PMS Group Venture haldwani

उत्तराखंड में मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट, इस दिन होगी ओलावृष्टि के साथ तेज बारिश बिजली गिरने की आशंका

उत्तराखंड में जिस तरह से अचानक मौसम  ने करवट बदली उससे लगता है कि इस बार मानसून जून के पहले सप्ताह में दस्तक दे चुका है। बीती रात चमोली के लाबगड़ और अल्मोड़ा के चौखुटिया में बादल फटने से भारी तबाही हुई है। इधर मौस विभाग ने फिर से भारी बारिश और ओलावृष्टि का रेड एलर्ट जारी किया है। शासन ने भी एसडीआरएफ को अलर्ट पर रहने के निर्देश जारी किए हैं। इन दिनों उत्तराखंड दावानल की चपेट में है। चमोली से लेकर हल्द्वानी तक जंगल आग से धधक रहे हैं। बारिश होती है तो जंगलों में लगी आग को बुझाने में काफी मदद मिलेगी।

mansoon

03 जून से 24 घंटे के दौरान तेज आंधी, ओलावृष्टि और बिजली गिरने की आशंका है इसे लेकर मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है। अगले पांच दिनों तक तापमान में गिरावट आने की संभावना बन रही है। कई हिस्सों में तेज आंधी, ओलावृष्टि और बारिश हो सकती है। बारिश की वजह से तापमान 38 डिग्री से गिरकर 34 डिग्री तक आ सकता है। पर्वतीय इलाकों के साथ ही मैदानी क्षेत्रों में भी बारिश और ओलावृष्टि से गर्मी से राहत मिलने के आसार हैं।

तापमान में 2 से 4 डिग्री तक गिरावट संभावना

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार प्रदेशभर में हल्की बारिश की संभावना है। तापमान में 2 से 4 डिग्री तक गिरावट का अनुमान है। मौसम विभाग ने अलग एक सप्ताह का पूर्वानुमान जारी किया है। इसके तहत प्रदेश में कई हिस्सों में बादल छा सकते हैं। कुछ हिस्सों में तेज आंधी, ओलावृष्टि और बारिश हो सकती है। बारिश की वजह से तापमान 38 डिग्री से गिरकर 34 डिग्री तक आ सकता है। पर्वतीय इलाकों के साथ ही मैदानी क्षेत्रों में भी बारिश और ओलावृष्टि से गर्मी से राहत मिलने के आसार हैं।

mansoon3

जंगलों की आग पर होगा नियंत्रण

मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे प्रदेश के कई हिस्सों में 60 से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी और बिजली गिरने की आशंका के मद्देनजर रेड अलर्ट जारी किया है। साथ ही कई स्थानों पर ओलावृष्टि का येलो अलर्ट भी जारी किया गया है। मौसम विभाग के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि रेड अलर्ट के बीच पहाड़ पर यात्रा करने वाले लोगों को एहतियात बरतने की सलाह दी गई है।

इस साल कम बारिश की वजह से जंगलों में आग की घटनाएं बढ़ रही हैं। वन विभाग भी अब बारिश का इंतजार कर रहा है। माना जा रहा है कि अगले छह दिनों में होने वाली बारिश से जंगलों की आग से राहत मिल सकती है।

कोरोना पीड़ित संदिग्ध बोला डॉक्टर साहब मेरी जान बचा लो। देखिये अस्पताल में अंदर फिर क्या हुआ। मॉक ड्रिल अस्पताल की।