drishti haldwani

पहाड़ के बेटे का एजेंट ने मलेशिया में कर दिया ये हाल,अब बेटे की बरामदगी को लेकर दर-दर भटक रहे माता-पिता

594

बागेश्वर-लगातार आ रही ठगी की खबरों के बावजूद लोग फिर ठगी का शिकार हो गया। भविष्य संवारने का सपना दिखाकर अब युवक की जान पर बन आयी। ऐसा मामला एक इस बार पहाड़ में सामने आया है। बागेश्वर जिले के भकुनखोला गांव के एक युवक को मलेशिया में बंधक बनाया गया है। जिसके बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। अपने बेटे की सकुशल वापसी के लिए परिजनों ने शासन-प्रशासन ने गुहार लगाई है। अब बागेश्वर प्रशासन सक्रिय दिखाई दे रहा है। इसी मामल को लेकर परिजन सोमवार को ग्रामीणों संग जिलाधिकारी के ऑफिस पहुंचे। ग्रामीणों ने बताया कि गांव का युव वीरेन्द्र कुमार आर्या करीब पांच महीने से मलेशिया में बंधक बनाया गया है। उसके परिवार को यह जानकारी दो सप्ताह पहले हुई जिसके बाद परिजन परेशान हो गये और उनका रो-रोकर बुरा हाल है।

iimt haldwani

नौकरी दिलाने के नाम पर आया एजेंट का फोन

इस दौरान वीरेंद्र के पिता किशन राम ने बताया कि दिसंबर 2018 में उनके बेटे के पास किसी एजेंट का फोन आया। उसने वीरेंद्र को मलेशिया में मर्चेंट नेवी में नौकरी लगाने का वादा किया। तो विरेन्द्र उसके झांसे में आ गया और कहा कि 30 हजार रुपये मासिक वेतन दिया जायेगा। एजेंट ने मलेशिया में नौकरी लगाने के लिए युवक से 4 लाख की मांग की। विरेन्द्र ने सारी बाते परिजनों को बताई परिजनों ने जेवर और अन्य सामान बेचकर 4 लाख की इंतजाम कर लिया। इसके बाद उन्होंने प्रवेश ठाकुर व पंकज ठाकुर नाम एलेंटों को 4 लाख रुपये दे दिये। जनवरी 2019 में एजेंट उड़ीसा के रास्ते विरेन्द्र को मलेशिया में ले गया।

विरेन्द्र के लापता होने की बात कही

परिजनों ने बताया कि दो माह काम करने के बाद विरेन्द्र को टार्चर किया जाने लगा। इसके बाद परिजनों ने उसके दोस्तों से संपर्क किया तो उन्होने बताया कि वह अस्पताल में भर्ती है। परिजनों को चिंता हुई तो उन्होंने एक अन्य युवक से पता चला कि वीरेन्द्र दिल्ली वापस आ रहा है। यह जानकरी मिलते ही विरेन्द्र के पिता किशन राम उसे लेने दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे तो उसके दोस्त ने कहा कि वह क्लाालाम्पुर से की खो गया है। इसके बद परिजना और परेशान हो गये। आज परिजनों ने डीएम कार्यालय पहुंचकर पूरा वाक्या बताया। जिसके बाद प्रशासन ने कार्यवाही की बात कही।