Uttarakhand News -  यहाँ सरकारी स्कूल में ठेके पर चल रही थी पढ़ाई, सीईओ के निरीक्षण पर हुआ खुलासा प्रधानाध्यापिका सस्पेंड 
 

 | 

Uttarakhand News - एक ओर जहाँ सरकार शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने का दावा करती है. दूसरी ओर सरकारी मशीनरी का उदासीन रवैया समय - समय पर सामने आता रहता है.अब एक ताजा मामला उत्तराखंड के पौड़ी जिले के राजकीय प्राथमिक विद्यालय बगवाड़ी से आया है जहाँ प्रभारी प्रधानाध्यापिका द्वारा नए विद्यालय में बच्चों को पढ़ाने के लिए 2500 रुपये महीना ठेके पर अध्यापिका रखी थी और वह खुद स्कूल से नदारद रहती है दरअसल मामला मंगलवार को सीईओ ने जब स्कूलों का निरीक्षण किया तो इसका खुलासा हुआ जिसके पश्चात सीईओ द्वारा प्रधानाध्यापिका का वेतन रोक लगाते हुए स्पष्टीकरण तलब किया है ठेके में अध्यापिका रखने वाली प्रभारी प्रधानाचार्य को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए कार्यालय उप शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक शिक्षा विकास खंड थलीसैंण में संबद्ध किया गया है। इसके आदेश मोहम्मद सावेद आलम प्रारंभिक जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक शिक्षा पौड़ी गढ़वाल ने जारी कर दिए हैं।

chaitanya


दरअसल मंगलवार को मुख्य शिक्षा अधिकारी डॉ आनंद भारद्वाज थलीसैंण में आयोजित तहसील दिवस में शामिल होने जा रहे थे, इस बीच उन्होंने स्कूलों का निरीक्षण किया जिसके पश्चात उन्होंने बताया कि राजकीय प्राथमिक विद्यालय बगवाड़ी में निरीक्षण के दौरान पाया गया कि स्कूल की प्रभारी प्रधानाध्यापिका शीतल रावत व सहायक अध्यापिका माधुरी सेवारत हैं और विद्यालय में 50 छात्र छात्राएं हैं निरीक्षण में यह पाया गया कि विद्यालय में प्रभारी प्रधानाध्यापिका शीतल रावत नदारद हैं और उन्होंने अपने स्थान पर एक अध्यापिका को गांव की एक लड़की को रखा है जो बच्चों को पढ़ा रही है. और प्रधानाध्यापिका उस लड़की को ढाई हजार रुपे मासिक धनराशि देती है जिस पर मुख्य शिक्षा अधिकारी ने इसे सरकारी कर्मचारी के दायित्वों का उल्लंघन पाया है साथ ही नदारद प्रभारी प्रधानाध्यापिका से स्पष्टीकरण तलब कर अग्रिम आदेश तक उनके वेतन पर रोक लगा दी है।