देहरादून - यूजेवीएन लिमिटेड ने बनाया रिकॉर्ड, जानिए कितने मिलियन यूनिट विद्युत का हुआ एक दिन में उत्पादन 
 

 | 

देहरादून - यूजेवीएन लिमिटेड द्वारा अपनी उत्कृष्ट कार्य संस्कृति और कुशल नेतृत्व का परिचय देते हुए एक बार फिर से रिकार्ड विद्युत उत्पादन करने में सफलता प्राप्त की है। इस संबंध में जानकारी देते हुए यूजेवीएन लिमिटेड (UJVN Limited Dehradun) के प्रबंध निदेशक संदीप सिंघल ने बताया कि यूजेवीएन लिमिटेड की जल विद्युत परियोजनाओं द्वारा 19 सितम्बर को 25.434 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन किया गया जो कि निगम की स्थापना के बाद से अब तक का किसी भी एक दिन का सर्वाधिक विद्युत उत्पादन है। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व निगम की परियोजनाओं द्वारा किसी भी एक दिन का सर्वाधिक विद्युत उत्पादन 25.152 मिलियन यूनिट था जो कि दिनांक 31 अगस्त को किया गया था। हालांकि 28 अगस्त 2022 को भी निगम परियोजनाओं द्वारा 25 मिलियन यूनिट से अधिक विद्युत उत्पादन किया गया था। 

chaitanya

 

प्रबंध निदेशक संदीप सिंघल ने कहा कि विद्युत उत्पादन की दृष्टि से माह सितंबर 2022 निगम के लिए लाभकारी सिद्ध हो रहा है। उन्होंने बताया कि 19 सितंबर, 2022 तक के लक्ष्यों के सापेक्ष उत्पादन की बात करें तो निगम की जनपद देहरादून में टौंस नदी पर स्थित 240 मेगावाट की छिबरो परियोजना द्वारा 79.167 मिलियन यूनिट लक्ष्य के सापेक्ष 80.552 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन किया गया। इसी क्रम में 33.75 मेगावाट की ढकरानी परियोजना द्वारा 12.033 मिलियन यूनिट के अपने लक्ष्य के सापेक्ष 13.258 मिलियन यूनिट, 30 मेगावाट की कुल्हाल परियोजना द्वारा 10.767 मिलियन यूनिट के लक्ष्य के सापेक्ष 12.407 मिलियन यूनिट, 304 मेगावाट की मनेरी भाली द्वितीय परियोजना द्वारा 117.167 मिलियन यूनिट लक्ष्य के सापेक्ष 122.768 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन किया गया। अभी कुछ माह पूर्व ऊर्जीकृत हुई 120 मेगावाट की व्यासी परियोजना द्वारा भी दिनांक 19 सितंबर 2022 तक के अपने 22.167 मिलियन यूनिट के लक्ष्य के सापेक्ष 43.016 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन कर लिया गया है।


  
प्रबंध निदेशक ने छोटी परियोजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि जनपद हरिद्वार में अपर गंगा कैनाल पर स्थित 9.3 मेगावाट की मोहम्मदपुर परियोजना द्वारा 3.167 मिलियन यूनिट के लक्ष्य के सापेक्ष 3.289 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन किया गया। सुदूरवर्ती जनपद चमोली में स्थित 3.0 मेगावाट की उरगम परियोजना द्वारा अपने शून्य मिलियन यूनिट के लक्ष्य के सापेक्ष 0.652 मिलियन यूनिट, सीमांत जनपद उत्तरकाशी में स्थित 2.25 मेगावाट की पिलनगाड परियोजना द्वारा 0.317 मिलियन यूनिट के लक्ष्य के सापेक्ष 0.407 मिलियन यूनिट, जनपद रूद्रप्रयाग में स्थित 4.0 मेगावाट की काली गंगा प्रथम परियोजना द्वारा 1.267 मिलियन यूनिट लक्ष्य के सापेक्ष 1.388 मिलियन यूनिट तथा 4.5 मेगावाट की काली गंगा द्वितीय परियोजना द्वारा 1.362 मिलियन यूनिट के लक्ष्य के सापेक्ष 1.415 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन किया गया। 

 

प्रबंध निदेशक सिंघल ने बताया कि दिनांक 19 सितंबर 2022 तक के निगम के कुल विद्युत उत्पादन को देखें तो निगम की परियोजनाओं द्वारा 425.125 मिलियन यूनिट के लक्ष्य के सापेक्ष 448.528 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन कर लिया गया है जो कि इस माह के अभी तक के लक्ष्य से 23.40 मिलियन यूनिट अधिक है। प्रबंध निदेशक संदीप सिंघल ने निगम के विद्युत गृहों की उपलब्धि पर हर्ष प्रकट करते हुए कहा कि विद्युत गृहों की मशीनों के बेहतर संचालन, रखरखाव एवं कार्मिकों के उत्कृष्ट कार्य से ही यह रिकार्ड उत्पादन संभव हुआ है।