पिथौरागढ़- ये महिलायें अपने शरीर में छिपाकर ऐसे कर रही थी चरस की तस्करी, एसएसबी के जवानों ने यहां किया भंडाफोड़

21

पिथौरागढ़- न्यूज टुडे नेटवर्क: नशे के अवैध कारोबार में पुरुषों के साथ-साथ अब महिलायें भी बड़ चड़ कर हिस्सा लेने लगी है। जिसका मुख्य कारण यह है कि महिलाओं के उपर किसी को आसानी ने शक नहीं होता, जिसका फायदा उठाकर ये आसानी से नशे की सामग्री की तस्करी करने में सफल हो जाती है। भारत नेपाल सीमा पर सशस्त्र सीमा बल के जवानों को एक ऐसे ही मामले में बड़ी सफलता हाथ लगी है। बार्डर पर चैकिंग के दौरान जवानों ने दो महिलाओं को पकड़ा है। जिनके पास से 93.10 लाख रुपये की चरस बरामद की है। जानकारी मुताबिक महिलाएं चरस के पैकेट बनाकर कमर में बेल्ट की तरह बांध कर तस्करी कर भारत ला रही थी।

नेपाल की रहने वाली है महिलायें

प्राप्त जानकारी अनुसार गुरुवार को 11 वीं वाहिनी एसएसबी के जवान भारत नेपाल की सीमा पर स्थित अंतरराष्ट्रीय झूला पुल पर आने जाने वाले लोगों पर नजर रख रहे थे। इसी दौरान नेपाल की तरफ से दो महिलाएं आई। पुल पर तैनात एसएसबी जवानों महिलाओं पर संदेह हुआ तो महिला जवानों द्वारा उन्हें रोका गया और पूछताछ की गई। उनके सामान की तलाशी ली गई तो उनके पास से नौ किलो तीन सौ दस ग्राम चरस बरामद हुआ। महिलाओं द्वारा चरस के कुछ पैकेट बना कर कमर में बेल्ट की तरह बांधे गए थे और कुछ पैकेट बैगों में थे।

इतनी अधिक मात्रा में चरस पकड़े जाने पर जवानों ने सूचना उच्चाधिकारियों को दी। एसएसबी के एसआइ उच्छाप सिंह द्वारा महिलाओं से पूछताछ की गई। सूचना पर उप सेनानी अशोक कुमार मौके पर पहुंचे। चरस नेपाल से भारत में तस्करी के लिए लाई जा रही थी। दोनों महिलाएं नेपाल के डांग जिले की है। पकड़ी गई महिलाएं इच्छा पत्नी जीत राम तथा अवशी पत्नी राजकुमार निवासी लोमनी, जिला डांग नेपाल हैं।