drishti haldwani

हल्द्वानी- रेनबो ऐकेडेमी के विद्यार्थी पढ़ाई के साथ सीख रहे है उद्यमिता के गुण, इसलिए हासिल की है “First Rank”

91

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: 2005 के बाद से, रेनबो ऐकेडेमी शिक्षा और अनुशासन के उच्च स्तर को बनाए रखने के साथ ही अपनी सभी सामग्रियों के विश्वास को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता पर रखता रहा है। रेनबो ऐकेडेमी सीनियर सेकण्डरी स्कूल नगर का एकमात्र ऐसा विद्यालय है जिसे उत्तराखंड प्रदेश सरकार के शिक्षा मंत्री और भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्री दोनो के हाथों श्रेष्ठ प्रबन्धन और श्रेष्ठ प्रतिभावान विद्यार्थी सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है। रेनबों स्कूल हल्द्वानी के बरेली रोड के तीन पानी में स्थित है। जोकि मौजूदा समय में हल्द्वानी में मौजूद सभी प्राइवेट स्कूलों में से शीर्ष रैंकिंग पर है।

iimt haldwani

स्कूल परिसर में बच्चों को मिलने वाली सुविधाएं

रेनबो ऐकेडेमी में सभी स्कूल की बसों और मिनी बसों में छात्रों की सुरक्षा और अभिभावकों की जानकारी के लिए जीपीएस आधारित स्कूल बस ट्रेसिंग और नियंत्रण प्रणाली की भी योजना है। इतना ही नहीं स्कूल में जूनियर और माध्यमिक स्तर के छात्रों के लिए एक अच्छी तरह से सुसज्जित साइंस लैब है जो अनुभवात्मक शिक्षण का समर्थन करता है। इसके साथ ही छात्रों की गोपनीयता को बाधित किए बिना परिसर में सभी प्रवेश द्वारों, निकासों और गतिविधियों की निगरानी के लिए

उचित सीमा दीवारों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है, ताकि स्कूल परिसर छात्रों के लिए सुरक्षित रहे। आपको बता दें कि रेनबों ऐकेडेमी केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) नई दिल्ली से संबद्ध है। स्कूल में कक्षा नर्सरी से कक्षा 12वी तक प्रवेश प्रदान करता है। यही नहीं स्कूल में एक वरिष्ठ माध्यमिक स्तर के स्कूल की सभी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक अलग अल्ट्रा आधुनिक शैक्षणिक और गतिविधि ब्लॉक का निर्माण किया गया है।

शिक्षा मंत्री से मिला सम्मान

बता दें कि प्रदेश के सभी निजी विद्यालयों में “एनसीईआरटी पाठ्य पुस्तकें” लागू करने का साहसिक एवं ऐतिहासिक निर्णय लेने वाले प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डे द्वारा रेनबो ऐकेडेमी सीनियर सेकण्डरी स्कूल की प्रबंधिका रुचि शर्मा का सार्वजनिक अभिनंदन एक भव्य सम्मान, समारोह में किया गया है। रेनबो ऐकेडेमी नगर में एकमात्र विद्यालय है जिसने एनसीआरटी की पुस्तकों को सबसे पहले लागू किया था।

इसके अलावा रेनबो स्कूल नैनीताल जिले का सर्वप्रथम शतप्रतिशत “कूड़ा रहित” विद्यालय है। यहां ऐकेडेमी में विद्यार्थियों द्वारा “कूड़े से कॉम्पोस्ट खाद” तैयार करके ऑर्गेनिक सब्ज़ियों का उत्पादन किया जाता है। इतना ही नहीं यह कुमाऊं का पहला विद्यालय है, जिसमें छात्राओं की निजी स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए “मुफ़्त सैनिटरी नैपकिन वितरण’ के लिए वेंडिंग मशीन की स्थापना की गई है।