्रवास के दूसरे दिन गुरु की समाधि और कक्ष में ध्यान लगाया।

South Superstar Rajinikanth in uttarakhand

रजनीकांत इस बार भी अपनी फिल्म दरबार की शूटिंग पूरी करके यहां पहुंचे। आज वह बदरी-केदार की यात्रा को रवाना होंगे। सुपरस्टार रजनीकांत रविवार की दोपहर 12:00 बजे जौलीग्रांट एयरपोर्ट से ऋषिकेश के शीशमझाड़ी स्थित अपने गुरु स्वामी दयानंद सरस्वती के आश्रम पहुंचे थे। उनके साथ उनकी बड़ी बेटी ऐश्वर्या धनुष भी थी।

आश्रम में पहुंचते ही रजनीकांत ने सबसे पहले अपने गुरु की समाधि के दर्शन किए। करीब 10 मिनट तक उन्होंने ध्यान लगाया। समाधि स्थल के बाद रजनीकांत यहां देवी के मंदिर में दर्शन करने गए। यहां के पुजारी और आश्रम के सेवकों ने उनका माल्यार्पण और तिलक कर स्वागत किया। भोजन ग्रहण करने के बाद रजनीकांत अपने कक्ष में चले गए।

अपनी बेटी संग तीर्थ यात्रा करने पहुंचे उत्तराखंड

जानकारी मुताबिक रजनीकांत अपनी बेटी के साथ उत्तराखंड तीर्थ यात्रा के लिए पहुंचे है। अपनी फिल्म की सूटिंग के बाद गुरू दर्शन के लिए रजनीकांत लगातार दूसरी बार ऋषिकेश आये है। आज सुबह उन्होंने गुरु की समाधि पर जाकर करीब 8 मिनट तक ध्यान लगाया। इस दौरान वहां किसी को भी नहीं जाने दिया गया।

South Superstar Rajinikanth in uttarakhand

गुरु की समाधि से निकलने के बाद रजनीकांत अपने गुरु स्वामी दयानंद सरस्वती के कक्ष में गए। यह वही कक्ष है जहां स्वामी दयानंद सरस्वती ने अंतिम सांस ली थी। रजनीकांत ने इस कमरे के भीतर दरवाजा बंद किया और कई 10 मिनट तक वह भीतर ही ध्यान लगाकर बैठे रहे। आश्रम में रहने वाले उनके प्रशंसक उनसे मिलने पहुंचे। रजनीकांत में सभी के साथ फोटो खिंचवाई।