drishti haldwani

क्यों लगाते हैं माथे पर तिलक, जानिए क्या है इसका महत्व

152

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : यूं तो माथे पर तिलक लगाने के अलावा हिन्दू परंपराओं में गले, हृदय दोनों बाजू, नाभि, पीठ, दोनों बगल आदि मिलाकर शरीर के 12 स्थानों पर तिलक लगाने का विधान है। शोधकर्ताओं का मानना है कि मस्तक पर तिलक लगाने से शांति और ऊर्जा मिलती है। शास्त्रों के अनुसार मनुष्य मस्तक के मध्य में भगवान विष्णु का वास होता है। मंदिर में या घर में जब भी हम पूजा करते हैं भगवान के दर्शन के बाद पंडित जी तिलक जरूर लगाते हैं। माथे पर तिलक लगाना ईश्वर का प्रसाद माना जाता है। माथे पर तिलक लगाना ना सिर्फ धा्र्मिक आस्था होती है बल्की इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं।

iimt haldwani

tilak3

माथे पर तिलक लगाने के कारण-

आत्मविश्वास

दोनों भोंहों के बीच के स्थान को अग्नि चक्र कहा जाता है। वैज्ञानिक भाषा में इसको थर्ड आई भी कहा जाता है। यहीं से हमारे शरीर में शक्ति का संचार होता है। अग्नि चक्र पर तिलक लगाने से आत्मविश्वास बढ़ता है।

 एकाग्रता

सभी पंडित या साधू-संत पूजा अराधना से पहले माथे पर तिलक लगाते हैं। ऐसा करने से मन शांत रहता है।

tilak

सुख-समृद्धि

अगर आप अपनी आर्थिक स्थिती से परेशान हैं तो, आप मां लक्ष्मी का पूजन करें और केसर का तिलक लगाएं। ऐसा करने से सुख-समृद्धि प्राप्त होगी।

शुभ

साधू-संत के कहे अनुसार देवी देवताओं की अराधना करें। हर दिन के अलग-अलग स्वामी ग्रह होते हैं। जिनका प्रभाव हमारे उपर होता है। वार के अनुसार तिलक लगाया जाए तो उस दिन से संबंधित ग्रह को अनुकूल बनाया जा सकता है।