iimt haldwani

आखिर क्यूं अपने देवर को पिलाती थी भाभी अपना ही खून, दिल्ली पुलिस ने देवभूमि में किया ये बड़ा खुलासा

1469

उत्तराखंड की राजधानी में बेहद ही चौकाने वाला मामला प्रकाश में आया है। देश की राजधानी से आरोपी की तलाश में देहारदून पुहंची पुलिस दिल्ली पुलिस के उस वक्त होश उड़ गए जब आरोपी ने अपनी दास्तां पुलिस को बताई। दरअसल दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे व्यक्ति को देहरादून से गिरफ्तार किया, जो अपने साथ लिव इन रिलेशन में रह रही भाभी पर हमला करने के बाद, उसे मरा समझकर कमरे में छोड़कर भाग निकला था। दिल्ली पुलिस के अनुसार आरोपी का नाम अर्जुन है जो पीड़ित महिला के साथ पिछले 2-3 महीने से लिव इन रिलेशनश‍िप में रह रहा था। पीड़ित महिला उसके भाई की पत्नी है। 22 जून की रात पुलिस टीम को सूचना मिली थी कि दिल्ली के नरेला इंडस्ट्रियल एरिया में एक महिला जख्मी पड़ी हुई है।

amarpali haldwani

uttarakhand devar bhabi crime news

घटनास्थल पर पहुंचकर पुलिस ने महिला को अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। जांच में महिला के कमरे एक मोबाइल फोन का खाली डि‍ब्बा मिला जिसमें एक आईएमईआई नम्बर अंकित था। उस नम्बर की जांच से पता चला कि इस नंबर का एक मोबाइल फोन इस्तेमाल हो रहा है जो देहरादून जाकर बन्द कर दिया गया है। पुलिस ने उसी के माध्यम से मोबाइल उपयोग कर रहे शख्स का फोटो ढूंढ निकाला। पड़ोसियों को फोटो दिखाने पर मालूम हुआ कि उसका नाम अरुण है। आरोपी ने पड़ोसियों को अपना नाम भी गलत बताया था। जांच के बाद पुलिस ने आरोपी अर्जुन को देहरादून में उसकी बहन के घर से हिरासत में ले लिया।

आरोपी की दास्तां सुन पुलिस के भी उड़े होश

इधर पुलिस गिरफ्त में आये आरोपी ने पुल‍िस को बताया है कि वह अपनी भाई की पत्नी के साथ लिव इन रिलेशन में था, किन्तु अब वह इस रिश्ते को आगे नहीं बढ़ाना चाहता था। इसलिए उसने 22 जून की रात भाभी के सि‍र पर एक बड़ा पत्थर मार दिया। जब उसे लगा कि भाभी मर गई है तो वो फरार हो गया। आरोपी मूल रूप से बिहार के आरा का निवासी है और घायल रीता उसकी भाभी है। लेकिन पुलिस के होश तब उड़े जब आरोपी ने बताया कि, “मेरी भाभी मुझ से बहुत अधिक प्यार करने लगी थी और मुझे वश में करने के लिए वह किसी साधु बाबा के कहने पर तंत्र-मंत्र करती थी। उसके लिए वह बाकायदा मुझे पिछले एक वर्ष से अपना खून मेरे खाने में मिलाकर मुझे खिला रही थी। मैंने कई दफा मना भी किया तो वह नाराज हो जाती थी, इससे छुटकारा पाने के लिए मैंने ये कदम उठाया।” मामले में पुलिस कार्यवाई जारी है।