iimt haldwani

अमेरिकी सेना इस्तेमाल करेगी गोरखा रेजीमेंट का ये खास शस्त्र, उत्तराखंड के इस दुकानदार को मिला लाखों का आर्डर

86

देहरादून-न्यूज टुडे नेटवर्क : देहरादून की बनी खुखरी के करतब देखकर अमेरिकी सेना भी हैरान है, तभी तो अमेरिकी सेना ने देहरादून की सौ साल पुरानी दुकान को अपने लिए खुखरियां तैयार करने का बड़ा ऑर्डर दिया है। यानि अब तक जो देहरादून बासमती चावल और स्कूल एजुकेशन के लिए फेमस था, वो अब लोहे की उम्दा तलवारों और खुखरियों के लिए अपनी पहचान बना रहा है। हॉलीवुड की कई फिल्मों में दून में बनी तलवारें और लोहे के हेलमेट का इस्तेमाल किया जा चुका है, और अब यहां की खुखरियां अमेरिकी सेना के अफसरों की शान बढ़ाएंगी।

amarpali haldwani

khukhari7

यह भी पढ़ें- नई दिल्ली-रोहित शेखर हत्याकांड से जुड़ी बड़ी खबर, जानिये क्या है रोहित के नौ गद्दों में सोने का राज

यह भी पढ़ें- फिर हो सकती है नोट बंदी ! RBI जल्द जारी करने जा रहा 500 और 200 के नए नोट, वजह है ये खास …

60 खुखरियां तैयार करने का आर्डर

यहाँ की 100 साल पुरानी खुखरी की दुकान को अमेरिकी सेना की ओर से वहां के अफसरों के लिए 60 खुखरियां तैयार करने का आर्डर मिला है। देहरादून के डाकरा बाजार स्थित सतीश खुखरी की दुकान को ये आर्डर मिला है। दून में बनी खुखरियों का इस्तेमाल खाड़ी देशों में तैनात अमेरिकी सेना के अफसर करेंगे। दरअसल अमेरिकी सेना ने भारतीय खुखरी का कमाल उस वक्त देखा जब वो रानीखेत में भारतीय सेना के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास कर रही थी। इसी दौरान उन्होंने देखा की गोरखा रेजीमेंट के सैनिकों के पास जो खुखरी है, वो अमेरिकी सेना के चाकूओं से बेहतर है। बस फिर क्या था, सैनिकों की डिमांड पर उनके अफसर देहरादून पहुंचे और अपनी सेना के लिए खुखरियों का ऑर्डर दे दिया।

51gtm

गोरखा सैनिकों के लिए खुखरी पारंपरिक हथियार

बता दें कि युद्ध के दौरान खुखरी के इस्तेमाल का लंबा इतिहास रहा है। गोरखा सैनिकों के लिए खुखरी पारंपरिक हथियार है। इन खुखरियों के दम पर सैनिकों ने कई बार दुश्मनों को धूल चटाई तो कई बार ये खुखरियां ही उनकी जीवनरक्षक भी बनीं। भारतीय सेना के वीर गोरखा सैनिकों ने 1965 और 1971 के युद्ध में अपनी खुखरियों से दुश्मन के दांत खूब खट्टे किए थे। चलिए अब आपको ये भी बता देते हैं कि दून में वो खास दुकान है कहां जहां की बनी खुखरियों की मुरीद अमेरिकी सेना हो गई है।

डाकरा बाजार में स्थित है यह दुकान

ये दुकान डाकरा बाजार में है, जिसे सतीश खुखरी की दुकान के नाम से जाना जाता है। दुकान में फिलहाल चौथी पीढ़ी खुखरियों का निर्माण कर रही है। ये दुकान इसलिए भी खास है क्योंकि यहीं से भारतीय सेना को भी खुखरियों की आपूर्ति की जाती हैं। बताया जा रहा है कि अमेरिकी सेना के एक अफसर ने खुद इस दुकान में आकर 60 खुखरियों का आर्डर दिया है। अमेरिकी सेना के अफसर को मशीन की बजाय हाथ से बनी खुखरियां ज्यादा पसंद आई हैं और उन्होंने भविष्य में खुखरियों का बड़ा ऑर्डर देने का वादा भी किया है।