drishti haldwani

उत्तराखंड सरकार पहाड़ मेें यहां बनाएगी पहला नगर निगम, 4 जून को कैबिनेट में लगेगी मुहर !

186

श्रीनगर : अभी तक आपने मैदानी क्षेत्रों में नगर निगम बनते देखे होंगे, लेकिन इस बार उत्तराखंड सरकार पहाड़ में भी नगर बनाने की तैयारी में जुटी हुई है। जो पहाड़ का पहला नगर निगम साबित होगा। श्रीनगर गढ़वाल को शिक्षा के हब के रूप में जाना पहचाना जाता है। उत्तराखंड के श्रीनगर गढ़वाल का नाम आते ही शिक्षा के हब के रूप में इस पहाड़ी नगरी का नाम जुबां पर आ जाता है। ऐसे में श्रीनगर का नाम इतिहास के पन्नों पर अंकित हो जाएगा। सूत्रों की मानें तो सरकार इस तैयारी में जोरशोर से जुटी हुई है। श्रीनगर नगर निगम के अस्तित्व में आने पर यह पर्वतीय क्षेत्र का पहला और राज्य का नौवां नगर निगम बन जाएगा। जिस तरह से श्रीनगर को लेकर उच्च स्तर पर कसरत चल रही है, उससे माना जा रहा है कि पंचायत चुनाव से पहले यह निगम अस्तित्व में आ जाएगा।

iimt haldwani

धनसिंह रावत ने दिया प्रस्ताव

उत्तराखंड सरकार ने श्रीनगर गढ़वाल को नगर पालिका से नगर निगम बनाए जाने के लिए तैयारियां शुरू कर दी है। शहरी विकास विभाग ने भी तैयारियां तेज कर दी हैं। जल्द ही त्रिवेंद्र कैबिनेट श्रीनगर गढ़वाल को नगर निगम बनाए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान करने जा रही है। श्रीनगर के विधायक और त्रिवेंद्र सरकार में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री धन सिंह रावत का कहना है कि पहाड़ का सबसे बड़ा केंद्र श्रीनगर गढ़वाल है। उनका कहना है कि श्रनगर को नगर निगम बनाने के लिए उन्होंने प्रस्ताव शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को भेजा है।

Srinagar_from_southern_hill

जल्द हो सकती है घोषणा

त्रिवेंद्र सरकार में धन सिंह रावत को सरकार में ताकतवर मंत्री माना जाता है। इसी का नजीता है कि जो प्रस्ताव उन्होंने शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को सौंपा, उस पर मुहर लग चुकी है। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का भी कहना है कि जल्दी ही कैबिनेट श्रीनगर को नगर निगम को दर्जा देने की घोषणा कर देगी। सूत्रों की मानें तो पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी भी नगर निगम की दौड़ में थे, मगर वहां जनता का रिस्पांस न मिलने के कारण इसे भविष्य के लिए छोड़ दिया गया। प्रदेश में वर्तमान में आठ नगर निगम हैं और ये सभी मैदानी क्षेत्रों में है।

Srinagar

विकास को मिलेगी गति

उच्च शिक्षा राज्यमंत्री धन सिंह रावत का कहना है कि श्रीनगर के विकास को देखते हुए उन्होंने ये प्रस्ताव शहरी विकास मंत्री को दिया और खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी चाहते हैं कि श्रीनगर नगर निगम बने। श्रीनगर के नगर निगम बनने से श्रीनगर के विकास के लिए बजट 100 करोड़ रुपए तक पहुंच सकता है। नगर निगम बनने से विकास कार्यों के लिए करीब 100 करोड़ तक का बजट मिल सकता है। जिससे विकास कार्य तेजी से होंगे

4 जून को होने वाल कैबिनेट में लग सकती है मुहर

श्रीनगर पालिका विस्तार त्रिवेंद्र सरकार आने के बाद एक बार हो चुका है और अगर श्रीनगर नगर निगम बनता है तो श्रीनगर नगर निगम का विस्तार बड़े स्तर पर होगा। सूत्रों की मानें तो धारी देवी से लेकर कीर्तिनगर तक के क्षेत्र को श्रीनगर नगर निगम में शामिल किया जाएगा। जनसंख्या की बात करें तो प्रस्तावित क्षेत्र की जनसंख्या करीब 75 हजार के आस-पास होगी। अटकलें लगाई जा रही हैं कि आचार संहिता समाप्त होने क बाद पहली बार 4 जून को होने जा रही त्रिवेंद्र कैबिनेट में इस पर मुहर लग सकती है।