Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश उत्तर प्रदेश : तो क्या अखिलेश व शिवपाल को साथ लाने का...

उत्तर प्रदेश : तो क्या अखिलेश व शिवपाल को साथ लाने का मिल गया मुलायम सिंह यादव को फार्मूला ?

Bareilly: रुचि कपूर के कार्यों को देख महिला मोर्चा ने सौंपी बड़ी जिम्मेदारी

योगी सरकार (Yogi government) हमेशा जनकल्याणकारी योजनाओं को बढ़ावा देती रही है। इसी बीच समाजसेवी रुचि कपूर सरकार की इन योजनाओं को घर घर...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने फिल्म सिटी को लेकर बॉलीवुड हस्तियों के साथ की बैठक, मुंबई फिल्म इंडस्ट्री के कलाकारों ने इस फैसले का किया...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश में बनने वाली फिल्म सिटी (Film City) को लेकर आज लखनऊ स्थित अपने आवास पर फिल्म...

PM मोदी कल यूपी, दिल्ली, महाराष्ट्र समेत 7 राज्यों से करेंगे चर्चा, इसकी होगी समीक्षा

केंद्र सरकार व राज्य सरकारें कोरोना वायरस (Corona virus) की रोकथाम के लिए हर संभव कदम उठा रहे हैं। इसी दौरान अब पीएम नरेंद्र...

SSR Case: अब इतने दिन और जेल में रहेंगी रिया चक्रवर्ती, कोर्ट ने बढ़ाई हिरासत

सुपरस्टार सुशांत सिंह राजपूत (Superstar Sushant Singh Rajput) की मौत का राज अभी तक खुलकर सामने नहीं आया है। सुशांत की मौत अभी भी...

यूजीसी ने 1 नवंबर से फर्स्ट ईयर की कक्षाएं शुरू करने के दिए निर्देश, दाखिला रद्द करने पर मिलेगी पूरी फीस

कोरोना महामारी (Corona virus) के बीच यूजीसी (UGC) की गाइडलाइन (guidelines) के अनुसार अंतिम वर्ष की परीक्षाएं हो रही हैं। इसी बीच केंद्रीय शिक्षा...

लखनऊ : हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की प्रचंड लहर में सपा-बसपा गठबंधन को मिली करारी हार के बाद से ही मुलायम सिंह यादव समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और पार्टी से अलग हो चुके शिवपाल सिंह यादव को फिर से एक साथ लाने की कवायद में जुटे हैं। लोकसभा चुनाव में बसपा के साथ गठबंधन का प्रयोग असफल होने से मिली करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव का सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और सपा छोडक़र अपनी अलग पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का गठन कर चुके शिवपाल सिंह यादव को करीब लाने का पहला प्रयास विफल हो चुका है। अब मुलायम ने आगामी विधानसभा उपचुनाव में शिवपाल और अखिलेश को गठबंधन कर लडऩे का विकल्प सुझाया है।

akhilesh4

अखिलेश व शिवपाल क्या फिर साथ आएंगे ?

उत्तर प्रदेश में एक के बाद एक लगातार तीसरे चुनाव में समाजवादी पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है। नरेंद्र मोदी की लहर में सपा का सियासी किला पूरी तरह से ध्वस्त हो गया है। जबकि इस बार के लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव मायावती के साथ मिलकर चुनावी मैदान में उतरे थे फिर भी पार्टी को जीत नहीं दिला सके। वहीं, अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव सपा से बगावत कर अलग पार्टी बनाकर चुनावी मैदान में उतरे, लेकिन वो अपनी जमानत भी नहीं बचा सके। सपा की करारी हार पर पिछले तीन दिनों से लगातार मंथन हो रहा है। ऐसे में सवाल है कि अखिलेश और शिवपाल सब कुछ लुटाकर क्या फिर साथ आएंगे?

Uttarakhand Government

कुछ इस तरह चल रहा मंथन

सपा सूत्रों के मुताबिक सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अपने पैतृक गांव सैफई में अखिलेश यादव और शिवपाल की मुलाकात कराई थी। मुलाकात के दौरान मुलायम ने शिवपाल के सामने प्रस्ताव रखा था कि वह अपनी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का समाजवादी पार्टी में विलय कर दे लेकिन शिवपाल ने इससे साफ इनकार कर दिया। शिवपाल का कहना था कि वह इस संबंध में अकेले फैसला नहीं कर सकते। उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बड़ी मेहनत कर के पार्टी को खड़ा किया है।

akhilesh1

सपा-प्रसपा 6-6 सीटों पर लड़ेंगे उपचुनाव !

इसके बाद मुलायम परिवार ने एक और फार्मूला निकाला है। इस फार्मूले के मुताबिक प्रदेश में होने वाले 12 विधानसभा सीटों के उपचुनाव में सपा और प्रसपा गठबंधन कर चुनाव लड़े। बताया जा रहा है कि इस फार्मूले के तहत दोनों ही पार्टिया छह-छह सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। हालांकि शिवपाल और अखिलेश दोनों ने ही अभी इस फार्मूले पर सहमति नहीं दी है। सूत्रों ने बताया कि लेकिन शिवपाल को उत्तर प्रदेश में होने वाले 12 उपचुनावों में सपा के साथ मिल कर चुनाव लड़ने से गुरेज नहीं हैं।

am

शिवपाल-अखिलेश को साथ लाना चाह रहे मुलायम

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में बसपा से गठबंधन करके लड़ी सपा को जहां सीटों के लिहाज से कोई लाभ नहीं हुआ तो वही उसका वोट प्रतिशत भी कम हो गया। मुलायम सिंह यादव का मानना है कि शिवपाल के अलग होने से यादव वोटों में बिखराव के कारण ऐसा हुआ है। लिहाजा वह फिर से अखिलेश और शिवपाल को एक साथ लाने का प्रयास कर रहे है। जिससे कि यादव वोटों के बिखराव को रोका जा सकें। बताया जा रहा है कि मुलायम ने अखिलेश और शिवपाल दोनों को समझाया है कि अगर परिवार में एका नहीं हुआ तो इसके राजनीतिक परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

Related News

Bareilly: रुचि कपूर के कार्यों को देख महिला मोर्चा ने सौंपी बड़ी जिम्मेदारी

योगी सरकार (Yogi government) हमेशा जनकल्याणकारी योजनाओं को बढ़ावा देती रही है। इसी बीच समाजसेवी रुचि कपूर सरकार की इन योजनाओं को घर घर...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने फिल्म सिटी को लेकर बॉलीवुड हस्तियों के साथ की बैठक, मुंबई फिल्म इंडस्ट्री के कलाकारों ने इस फैसले का किया...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश में बनने वाली फिल्म सिटी (Film City) को लेकर आज लखनऊ स्थित अपने आवास पर फिल्म...

PM मोदी कल यूपी, दिल्ली, महाराष्ट्र समेत 7 राज्यों से करेंगे चर्चा, इसकी होगी समीक्षा

केंद्र सरकार व राज्य सरकारें कोरोना वायरस (Corona virus) की रोकथाम के लिए हर संभव कदम उठा रहे हैं। इसी दौरान अब पीएम नरेंद्र...

SSR Case: अब इतने दिन और जेल में रहेंगी रिया चक्रवर्ती, कोर्ट ने बढ़ाई हिरासत

सुपरस्टार सुशांत सिंह राजपूत (Superstar Sushant Singh Rajput) की मौत का राज अभी तक खुलकर सामने नहीं आया है। सुशांत की मौत अभी भी...

यूजीसी ने 1 नवंबर से फर्स्ट ईयर की कक्षाएं शुरू करने के दिए निर्देश, दाखिला रद्द करने पर मिलेगी पूरी फीस

कोरोना महामारी (Corona virus) के बीच यूजीसी (UGC) की गाइडलाइन (guidelines) के अनुसार अंतिम वर्ष की परीक्षाएं हो रही हैं। इसी बीच केंद्रीय शिक्षा...

सुशांत सिंह राजपूत ड्रग्स केस में एनसीबी सारा अली खान और श्रद्धा कपूर को इस हफ्ते भेज सकती है समन

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) जुड़े ड्रग्स मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की पूछताछ में कई बॉलीवुड सिलेब्रिटीज के नाम...