हल्द्वानी - उदयनिधि स्टालिन पर पूर्व विधायक नारायण पाल ने दर्ज कराई FIR, सनातन विवाद पर देश भर में मचा बबाल

 | 

हल्द्वानी - बीते दिनों तमिलनाडू मुख्यमंत्री के बेटे उदयनिधि स्टालिन द्वारा सनातन धर्म पर दिए विवादित बयान के बाद आज हल्द्वानी में भी मुकदमा दर्ज हो गया है. डीएमके नेता और तमिलनाडु सरकार में मंत्री उदयनिधि स्टालिन (Udhayanidhi Stalin) सनातन धर्म (Sanatan Dharma) पर व‍िवाद‍ित ट‍िप्‍पणी करके अब बुरे फंस गए हैं. उनके इस बयान से देश भर में हिन्दू धर्म को मानने वालों को गहरी चोट पहुंची है। स्टालिन के खिलाफ देश भर के कई शहरों में लगातार एक के बाद एक एफआईआर दर्ज होते जा रही हैं। 


देश के कई शहरों में एफआईआर दर्ज होने के बाद अब हल्द्वानी में भी उदयनिधि स्टालिन और डी राजा के खिलाफ (Case Against Udhayanidhi Stalin in Haldwani Police Station) मुकदमा दर्ज हो गया है, सितारगंज विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक रहे नारायण पाल (Narayan Pal Ex. MLA Sitarganj) ने गुरुवार को हल्द्वानी कोतवाली पहुंचकर मुकदमा दर्ज करवाया है। पूर्व विधायक नारायण पाल ने बताया की मैं जन्म से सनातनी हिन्दू हूँ, उन्होंने कहा करोड़ों हिन्दुओं की इस धर्म में आस्था है और इस महान धर्म की डेंगू, मलेरिया और कोरोना से तुलना करना एक षडयंत्र है. पूर्व विधायक ने कहा मेरी तरह करोड़ों हिन्दुओं की भावना आहत हुई है इसलिए उन्होंने आज हल्द्वानी कोतवाली पहुंचकर एसपी सिटी हरवंश सिंह और सीओ भूपेंद्र धौनी को FIR सौंपी है। पूर्व विधायक पाल ने कहा आगामी दो अक्टूबर को वह तिरुपति बालाजी आंध्र प्रदेश में धर्माचार्यों से भी मिलेंगे। इस दौरान पूर्व विधायक के साथ कई अन्य लोग भी मौजूद रहे। 


क्या था उदयनिधि का विवादित बयान - 
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के बेटे उदयनिधि स्टालिन ने सनातन धर्म को टारगेट बनाते हुए अभद्र और अपमानजनक टिप्पणी की थी। उदयनिधि स्टालिन ने सनातन को अपमानित करते हुए कहा था कि कुछ चीजें विरोध करने के लिए नहीं, बल्कि उनको खत्म करने की जरूरत है। उदाहरण के लिए जैसे मच्छर, डेंगू, मलेरिया और कोरोना का विरोध नहीं कर सकते हैं, हमें इन्हे खत्म ही करना होगा, सनातन धर्म भी ऐसा ही है, इसे खत्म करने की जरूरत है।