बरेली समेत प्रदेश भर में सपा कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतर कर भरी हुंकार, काशी में नजरबंद रहे सपाई

पीएम मोदी के काशी दौरे को लेकर सपा कार्यकर्ताओं और नेताओं के नजरबंद कर किया गया

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। सपा मुखिया अखिलेश यादव के आवाह्न पर प्रदेश भर में सपा कार्यकर्ताओं ने आज गुरूवार को सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। बढ़ती महंगाई और पंचायत चुनावों में हुयी दबंगई धांधली को लेकर सपाईयों ने सरकार को घेरा। लगभग सभी जिलों में सपा कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे और जोरदार प्रदर्शन किया। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के काशी में होने के कारण सपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को नजरबंद रखा गया।

chaitanya

उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काशी दौरे के दिन ही समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता पूरे प्रदेश में तहसील और जिला स्तर पर प्रदर्शन कर रहे हैं। यह प्रदर्शन सपा मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आह्वान पर हो रहा है। अखिलेश यादव ने पंचायत चुनाव, ब्लॉक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में धांधली का आरोप लगाकर इस प्रदर्शन का आह्वान किया है। मोदी के दौरे को देखते हुए पुलिस प्रशासन प्रदेश में खासा अलर्ट है। इसलिए ज्यादातर तहसीलों और जिलों में सपाईयों को नजरबंद कर दिया गया है। कुछ जगहों पर ही सपाई जिला मुख्यालय तक प्रदर्शन कर पाए हैं।

समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम का कहना है कि हमारा प्रदर्शन जिले स्तर पर पहले ही आयोजित था। नजरबंद करना सरकार की तानाशाही है। इससे यह पता चलता है कि सरकार 2022 का चुनाव हारने वाली है।

पीलीभीत में अर्धनग्‍न होकर प्रदर्शन

पीलीभीत में जिला मुख्‍यालय पर पूर्व राज्‍यमंत्री हेमराज वर्मा के नेतृत्‍व में सपा कार्यकर्ताओं ने जोरदार प्रदर्शन किया। समाजवादी पार्टी कार्यालय से निकलते ही पुलिस ने सपाईयों को रोकने की कोशिश की लेकिन वे कलेक्‍ट्रेट तक जुलूस निकालने में सफल रहे। उधर पीलीभीत की पूरनपुर तहसील में समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं ने अर्धनग्‍न होकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया।

बरेली में जोरदार प्रदर्शन

बरेली में जिलाध्‍यक्ष अगम मौर्य और पूर्व मंत्री भगवतशरण गंगवार के नेतृत्‍व में सपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी। हालांकि यहां पुलिस ने सपा नेताओं को घरों में ही नजरबंद करने की कोशिश की लेकिन तमाम बड़े नेता पुलिस को गच्‍चा देकर पहले ही गायब हो गए और ऐन मौके पर प्रदर्शन करके जुलूस निकाला।