drishti haldwani

इस युवक ने पुलिस को ही दे डाली इतनी बड़ी चुनौती, बेस अस्पताल पहुंच कर दिया ये काम

147
हल्द्वानी का एकमात्र सरकारी अस्पताल सोवन सिंह जीना बेस अस्पताल इन दिनों अराजकता का केंद्र बना हुआ है। अस्पताल में सुरक्षा न होने की वजह से आए दिन मारपीट और झगड़े होते रहते हैं। ताजा मामला एक बार फिर से देखने को मिला जब हल्द्वानी के ही दो पक्षों में झड़प हुई जिसके बाद दोनों पक्ष रिपोर्ट लिखाने से पहले अपना अपना मेडिकल करवाने बेस अस्पताल पहुंचे। वहां फिर से दोनों पक्षों का आमना-सामना हुआ तो, न सिर्फ दो युवक एक दूसरे को भद्दी भद्दी गाली गलौज करते हुए दिखाई दिए। बल्कि इमरजेंसी के बाहर  लात घूंसे भी जमकर चले। इससे पहले भी कई बार इस तरह के फसाद अस्पताल में हो चुके हैं लेकिन पुलिस केवल एक पीआरडी जवान के भरोसे पूरे अस्पताल की सुरक्षा छोड़ती है।
बेस अस्पताल में हुई मारपीट

 

iimt haldwani

जानकारी मुताबिक इंद्रनगर बड़ी मस्जिद के पीछे रहमत अली पुत्र अहमद हुसैन अपने परिवार के साथ रहता हैं। उनके पड़ोस में रहने वाली गुडिय़ा नाम की महिला उनके घर के आगे कई दिनों से कूड़ा फेंक जाती है जिसका वह कई बार विरोध भी कर चुके हैं। दोनों परिवारों में इसी को लेकर मारपीट तक हो चुकी है। मोहल्ले के संभ्रान्त लोगों की मदद से दोनों पक्षों के बीच समझौता भी कराया गया। इधर सोमवार की सुबह गुडिय़ा ने रहमत के घर के बाहर फिर कूड़ा बिखेर दिया जिसका रहमत ने विरोध किया तो उन पर आसमान टूट पड़ा। गुडिय़ा, उसकी पुत्रियां और रिजवान नाम के दबंग आदमी ने रहमत की बुरी तरह से पिटाई कर डाली। मारपीट में रहमत के चार दांत टूट गए।

base hospital

आसपास के लोगों ने बीच बचाव का भी प्रयास किया लेकिन उनकी एक नहीं चली। इसी बीच रहमत के सिर पर पेप्सी की बोतल मारकर उसका सिर फोड़ दिया गया। रहमत किसी तरह से इन लोगों के चंगुल से छूटकर अस्पताल पहुंचा और अपना उपचार कराया। इसी दौरान रिजवान नाम का एक व्यक्ति रहमत को ढूंढता हुआ अस्पताल जा पहुंचा और उसने अस्पताल में ही रहमत की बुरी तरह से धुनाई लगा डाली। उसकी लात घूंसों से जमकर पिटाई की जिससे अस्पताल में अफरा तफरी मच गई। रिजवान ने रहमत का मेडिकल भी फाड़ डाला। इसी बीच गुडिय़ा नामक महिला भी अस्पताल पहुंच गई और अपना मेडिकल परीक्षण कराकर रहमत पर मारपीट का आरोप लगाया।

पुलिस का नहीं कोई खौफ

जिस तरह से रिजवान ने अस्पताल पहुंचकर रहमत की धुनाई की उससे साफ जाहिर है कि रिजवान नामक व्यक्ति को कानून की कोई परवाह नहीं है। उसका यह कहना कि पुलिस उसका बाल भी बांका नहीं कर सकती है उसकी दबंगई का यह सुबूत देने के लिए पर्याप्त है। वहीं सरेआम हुई मारपीट की इस वारदात से साफ हो गया है कि दूसरे पक्ष के लोगों ने ही रहमत के साथ मारपीट की है। बता दें कि बेस अस्पताल में हल्द्वानी कोतवाली कुछ ही दूरी पर है। इधर मारपीट प्रकरण में दोनों पक्षों की ओर से बनभूलपुरा थाने में तहरीर सौंप कर कार्रवाई की मांग की गई है। मामले में पुलिस कार्यवाई कर रही है।