हल्द्वानी-मां की अर्थी को बेटियों ने दिया कन्धा , बेटों की तरह निभाई जिम्मेदारी

Slider

मां की मृत्यु पर आज बेटियों ने वो काम किया जिसे करने का अधिकार सामाजिक मान्यताओं के अनुसार केवल बेटों को ही होता है इन सामाजिक रुढ़ियों और विडंबनाओं को नकारते हुए दो बेटियों ने बेटों की तरह सभी धार्मिक क्रियाओं को करते हुए श्मशान घाट में अपनी माॅ की चिता को आग दी। आज इन बेटियों ने समाज को बता दिया कि परंपराओं से अलग भी एक दुनिया होती है उन्होने न सिर्फ अपनी मां की चिता को आग दी बल्कि मा की अर्थी को भी कन्धा दिया।

Slider

सूचना के अनुसार हल्द्वानी के श्रीपुरम कालोनी में रहने वाले शंकर दत्त जोशी जोकि रोडवेज में कार्यरत हैं। उनकी दो बेटियां है एक का नाम हिमानी भट्ट जिसकी शादी हो चुकि है और दूसरी का नाम दीक्षा है जो दिल्ली में जाॅब करती है उनकी 55 वर्षीय माता चित्रा जोशी का मंगलवार की रात को निधन हो गया। जैसे ही दोनों बेटियों ने अपनी माॅ की निधन की खबर सुनी तो दोनों हल्द्वानी आ गईं। बेटियों का सहोकदर भाई नही था जिस कारण बेटियों ने ही स्वयं ही अंतिम यात्रा के कार्यक्रमों को करने का निर्णय ले लिया।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें