रणजी ट्रॉफी फाइनल: शुभम और दुबे की शतकीय पारी से मजबूत स्थिति में एमपी

बेंगलुरु, 24 जून (आईएएनएस)। एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में रणजी ट्रॉफी फाइनल के तीसरे दिन मुंबई पर मध्य प्रदेश का दबदबा जारी रहा, क्योंकि शुभम शर्मा ने सीजन का अपना चौथा शतक जमाया और यश दुबे के साथ चाय तक टीम का स्कोर 98 ओवरों में 301/2 पर पहुंचाया।
 | 
रणजी ट्रॉफी फाइनल: शुभम और दुबे की शतकीय पारी से मजबूत स्थिति में एमपी बेंगलुरु, 24 जून (आईएएनएस)। एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में रणजी ट्रॉफी फाइनल के तीसरे दिन मुंबई पर मध्य प्रदेश का दबदबा जारी रहा, क्योंकि शुभम शर्मा ने सीजन का अपना चौथा शतक जमाया और यश दुबे के साथ चाय तक टीम का स्कोर 98 ओवरों में 301/2 पर पहुंचाया।

वहीं एमपी पहली पारी की बढ़त लेने से 73 रन दूर। हालांकि शर्मा 116 रन पर आउट हो गए, लेकिन दुबे 119 रन बनाकर नाबाद रहे और रजत पाटीदार ने 27 रन बनाकर उनका साथ दिया।

अगर दुबे ने शुक्रवार को पहले सत्र में अपना शतक जमाया, तो उसके बाद तीन अंकों के स्कोर तक पहुंचने की बारी शर्मा की थी। उन्होंने तुषार देशपांडे की गेंद पर शानदार कवर ड्राइव के साथ अपना शतक पूरा किया, साथ ही उनके और दुबे के बीच बीच 200 रन की साझेदारी को भी बढ़ाया।

chaitanya

उनका भाग्य भी उनके साथ था, जब बाहरी किनारा लग कर दो बार स्लिप से कैच छूटा था, जिससे तीसरे दिन मुंबई की परेशानी बढ़ गई। मुंबई ने शर्मा को लगभग आउट कर दिया था, जब बल्लेबाज बचाव के लिए खेला, लेकिन गेंद बल्ले से लगकर कीपर के हाथ में चली गई। लेकिन अंपायर ने किनारे का कोई शोर नहीं सुना, अपील को खारिज कर दिया गया।

पाटीदार ने अपनी आईपीएल फ्रेंचाइजी के फॉर्म को जारी रखते हुए पांच चौके लगाए, जिससे मुंबई के गेंदबाजों पर हमला करने का उनका इरादा साफ हो गया।

इससे पहले, 41 ओवर में 123/1 से शुरू हुई मध्य प्रदेश ने पहले सत्र में बिना कोई विकेट खोए 105 रन बनाए। दिन की शुरूआत यश दुबे ने धर्य से खेलते हुए की। गेंद बल्ले पर अच्छी तरह से आने के साथ शुभम शर्मा ने इसका पूरा इस्तेमाल किया, क्योंकि उन्होंने तुषार देशपांडे को कुछ अच्छी बाउंड्रियां लगाई।

दुबे ने अवस्थी की गेंद पर फाइन लेग के जरिए लगातार दो चौके लगाकर अर्धशतक पूरा किया, जबकि शर्मा ने देशपांडे की गेंद पर शॉट लगाकर अपना अर्धशतक पूरा किया। मुंबई के गेंदबाजों को पिच से मदद नहीं मिली।

इसके अलावा, बाएं हाथ के स्पिनर शम्स मुलानी के लिए ज्यादा टर्न उपलब्ध नहीं होने के कारण शर्मा और दुबे ने अपने पैरों का इस्तेमाल करके उन्हें छक्के लगाए।

पहले सत्र के अंत में दुबे ने मिड-विकेट के माध्यम से मुलानी और तनुश कोटियन की गेंदों पर तेज से रन बनाए और इसके बाद रणजी ट्रॉफी फाइनल में शतक बनाने के लिए फाइन लेग के माध्यम से स्वीप किया, जिसे लंच से पहले डगआउट में उनके साथियों ने सराहा।

संक्षिप्त स्कोर :

मुंबई 127.4 ओवर में 374/10 (सरफराज खान 134, गौरव यादव 4/106) मध्य प्रदेश 98 ओवर में 301/2 (यश दुबे 119 नाबाद, शुभम शर्मा 116, मोहित अवस्थी 1/44, तुषार देशपांडे 1 /73)।

--आईएएनएस

आरजे/एएनएम