inspace haldwani
Home देश राज्य में एक मेडिकल व तकनीकी कॉलेज ऐसा होगा जहां स्थानीय भाषा...

राज्य में एक मेडिकल व तकनीकी कॉलेज ऐसा होगा जहां स्थानीय भाषा में होगी पढ़ाई : मोदी

ढेकियाजुलि (असम)। एजुकेशन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रत्येक राज्य में एक-एक ऐसे मेडिकल व तकनीकी कॉलेज खोले जायेंगे जहां स्थानीय भाषा में पढ़ाई की होगी। मोदी ने बिश्वनाथ और चरईदेव में दो मेडिकल कॉलेज अस्पताल का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि  मेरा एक सपना है हालांकि कुछ लोग इसे दुस्साहस भी कह सकते हैं। मेरा सपना है कि प्रत्येक राज्य में कम से कम एक मेडिकल और एक तकनीकी कॉलेज हो, जहां स्थानीय भाषा में शिक्षा दी जाए।

कहा कि असम में अप्रैल-मई में चुनाव के बाद नयी सरकार आने पर इस दिशा में काम शुरू होगा। स्वास्थ्य सुविधाओं के क्षेत्र में असम पहले पिछड़ा रहा। पिछले छह दशकों में छह मेडिकल कॉलेज की तुलना में 2016 के बाद पांच वर्षों में राज्य में छह नए मेडिकल कॉलेज खोले गये हैं।

गुवाहाटी के एम्स का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यह शीघ्र ही पूर्वोत्तर क्षेत्र के लिए चिकित्सा सुविधाओं के केंद्र में बदल जाएगा। उन्होंने केंद्र की विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं को लागू करने के लिए असम सरकार की सराहना की और कहा कि यह सुनिश्चित किये की आवश्यकता है कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की गाढ़ी कमाई को मेडिकल खर्चों पर खर्च होने से बचाया जाए।

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के दौर में स्वास्थ्य संबंधी चुनौतियों का उल्लेख किया। कहा कि देश अब इस मुकाम पर है कि महामारी के नियंत्रण और टीकाकरण अभियान की वैश्विक समुदाय ने भी प्रशंसा की है। अगले वित्तीय वर्ष के केंद्रीय बजट में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए अभूतपूर्व आवंटन किया गया है ताकि सुविधाओं को बढ़ाया जा सके और इसे सबसे दूरस्थ क्षेत्रों में ले जाया जा सके।

मोदी ने सड़क नेटवर्क विकास के लिए ‘ असम माला ‘ परियोजना का शुभारंभ करते हुए कहा कि देश अब तेज गति से प्रगति कर रहा है, और असम को भी विकास के इस सफर का हिस्सा बनना है। असम माला परियोजना राज्य में सड़क संपर्क की छवि बदलेगी तथा कनेक्टिविटी में सुधार के साथ, पर्यटन और उद्योग में वृद्धि होगी जिससे रोजगार के अधिक से अधिक अवसर पैदा होंगे और स्थानीय अर्थव्यवस्था में मदद मिलेगी।

असम समेत पूर्वोत्तर राज्यों को देश के विकास के एजेंडे का हिस्सा बताते हुए मोदी ने कहा कि सूरज देश के इस हिस्से में सबसे पहले उगता है लेकिन इसी हिस्से में विकास के सूरज के लिए वर्षों की प्रतीक्षा करनी पड़ी लेकिन अब राज्य में हिंसा, झड़प, गरीबी, भेदभाव जैसी विसंगतियां पीछे रह गयी है और यह क्षेत्र अब विकास की राह पर अग्रसर है।”

 

Related News

रात 10 बजे से पहले सोने में बढ़ सकता है हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा, जानिए किसने किया बड़ा खुलासा

  उत्तराखंड - बचपन मे हम बड़े , बुजुर्गो से सुनते आए है अरली टू बेड, अरली तो राइज, मेक्स ए मैन हेल्दी, वेल्थी एंड...

साल 1935 के बाद सबसे छोटा टेस्ट मैच साबित हुआ अहमदाबाद का मैच

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में भारत और इंग्लैंड के बीच का तीसरा टेस्ट मैच वर्ष 1935 के बाद का सबसे...

इंडो पाक बार्डर पर संघर्ष विराम का पूरी तरह पालन करने पर सहमति

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। इंडो पाक बार्डर पर अब दोनों देश संघर्ष विराम और अन्‍य समझौतों का पालन करेंगे। भारत और पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा...

ब्रज की किसान महापंचायत: प्रियंका गांधी ने कहा-गोवर्धन पर्वत बचाकर रखना कहीं सरकार बेच ना दे

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मंगलवार को मथुरा में कहा कि गोवर्धन पर्वत बचाकर रखिएगा कहीं सरकार इसे भी ना बेच...

गणतंत्र दिवस हिंसा: षड्यंत्रकारी किसान नेता समेत दो को जम्मू से किया गिरफ़्तार

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। दिल्‍ली पुलिस ने जम्‍मू से किसान नेता समेत दो अन्‍य को हिरासत में लिया है। यह लोग गणतंत्र दिवस के दिन...

तांडव वेब सीरीज विवाद: AMAZON PRIME की इंडिया हेड बयान दर्ज कराने पहुंचीं हजरतगंज कोतवाली

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। अमेजन प्राइम की इंडिया हेड अपर्णा पुरोहित मंगलवार दोपहर लखनऊ पहुंच गई हैं। वेब सीरीज तांडव को लेकर दर्ज हुए मुकदमे...