iimt haldwani

किच्छा-विदेश भागने वाले थे इस बड़े हत्याकांड के आरोपी, ऐसे फंसे पुलिस की जाल में

344

किच्छा-न्यूज टुडे नेटवर्क– आज एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा फईम हत्याकांड का खुलासा करते हुए कहा कि विगत 2 नवंबर को इलाहाबाद जाने के लिए सिंह टूर एंड ट्रैवल्स एजेंसी से इनोवा कार संख्या डीएल 12टीसी 0015 बुक कराई गई थी। कार में पुरानी गल्लामंडी किच्छा निवासी फईम पुत्र अहसान चालक सवार था। जिसके बाद फईम की लाश उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक खेत में मिली। पेचकस से गोद कर चालक को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। बताया जा रहा है कि आरोपी विदेश भागने की फिराक में थे लेकिन पुलिस उनके अरमानों पर पानी फेर दिया और योजना से ठीक पहले उन्हें धर दबोचा। अपराधियों से लूटी गई इनोवा कार और असलहों बरामद किये। पुलिस के सामने अपना गुनाह कबूल कर लिया है।

amarpali haldwani

नेपाली पासपोर्ट व विदेशी मुद्रा बरामद

इसस पहले पुलिस ने अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए टीमों को पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ रवाना कर दिया गया। अपराधियों को इस बात की भनक लग चुकी थी।अपराधियों ने देश छोडऩे का फैसला कर लिया। दोनों नेपाल भागने की योजना बनाई, लेकिन इसकी भी भनक पुलिस को लग गई। रुद्रपुर पुलिस की एक टीम को नेपाल बार्डर की ओर रवाना कर दिया गया। 28 नवंबर को मुखबिर से खबर मिली कि बदमाश पंजाब से वापस बरेली, पीलीभीत, पूरनपुर, खटीमा होते हुए नेपाल भागने वाले हैं। गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने पीलीभीत के झनकईया पूरनपुर रोड पर चेकिंग शुरू कर दी और दोनों बदमाश लूटी गई कार के साथ धर लिए गए। पुलिस को उनके पास नेपाली पासपोर्ट, विदेशी मुद्रा भी मिली है।

फोन बंद कर दिया घटना को अंजाम

इस हत्याकांड में दोनों आरोपियों की उम्र काफी कम है। इनमे से हैप्पी 26 और जग्गा की उम्र महज 25 साल की है। घटना के दिन सुबह करीब साढ़े 11 बजे फईम की फिर से अपने मालिक से बात हुई। इसके बाद फईम ने अपने कई रिश्तेदारों से भी बात हुई। शाम करीब साढ़े तीन से चार बजे के बीच उसका फोन बंद हो गया फोन बंद से पहले इनोवा में लगे जीपीएस ने भी काम करना बंद कर दिया। सबसे पहले उस व्यक्ति को ट्रेस किया गया जो कार बुक कराने के लिए पहुंचा था। इस व्यक्ति से पुलिस को कई अहम सुराग हाथ लगे। जिसके बाद पुलिस ने आगे की कार्रवाई की।