drishti haldwani

हल्द्वानी-अनोखी पहल से प्रदेश भर में छायी हल्द्वानी के इन व्यापारियों की जोड़ी, इनकी गाथा सुन आप भी कहेंगे वाह

176

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क- कहते है कि व्यापारी सिर्फ पैसे कमाने के लिए व्यापार करता है। उसे पैसे के अलावा कुछ और नहीं दिखता, लेकिन हल्द्वानी शहर के इन दो व्यापारियों ने इसके उलट कर दिखाया। इनका उद्देश्य सिर्फ व्यापार कर पैसा कमाना नहीं बल्कि हिमालय को बचाकर दुनियां को आने वाले संकट से बचाना है। अपने अभियान से यह लोगों को विनाश से जगाने में जुटे हैं। हल्द्वानी के व्यापारी अनिल गोयल और नवीन चन्द्र वर्मा की जोड़ी इन दिनों प्रदेशभर में चर्चा में है। इन दोनों की जोड़ी के जोश को देख प्रान्तीय उद्योग प्रतिनिधि मंडल समिति भी हिमालयी संरक्षण अभियान से जुड़ गई। जिसके बाद हिमालय बचाने की मुहिम को लेकर इस समिति में एक नया जोश, जनून और जज्बा देखने को मिला। हाल ही में प्रान्तीय उद्योग प्रतिनिधि मंडल समिति के सहयोग ने उन्होंने पूरे प्रदेश में हिमालय को बचाने के लिए रैली निकाली। उनके साथ इस अभियान में सरंक्षक बाबू लाल गुप्ता, प्रदेश कोषाध्यक्ष एनसी तिवारी और चेयरमैन यशपाल अग्रवाल, जिला महामंत्री नैनीताल हर्षवद्र्धन पाण्डे, जिला अध्यक्ष चमोली प्रकाश मिश्रा भी कदम पर कदम मिलाकर चल रहे हैं।

iimt haldwani

हिमालय बचेगा तो बचेगी दुनियां -गोयल

हिमालयी संरक्षण अभियान से जुड़े प्रदेश अध्यक्ष अनिल गोयल का कहना है कि व्यापार तो जीवन व्यापन करने का एक जरिया है। लोग जीवन व्यापार के लिए कुछ न कुछ धंधे करते है। लेकिन कर इस दुनियां में लोग ही नहीं रहेंगे तो व्यापार कैसे होगा और कैसे लोग जीवन व्यापन कर सकेंगे। हिमालय के बिना कुछ भी नहीं है। उन्होंने बताया कि आज हिमालय को बचाना हमारे लिए एक बड़ी चुनौती है। अगर हिमालय ही नहीं होगा तो पेड़-पौधों, हवा, जल के बगैर ये धरती अधूरी रह जायेगी। इन सब के बगैर मानव जीवन संभव नहीं है। उन्होंने लोगों से कहा कि इस मुहिम में जुडक़र लोग हिमालय बचाने को आगे आये। गोयल ने बताया कि इस समिति का मुख्य उद्देश्य हिमालय को बचाना है। जिसके लिए देश भर में हिमालय पर मंथन की आवश्यकता है। उन्होंने एक मुहिम छेड़ दी है। जिसे मुकाम पर पहुंचा कर ही दम देंगे।

मजबूत संगठन से कुछ भी असंभव नहीं- वर्मा

इस समिति से जुड़े प्रदेश महामंत्री नवीन चन्द्र वर्मा ने बताया कि जिसे तरह हमने यह अभियान की शुरूवात की थी। इसे देखते हुए कई लोग आज हमारे साथ कदम पर कदम मिलाकर चल रहे हैं। हिमालय को बचाने की अनुभूमि मेरे अंदर एक अलग ही खुशी देती है। उन्होंने बताया कि जीवन को सुरक्षित रखने के लिए हमें हिमालय बचाने की जरूरत है। अगर आज हम नहीं जागे तो भविष्य में एक बड़ा संकट हमारे लिए खतरे का संकेत दे रहा है। हमें मिलजुल कर इस जिम्मेदारी को निभाना होगा। उन्होंने बताया कि जिस तरह से लोग हिमालय बचाने को धीरे-धीरे आगे आ रहे हैं। उससे उनकी ताकल में और इजाफा हुआ है। उन्होंने बताया कि दुनियां में कोई काम असंभव नहीं है बस उसे करने की हमारे अंदर लगन होनी चाहिए। हमने तो बस शुरूवात की है। इसे मुकाम पर ले जाना सबकी जिम्मेदारी है।