कुम्भ मेले के ‘वनमानुष बाबा’, 24 घंटे पैर जमीन पर नहीं रखते, करते हैं बस यह एक काम…

प्रयागराज-न्यूज टुडे नेटवर्क : इन दिनों तो प्रयागराज कुंभ मेले में लाखों श्रद्धालु जा रहे हैं,इस दौरान लाखों की संख्या में साधू संत भी संगम नगरी पहुंच रहे हैं। हाल ही में प्रयागराज कुंभ में एक ऐसे ही बाबा नजर आए, जिन्हें देखकर रह कोई हैरान रह गया। क्योंकि ये बाबा बाकी के बाबाओं से अनोखे थे। यही नहीं वो दुल्हन जैसी सजी गाड़ी से सफर करते हैं और अपनी पत्नी को भी साथ रखते हैं।

vanmanush-baba_

8 वर्ष की उम्र में काली मां के दर्शन

आज हम आपको ‘वनमानुष बाबा’ के बारे में बता रहे हैं जो इन दिनों चर्चाओं में बने हुए हैं। इन बाबा का नाम है सालिकराम महाराज, जिन्हें लोग ‘वनमानुष बाबा’ के नाम से पुकारते हैं। ‘वनमानुष बाबा’ का दावा है कि जब वो 8 साल के थे, तभी उन्हें सपने में मां काली ने दर्शन दिए थे, जिसके बाद से उनकी जिंदगी ही बदल गई। सोशल मीडिया पर इन बाबा की तस्वीरें तेजी से वायरल हो रही है।

vanmanush-baba

मध्य प्रदेश के रहने वाले है ‘वनमानुष बाबा’

यह बाबा पूरे 24 घंटे में से सिर्फ 3 घंटे ही आराम करते हैं और बाकी के पूरे समय में वो सिर्फ माता काली की पूजा करते है। ये बाबा मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले में बरमान घाट के रहने वाले है जो हमेशा ही सुई से अपने शरीर पर रक्त चंदन से धारी बनाते हैं। उनका ऐसा कहना है कि माँ काली ने उसे धारियां बनाने को कहा था। उन्होंने कहा कि, ‘मां काली ने पहले उनसे दिन में तीन बार 11 धारी का लेप लगाने को कहा था। लेकिन बाद में जब उन्होंने सिंहस्थ में मां की आराधना की तो उससे प्रसन्न होकर काली माता ने उनसे 28 धारी का लेप लगाने को कहा. तब से वह हर सुबह 5 बजे सुई से अपने शरीर पर रक्त चंदन का लेप लगाते हैं।’

vanmanush-

बाबा एक दिन में तीन बार करते हैं स्नान

आपको बता दें वनमानुष बाबा कभी भी जमीन पर पैर नहीं रखते हैं वो पूरे समय अपनी गाड़ी में ही रहते हैं। ये बाबा सिर्फ और सिर्फ बरमान घाट के आश्रम में ही आकर अपनी गाड़ी से उतरते हैं और फिर पूरे समय जूती पहने रहते हैं। आपको बता दें वनमानुष बाबा की पत्नी और एक बेटा भी है। ये बाबा हर जगह अपनी पत्नी को साथ ले जाते हैं। बाबा एक दिन में तीन बार स्नान करते हैं।