iimt haldwani

सपा-बसपा गठबंधन को लेकर मुलायम बेहद नाराज, बोले अखिलेश के चक्कर में खत्म हो जाएगी समाजवादी पार्टी

166

लखनऊ-न्यूज टुडे नेटवर्क : आगामी लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश के दोनों प्रमुख राजनीतिक दल सपा और बसपा के बीच हुए गठबंधन पर समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने बड़ा बयान दिया है। यादव का यह बयान सपा अध्यक्ष और उनके बेटे अखिलेश यादव के लिए झटका साबित हो सकता है। मुलायम सिंह ने सपा-बसपा गठबंधन पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि आखिर अखिलेश यादव इस गठबंधन में आधी सीटों पर राजी क्यों हुए। मुलायम कुछ दिन पहले भी लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जीत और सत्ता में वापसी की कामना भी कर चुके हैं।

drishti haldwani

IMG_9555

क्या कहा मुलायम सिंह यादव ने

आखिर कैसे अखिलेश यादव बहुजन समाज पार्टी के साथ ऐसे गठबंधन के लिए राजी हो गए जिसमें सपा पार्टी के हिस्से में आधी सीटें आई हैं। मुलायम ने तो ये तक कह दिया है कि पार्टी के लोग ही पार्टी को खत्म करने में जुटे हैं। महिलाओं को पार्टी में तरजीह नहीं मिल रही। हमने इतनी बड़ी पार्टी बनाई, लेकिन पार्टी को अब कमजोर किया जा रहा है। मुलायम ने कहा कि सूबे की 80 लोकसभा सीटों में से सिर्फ 25-26 सीटें ही जीत सकते हैं। गौरतलब है कि कुछ महीने बाद होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन किया है। इस गठबंधन के तहत अखिलेश यादव और मायावती कुल 80 सीटों में से 38-38 सीटों पर चुनाव लडऩे पर सहमत हुए हैं। यूपी की राजनीति के इन दो धुर विरोधियों का एक साथ आना प्रदेश की राजनीति के पुरोधा मुलायम को रास नहीं आ रहा है।

maya mulayam3

सपा-बसपा गठबंधन पर मुलायम ने तोड़ी चुप्पी

मुलायम सिंह यादव को आपत्ति इस बात पर है कि उनके बेटे अखिलेश यादव ने चुनाव से पहले ही आधी से ज्यादा सीटों पर अपनी दावेदारी आखिर कैसे छोड़ दी। यूपी से इस समय सपा के 7 सांसद हैं जबकि बहुजन समाज पार्टी का एक भी सांसद नहीं है। मुलायम ने सपा-बसपा गठबंधन पर सवाल उठाकर एक तरह से अपने छोटे भाई और अखिलेश के विरोधी शिवपाल यादव के सुर में सुर मिलाया है जिन्होंने अलग पार्टी बनाकर सपा के खिलाफ बिगुल फूंका हुआ है।

62603656

बता दें कि 2017 के विधानसभा चुनाव में भी जब अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया था तब भी मुलायम सिंह ने सवाल एतराज जाहिर किया था। इतना ही नहीं वो शिवपाल यादव और पारसनाथ यादव की सीट को छोडक़र किसी भी अन्य सीट पर प्रचार करने नहीं गए थे।

मुलायम दे चुके हैं नरेन्द्र मोदी को जीत का आशीर्वाद

वैसे ये पहला मौका नहीं है जब मुलायम ने अखिलेश यादव को अपने बयान से असहज किया है. इससे पहले 16वीं लोकसभा के आखिरी दिन मुलायम ने सदन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आशीर्वाद देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबके साथ मिलजुलकर काम किया है, सबको साथ लेकर चलने का प्रयास किया है। प्रधानमंत्री मोदी को हमारी बधाई और हमारी कामना है कि वह फिर से चुनकर आएं और प्रधानमंत्री बनें। मुलायम के इस बयान को बीजेपी ले उड़ी और लगातार अखिलेश पर हमला करने के लिए इसका इस्तेमाल भी कर रही है। ऐसे में मुलायम का नया बयान अखिलेश यादव की मुश्किलें और बढ़ा सकता है।