हर घर तिरंगा अभियान के लिए अकेले मथुरा में तैयार हो रहे 5 करोड़ से अधिक तिरंगे

 | 

न्यूज टुडे नेटवर्क। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत हर घर तिरंगा अभियान में मथुरा के साड़ी कारीगर भी अहम भूमिका निभा रहे हैं। यहां की 40 फैक्ट्रियों में इन दिनों तिरंगा झंडा बनाने का काम दिन रात किया जा रहा है। इस काम में करीब 10 हजार कारीगर लगे हुए हैं।

chaitanya

40 साड़ी फैक्ट्रियों में बनाए जा रहे तिरंगा झंडा
मथुरा में साड़ी बनाने के कई कारखाने हैं। जहां साड़ी की छपाई करने से लेकर तैयार किए जाने तक का काम किया जाता है। इन साड़ी फैक्ट्रियों में इन दिनों तिरंगा झंडा बनाए जाने का काम दिन रात किया जा रहा है। साड़ी फैक्ट्रियों में कारीगर तिरंगा की छपाई, कटाई और सिलाई का काम कर रहे हैं। मथुरा की 40 फैक्ट्रियों में प्रतिदिन बड़ी संख्या में तिरंगा झंडा तैयार किए जा रहे हैं।

महाराष्ट्र,गुजरात से आया कपड़ा
तिरंगा झंडा बनाने के लिए कपड़े की आपूर्ति गुजरात के सूरत महाराष्ट्र के माले गांव से की गई है। जबकि तिरंगा झंडा तैयार कर देश के हरियाणा,राजस्थान,मध्य प्रदेश, आसाम,दिल्ली,बिहार सहित पूर्वोत्तर के कई राज्यों में भेजा जा रहा है। यहां एक फैक्ट्री में प्रतिदिन 200 कारीगर द्वारा करीब 1 लाख झंडे तैयार किए जा रहे हैं।

5 करोड़ झंडे होंगे मथुरा में तैयार
साड़ी फैक्ट्रियों में साड़ी बनाए जाने का काम किया जाता था। लेकिन इन दिनों में यह काम कुछ कम हो जाता है ऐसे में साड़ी कारखाना में तिरंगा बनाने का काम मिलने से कारीगरों के साथ साथ फैक्ट्री मालिकों को भी संजीवनी मिल गई है। मथुरा की करीब 40 साड़ी फैक्ट्रियों में 5 करोड़ तिरंगा झंडा तैयार किए जायेंगे। देश की आन बान शान तिरंगा झंडा को तैयार करने में करीब 10 हजार कारीगर दिन रात एक किए हुए हैं।