बरेली: जिन्‍दगी की जंग नहीं जीत पाया ट्रेन हादसे में घायल जवान, टीटीई पर धक्‍का देने का आरोप  

 | 

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी के बरेली में रेलवे जंक्‍शन पर टीटीई की लापरवाही के चलते ट्रेन पर चढ़ते समय घायल हुए फौजी की मौत हो गयी। ट्रेन से हुए हादसे में इंडियन आर्मी के जवान को अपने दोनों पैर गंवाने पड़े थे। पिछले 7 दिनों से जवान का मिलेट्री हास्पिटल में इलाज किया जा रहा था। 12 नवंबर की सुबह एक टीटीई पर जवान को ट्रेन में चढ़ते समय धक्‍का देने का आरोप है।

chaitanya

सेना के सूबेदार की तहरीर पर आरोपी टीटीई के खिलाफ जानलेवा हमले के आरोप में रिपोर्ट दर्ज की गई थी। सात दिन से फौजी जिंदगी की जंग लड़ रहा था। बुधवार दोपहर बाद सेना के अस्पताल में इलाज के दौरान फौजी की मौत हो गई। गुरुवार को कैंट पुलिस पोस्टमार्टम कराएगी। उधर, जीआरपी पूरे घटनाक्रम की जांच कर रही है। वहीं, रेलवे के अधिकारी लगातार धक्का देने की घटना से इनकार करते आ रहे हैं।

12 नवंबर को को ट्रेन संख्या 20503 डिब्रूगढ़ नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस जंक्शन पहुंची तो भाग कर ट्रेन पकड़ रहे गांव भरसौता हल्दी जिला बलिया निवासी 30 वर्षीय राजपूताना राइफल्स रेजीमेंट की यूनिट 24 में तैनात फौजी सोनू सिंह को बी-6 कोच से ट्रेन के टीटीई कूपन बोरों पर ट्रेन से धक्का देने का आरोप लगा था। घटना में उनकी एक टांग पूरी तरह कट गई, जबकि दूसरी टांग गंभीर रूप से कुचलने के कारण बाद में डाक्टरों ने उसे काट दिया।

परिजनों के मुताबिक करीब 22 दिन पहले सोनू की पत्नी ने बेटे को जन्म दिया था। जिसके नामकरण संस्कार में वह यूनिट से छुट्टी लेकर गांव आए थे। किसी काम से अचानक वापस लौटना पड़ा और बरेली जंक्शन पर उनके साथ यह घटना हो गई। सात दिन से उनका इलाज सेना के अस्पताल में चल रहा था। जहां बुधवार शाम करीब 4 बजे फौजी सोनू की मौत हो गई। कैंट थाना प्रभारी बलबीर सिंह ने बताया कि गुरुवार को शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। वहीं सोनू के भाई जितेंद्र सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम के बाद फौजी के शव का बलिया स्थित गांव में अंतिम संस्कार किया जाएगा।