inspace haldwani
Home उत्तराखंड गढ़वाल पर्यटकों को प्रभावित करने वाली लिपुलेख की गगनचुंबी पहाड़ियां, देखिए नाले और...

पर्यटकों को प्रभावित करने वाली लिपुलेख की गगनचुंबी पहाड़ियां, देखिए नाले और मौसम का मिजाज

देहरादून-पहाड़ी अनाजों से बनीं देवभोग मिठाई, वोकल फॉर लोकल से बढ़ी डिमांड

देहरादून- आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में हिमालय देवभूमि संसाधन ट्रस्ट की ओर से पहाड़ी अनाजों से तैयार मिठाइयों देवभोग स्वीट्स...

देहरादून-राष्ट्रीय एकता दिवस पर इन पुलिसकर्मियों को मिला उत्कृष्ट सरकार, सीएम ने ली परेड की सलामी

देहरादून- आज राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर पुलिस लाइन में परेड का आयोजन किया गया। इस दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने परेड...

देहरादून-सासंद बलूनी ने लौटाई हजारों चेहरों पर मुस्कान, इस दिन से शुरू होगा धनगढ़ी नाले पर पुल का निर्माण

देहरादून- आज राज्यसभा सांसद और भाजपा के मुख्य प्रवक्ता व मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने कहा कि रामनगर के निकट धनगढ़ी नाले पर बहुप्रतीक्षित...

देहरादून-सीएम त्रिवेन्द्र ने किया निशानेबाज अमित को सम्मानित, ऐसे कमाया था नाम

देहरादून-आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में निशानेबाज अमित कुमार को सम्मानित किया। बता दें कि भानियावाला निवासी अमित ने विगत दिसंबर...

देहरादून-छात्रों के लिए राहत भरी खबर, अगले साल इस माह होगीं इग्नू की परीक्षा

देहरादून-कोरोनाकाल में छात्रों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय ने राहत की खबर दी है। इग्नू की सत्रांत परीक्षाएं अब दिसंबर के बजाय अगले...

भारत-नेपाल के बीच सीमा विवाद के दौरान लिपुलेख लगातार चर्चा में हैं लिपुलेख रोड का काम बीते 12 सालों से चल रहा था और जब ये पूरा हुआ तो भारत की चीन बॉर्डर पर सीधी पहुंच हो गई है। लिपुलेख पहुंचने का सफर चुनौती भरा है यहां पर जाने के लिए खतरनाक गगनचुंबी पहाड़ियों सामना करना होता है। वहीं मालपा से बूंदी जाने के लिए 12 किलोमीटर का कठिन मार्ग है जिसका सामना करने के लिए एक मजबूत कलेजे की आवश्यकता है।

लिपुलेख की गगनचुंबी पहाड़ियां
लिपुलेख की गगनचुंबी पहाड़ियां

दरअसल इस रास्ते पर एक पानी के नाले होकर गुजर पड़ता है। जिसमें पानी का बहाव काफी तेज होता है। इस नाले को पार करना बहुत चुनौती भरा हो सकता है। क्योकि लिपुलेख हिमालय का एक पहाड़ी दर्रा है जो एक विवादित क्षेत्र है जो नेपाल के दार्चुला जिला ब्यास गाँउपालिका मे है। येह क्षेत्र भारत के उत्तराखंड राज्य के कुमाऊँ क्षेत्र को तिब्बत के तकलाकोट पुरंगद्ध शहर से जोड़ता है। यह प्राचीनकाल से व्यापारियों और तीर्थयात्रियों द्वारा भारत और तिब्बत के बीच आने-जाने के लिये प्रयोग किया जा रहा है। यह दर्रा भारत से कैलाश पर्वत व मानसरोवर जाने वाले यात्रियों द्वारा विशेष रूप से इस्तेमाल होता है।

Related News

देहरादून-पहाड़ी अनाजों से बनीं देवभोग मिठाई, वोकल फॉर लोकल से बढ़ी डिमांड

देहरादून- आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में हिमालय देवभूमि संसाधन ट्रस्ट की ओर से पहाड़ी अनाजों से तैयार मिठाइयों देवभोग स्वीट्स...

देहरादून-राष्ट्रीय एकता दिवस पर इन पुलिसकर्मियों को मिला उत्कृष्ट सरकार, सीएम ने ली परेड की सलामी

देहरादून- आज राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर पुलिस लाइन में परेड का आयोजन किया गया। इस दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने परेड...

देहरादून-सासंद बलूनी ने लौटाई हजारों चेहरों पर मुस्कान, इस दिन से शुरू होगा धनगढ़ी नाले पर पुल का निर्माण

देहरादून- आज राज्यसभा सांसद और भाजपा के मुख्य प्रवक्ता व मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने कहा कि रामनगर के निकट धनगढ़ी नाले पर बहुप्रतीक्षित...

देहरादून-सीएम त्रिवेन्द्र ने किया निशानेबाज अमित को सम्मानित, ऐसे कमाया था नाम

देहरादून-आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में निशानेबाज अमित कुमार को सम्मानित किया। बता दें कि भानियावाला निवासी अमित ने विगत दिसंबर...

देहरादून-छात्रों के लिए राहत भरी खबर, अगले साल इस माह होगीं इग्नू की परीक्षा

देहरादून-कोरोनाकाल में छात्रों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय ने राहत की खबर दी है। इग्नू की सत्रांत परीक्षाएं अब दिसंबर के बजाय अगले...

देहरादून-एसडीआरएफ की तृप्ति भट्ट को मिला सिल्वर मेडल, प्रवासियों के लिए किया ये खास काम

देहरादून-कोरोनाकाल में पुलिस ने पूरे जी जान से काम किया। वहीं जगह-जगह फंसे प्रवासियों की काफी मदद की । इसी मेहनत का परिणाम उन्हें...