drishti haldwani

उत्तराखंड की इस झील से जल्द उड़ान भरेगा Sea-Plane, देशभर में बना ये अनोखा रिकॉर्ड

231

Uttarakhand Tourism, उत्तराखंड में पर्यटकों को लुभाने के लिए राज्य सरकार एक बड़ी योजना लाने जा रही है। राज्य सरकार अब उत्तराखंड में Sea-plane सर्विस की शुरुआत करने जा रही है। राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने इसके लिए एमओयू पर हस्ताक्षर भी कर लिए हैं। ऐसा करने वाला उत्तराखंड पहला राज्य बन गया है। बताया जा रहा है कि Sea-plane की सुविधा टिहरी झील से उपलब्‍ध करवाई जाएगी। इस बात की जानकारी खुद प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दी है।

iimt haldwani

जानकारी मुताबिक इस योजना के संबंध में सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं। सिविल एविऐशन डिपार्टमेंट, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया और उत्तराखंड सरकार के बीच Sea-plane सर्विस को लेकर त्रिस्तरीय करार किया गया है। सिविल एविऐशन डिपार्टमेंट इस योजना के लिए टेंडरिंग करेगा, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया Sea-plane संबंधी सभी जानकारियां देगा और हेली ड्रॉम व अन्य संसाधन कैसे होने चाहिए ये बताएगा, वहीं तीसरी पार्टी उत्तराखंड सरकार है।

यह भी पढ़ें- तिरुपति बालाजी मंदिर, जहां हर रोज चढ़ता है करोड़ों रुपए चढ़ावा, जीवन में एक बार जरूर करें भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन

Uttarakhand tourism sea plane in tihri lake

यह भी पढ़ें- रहस्य और रोमांच से भरी है कन्याकुमारी की यात्रा, यहां एक साथ होता है सूरज-चांद का दीदार, जानिए क्या है मंदिर का इतिहास

पहला राज्य बना उत्तराखंड

इस योजना के लिए केंद्र सरकार के साथ एमओयू साइन करने के साथ ही उत्तराखंड ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। गत वर्ष भारत सरकार ने ही उत्तराखंड सरकार को Sea-plane चलाने के लिए प्रस्ताव भेजा था। जिसके बाद राज्य सरकार की दिसंबर में हुई बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया। गौरतलब है कि 42 वर्ग किमी में फैली टिहरी झील में इस प्लेन के संचालन को लेकर पहले राज्य सरकार ने विशेषज्ञों से भी राय मांगी थी। उनकी तरफ से हरी झंडी मिलने के बाद ही यह निर्णय लिया गया।

क्या होता है Sea-plane

यह एक सामान्य तरह का ही वायुयान होता है, बस फर्क इतना होता है कि यह पानी से ही उड़ान भरता है और लैंड भी वहीं करता है। सामान्य तौर पर Sea-plane का इस्तेमाल तटीय इलाकों में ज्यादा होता है। अमेरिका और यूरोप में कई स्‍थानों पर Sea-plane का इस्तेमाल निजी और कमर्शियल दोनों ही तौर पर किया जाता है। उत्तराखंड के पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने इस योजना के संबंध में कहा कि इससे पर्यटन को काफी बढ़ावा मिलेगा और अब केंद्र सरकार इसके लिए टेंडरिंग करने भी जा रही है।