देहरादून- पार्किंग की परेशानी को दूर करने के लिए सरकार ने शुरू किया ये ‘Smart Concept’, बस देने होंगे इतने पैसे

0
66

देहरादून- न्यूज टुडे नेटवर्क: किसी शहर में पार्किंग की अव्यवस्था एक बड़ा मुद्दा है। जिसको दूर करने के लिए सरकार ने एक अनोखा कदम उठाया है। दरअसल लोगो को पार्किंग की समस्या से निजात दिलाने के लिए राजधानी दून में उत्तराखंड की पहली स्मार्ट पार्किंग यानी ऑन स्ट्रीट पार्किंग सेवा शुरू कर दी गई है। इतना ही नहीं एप के जरिये लोग घर बैठे भी अपना पार्किंग स्थल बुक करा सकते हैं। जानकारी मुताबिक पार्किंग के लिए पहले एक घंटे में दुपहिया वाहन के लिए 20 रुपये, जबकि चौपहिया वाहनों के लिए 30 रुपये शुल्क तय किया गया है। सड़क के दोनों तरफ 661 वाहनों को खड़ा किया जा सकता है। आवास एवं शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने रविवार को स्मार्ट पार्किंग का उद्घाटन किया।

इस एप के जरिए बुक होगी पार्किंग

उन्होंने कहा कि यह प्रदेश में अपनी तरह का पहला प्रयोग है और इसके सफल होने पर इसे दून की अन्य सड़कों पर भी लागू किया जाएगा। जिस तरह से दून में दिनों दिन वाहनों का दबाव बढ़ रहा है, उसे देखते हुए पार्किंग स्थलों का विकास बेहद जरूरी हो गया है। बता दें कि पहले घंटे के लिए दुपहिया के लिए 20 व चौपहिया के लिए 30 रुपये। अगले तीन घंटे तक दुपहिया के लिए 30 व चौपहिया वाहनों के लिए 55 रुपये।

वही पार्किंग बुक कराने के लिए एप ‘एमपार्क’ (दून स्मार्ट पार्किंग) नाम से प्ले स्टोर पर उपलब्ध है। एप को डाउनलोड करने के बाद उस पर एकाउंट रजिस्टर करना होगा। वाहन कब और कितने समय के लिए खड़ा किया जाना है, इसकी भी जानकारी एप में देनी होगी। इसमें सभी पार्किंग स्थलों के नाम हैं और पार्किंग बुक करने के लिए पहले भुगतान करना होगा। भुगतान के लिए तमाम विकल्प दिए गए हैं और एप के वॉलेट में भी राशि जमा की जा सकती है।

सीसीटीवी कैमरों से रखी जाएगी नज़र

एप में अभी कई तरह के सुधार कर उसे लोगों के उपयोग के लिए और आसान बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। मौके पर भुगतान के लिए कर्मचारी तैनात मौके पर पार्किंग बुक करने के लिए वर्दी में कर्मचारी तैनात रहेंगे। जो हैंडहेल्ड मशीन के जरिये पार्किंग बुक करेंगे और भुगतान प्राप्त कर उसकी रसीद देंगे। हर पार्किंग स्थल पर सीसीटीवी कैमरे हर पार्किंग स्थल पर जरूरत के अनुसार एक या दो सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। ताकि वाहनों की सुरक्षा भी पुख्ता की जा सके। इनकी निगरानी कंट्रोल रूम से भी की जाएगी।