उत्तर प्रदेश : जानिए, आजम खान के बयान को लेकर किसने कहा, रामपुर में होगा महिषासुर का वध

7

रामपुर-न्यूज टुडे नेटवर्क : उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट पर इस बार बेहद दिलचस्प मुकाबला है। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय महासचिव आजम खान और भाजपा उम्मीदवार जयाप्रदा आमने-सामने हैं। सपा से दो बार सांसद रह चुकीं इस बार जयाप्रदा भाजपा की प्रत्याशी हैं। आजम से उनके सम्बन्ध बेहद तल्ख हैं। वहीं राज्यसभा सदस्य अमर सिंह भी जयाप्रदा के समर्थन में रामपुर में डेरा डाले हैं। उनके आने से रामपुर की राजनीति गरमा गई है। आजम-अमर के बैर जगजाहिर है। अमर सिंह जगह-जगह जनसभाएं कर आजम खान पर हमला बोल रहे हैं।

jaya-prada

आजम के बयान की आलोचना

इस चुनावी युद्ध का विजेता कौन होगा, यह अनुमान लगाना सरल नहीं है किन्तु, जयाप्रदा की घेराबंदी ने आजम खान की बेचैनी बढ़ा दी है। अपने विवादित बयानों की वजह आजम ही यहां सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा हैं। विरोधी उन्हें प्रत्येक मंच पर घेरते रहे हैं। चार दिन पहले आजम ने जयाप्रदा पर अपमानजनक बयान दिया था, जिस पर देशभर में उनकी आलोचना हुई। इसकी शिकायत निर्वाचन आयोग तक पहुंची। उनकी टिप्पणी को महिला सम्मान के खिलाफ करार देते हुए भाजपा ने इसे बड़ा चुनावी मुद्दा बना दिया है। वहीं दूसरी ओर राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने रामपुर से महागठबंधन उम्मीदवार आजम खान पर जया प्रदा का समर्थन करते हुए कहा कि बीजेपी प्रत्याशी ‘जया प्रदा के रूप में ये नारी शक्ति है, रामपुर के महिषासुर का वध करेगी।’

jayaprada

अमर सिंह और जयाप्रदा हर जनसभा में आजम पर बेहद तल्ख हमले बोल रहे हैं। खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने मुरादाबाद की जनसभा में नाम लिए बगैर आजम को दलित विरोधी बताया था। उन्होंने कहा था कि बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर को भूमाफिया करार देने वाले नेता का प्रचार मायावती किस तरह करेंगी।

पिछले दिनों आजम ने जया को लेकर की थी विवादित टिप्‍पणी 

बता दें कि पिछले दिनों आजम खान ने जया प्रदा को लेकर विवादित टिप्‍पणी की थी. इसके बाद महिला आयोग ने इस मामले का संज्ञान लेकर चुनाव आयोग से उनपर कार्रवाई की मांग की थी। चुनाव आयोग ने आजम खान पर 72 घंटे का चुनाव प्रचार बैन लगाया था. 72 घंटे का प्रतिबंध समाप्त होने के बाद शुक्रवार को आजम ने कहा था कि उनके साथ एक आतंकवादी और एक अपराधी की तरह व्यवहार किया जा रहा है।