inspace haldwani
Home लाइफस्टाइल इस वजह से नहीं होती गंगाजल से कोई महामारी , तभी माना...

इस वजह से नहीं होती गंगाजल से कोई महामारी , तभी माना जाता है अमृत समान

भारत में सदियों से लोगों के मन में गंगाजल के प्रति आस्था बरकरार है, लेकिन कई बार यह सवाल पूछे जाते हैं कि कुंभ और अन्य स्नान पर्वों पर करोड़ों लोगों के डुबकी लगाने के बावजूद गंगाजल से कोई महामारी नहीं फैलती। इस विषय पर देश में भले ही कम रिसर्च हुए हैं, लेकिन विदेशी इस दिव्यता को स्वीकार करते हैं। अमेरिकी पत्रकार जूलियन क्रेंडल हॉलिक ने अपनी किताब गंगा में कई ऐतिहासिक तथ्यों के आधार पर यह साबित किया है कि गंगाजल दिव्य है।

बैक्टीरियोफेज है वजह: हॉलिक ने लिखा है कि गंगाजल में खुद को शुद्ध करने की अद्वितीय ताकत है। मुगल बादशाह अकबर सिर्फ गंगा का पानी पीते थे। उनके लिए ड्रमों में विशेष तौर पर गंगाजल आगरा मंगवाया जाता था। 17वीं शताब्दी में फ्रेंच यात्री जीन बेपटिस्ट ने भारत यात्रा के बाद कहा था कि गंगा के पानी में दवाओं जैसी ताकत है।

ब्रिटिश राज के दौरान कई बार विदेशी वैज्ञानिकों ने हैजा जैसी बीमारियों से मरे लोगों के शव गंगा में देखे। जब शवों से थोड़ा नीचे का गंगाजल लेकर लैब टेस्ट किया गया तो उसमें बिल्कुल भी हानिकारक बैक्टीरिया नहीं थे। कहा जाता है कि बैक्टीरियोफेज नाम का मित्र बैक्टीरिया गंगाजल को साफ रखता है। स्नान के दौरान लोगों के शरीर से निकलने वाले बैक्टीरिया को बैक्टीरियोफेज कुछ घंटों में खत्म कर देता है। इसलिए स्नान पर्वों पर कभी गंगाजल से कोई महामारी नहीं हुई। गंगा के कच्चे पानी में बैक्टीरिया 2-3 घंटे से ज्यादा जिंदा नहीं रहते।

गंगा किनारे के शहरों में आज भी ऐसी दंतकथाएं सुनने को मिल जाती हैं कि गंगाजल में नहाकर लोगों के गंभीर रोग भी ठीक हो गए।ऐसा धार्मिक विश्वास है कि कुंभ का शुभ संयोग होने पर गंगा जल में अमृत घुल जाता है। इसमें स्नान करने से दैहिक, दैविक और भौतिक ताप दूर होता है।

Related News

नई दिल्ली- जाने क्या है सब्जियों के राजा बैंगन का इतिहास, इन बीमारियों के लिए है फायदेमंद

भर्ता हो या फिर बिहारी लिट्टी के साथ खाए जाने वाला चोखा, टमाटर और मटर के साथ लजीज सब्जी भी कम नहीं। बात सब्जियों...

नई दिल्ली- स्वादिष्ठ नेपाली पिज्ज़ा बनाने की ये है पूरी रैसिपी, इन चीजों की मदद से तैयार करें होम मेड पिज़्ज़ा

पिज्जा का स्वाद अनोखा होता है यही वजह है कि कई लोगों को पिज्जा काफी पसंद होता है। लेकिन क्या आपने कभी नेपाली पिज्ज़ा...

हल्द्वानी- ब्यूटी फोटोशूट कॉंटेस्ट का आयोजन , शाही वेडिंग ड्रेस आभूषण के साथ रैम्प में उतरी मॉडल्स

हल्द्वानी - हल्द्वानी में आज नलिन बालटियाँ फोटोग्राफी द्वारा ,ब्राइडल ब्यूटी फोटोशूट कॉंटेस्ट करवाया गया। जिसका एकमात्र उद्देश हल्द्वानी शहर में आने वाले वेडिंग सीज़न...

मकर संक्रानि के विशेष पर्व पर सूर्य की ऐसे करे पूजा,खत्म होंगे सारे दोष

मकर संक्रांति हिन्दू संस्कृति का एक विशेष त्यौहार है जिसे पुरे भारत वर्ष में मनाया जाता है ऐसी मान्यता है की यह पर्व सूर्य...

बर्ड फ्लू की संभावनाओं के साथ सावधानी बरतने की है जरूरत,अपनायें ये तरीके।

जहाँ एकतरफ देश कोरोना का संकट झेल रहा है वही अब बर्ड फ्लू नाम की बीमारी ने लोगों के मन में दहशत पैदा कर...

नई दिल्ली-Whatsapp को तेजी से पछाड़ रहा ये मैसेंजर एप, इसलिए हासिल की टॉप पोजिशन

इंस्टैंट मेसेजिंग ऐप वॉट्सऐप को उसकी नई प्राइवेसी पॉलिसी 2021 का काफी नुकसान हो रहा है और दुनियाभर में लोग इस ऐप का विकल्प...